खबर (News)

जब 35 बरस पहले गांव का यह शिक्षक, कलेक्टर बन कर पहुंचा…

आज हम आपको एक शिक्षक के बारे में बताने जा रहे हैं, राजेंद्र खनूजा पिथौरा । महासमुंद जिले के पिथौरा विकासखंड के सराईपाली के ग्रामीण उस समय हैरान रह गए जब 35 बरस पहले गांव का यह शिक्षक अब कलेक्टर बन कर आया है।

महासमुंद जिले के पिथौरा विकासखंड मुख्यालय से कोई 8 किलोमीटर दूर स्थित सरायपाली के ग्रामीण गुरुवार को उस समय हैरान हो गए जब गौठान निरीक्षण के लिए पहुंचे जिला कलेक्टर डोमन सिंह ग्राम की गलियों में घूमते हुए पुराना स्कूल ढूंढ रहे थे।

इस दौरान ग्राम के कुछ बुजुर्गों ने उन्हें पहचान लिया कि वह 35 बरस पहले इसी ग्राम में शिक्षक थे।

आज गुरुवार का दिन समीप के ग्राम सरायपाली निवासियों के लिए उत्साह से भरपूर रहा।आज अनायास ही उनके बीच एक ऐसे शख्स सामने थे जो कि आज कलेक्टर हैं परंतु कोई 35 वर्ष पूर्व इसी ग्राम में शिक्षक थे। इस संबंध में ग्रामीण बताते हैं कि वर्तमान में नव पदस्थ जिलाधीश इसी गांव में बच्चों को पढ़ाते थे अब उस गांव का ही नहीं बल्कि पूरे जिले के कलेक्टर बन गए हैं इससे और अधिक खुशी मिल पाना ग्रामीणों के लिए नहीं थी।

ग्रामीण बताते हैं कि कोई 35 साल पहले 1987 में महासमुंद के वर्तमान कलेक्टर डोमन सिंह ठाकुर इस प्रोग्राम में शिक्षक थे। गुरुवार को पिथौरा ब्लाक के कुछ ग्रामों में गौठान देखने पहुंचे कलेक्टर ने समीप के ग्राम सरायपाली का नाम सुनते ही वहां जाने की इच्छा व्यक्त की।

कोहाकूड़ा से लगे ग्राम सरायपाली में पहुंचकर ग्रामीणों से मुलाकात करने उन्होंने चौपाल लगाई। इस समय तक किसी को यह पता नहीं था कि इस गांव में जो कलेक्टर चौपाल कार्यक्रम में ग्रामीणों से रूबरू हो रहे हैं वह कभी यहां बच्चों को पढ़ाते थे।
इस गांव में जो कलेक्टर चौपाल कार्यक्रम में ग्रामीण से रूबरू हो रहे हैं वह कभी यहां बच्चों को पढ़ाते थे…

वास्तव में कलेक्टर साहब की स्मृति में उनका शिष्कीय कार्य छिपा था. जिसके कारण वे मन ही मन लालयत हो रहे थे कि वह अब वहां के हालात देखें। इसी बहाने उन्होंने ग्रामीणों से रूबरू होकर उनकी समस्याएं भी सुनी तथा उनका हाल-चाल भी जाना। इसके पूर्व उन्होंने आज से करीब 35 साल पहले खपरैल वाले एक मकान को ढूंढते नजर आए जो किसी समय में स्कूल हुआ करता था और वहां उन्होंने एक शिक्षक के रूप में अपनी सेवाएं दी थी गांव के बुजुर्गों से मिलकर अपने बीते दिनों की यादें भी ताजा करते नजर आए। कलेक्टर साहब के स्मृति सुन ग्रामीण बहुत खुश हो गए।
अफसरों को निर्देश..

ग्रामीण ने बताया कि कलेक्टर द्वारा चौपाल के माध्यम से मिली जानकारी के बाद विकासखंड एवं तहसील के कुछ विभाग के अधिकारियों को समस्याओं के निराकरण हेतु निर्देशित भी किया श्री सिंह के साथ स्थानीय एसडीएम राकेश कुमार गोलछा भी मौजूद थे।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top