Breaking News
Home / खास / महज 4 महीने पहले हुई थी गज्जन सिंह की शादी ,कश्मीर में आतंकी हमले में शहीद हुए देश के 5 वीर जवान हमेशा याद आएंगे

महज 4 महीने पहले हुई थी गज्जन सिंह की शादी ,कश्मीर में आतंकी हमले में शहीद हुए देश के 5 वीर जवान हमेशा याद आएंगे

दोस्तों हजारों लाखों नौजवान सरहदों पर हमारे देश की रक्षा में तैनात हैं, और उनके जीवन का कोई भरोसा नहीं के अगले पर क्या हो जाए, उन माता-पिता को सलाम है जो अपने बच्चों को यह जानते हुए भी देश की रक्षा में तैनात करते हैं, हाल ही में जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले से सोमवार सुबह आतंकियों के एनकाउंटर में सुरक्षाबलों के पांच जवान शहीद हो गए,

इस बुरी खबर के बाद देश में मातम छ गया,हर हिन्दुस्तानी का कौन खुल गया ।उनमें एक जूनियर कमिशंन्ड ऑफिसर (जेसीओ) भी थे, आतंकवादियों की मौजूदगी की खुफिया सूचना मिलने के बाद तड़के सुरनकोट में डीकेजी के नजदीक एक गांव में अभियान शुरू किया गया था. सेना ने इलाके की घेराबंदी कर दी और फिर उसके बाद दोनों तरफ से गोलिया चलने लगी, इसमें हमारे जवान भी शहीद हो गए,शहीद होने वाले जवानों के नाम गज्जन सिंह, वैसाख एच, जसविंदर सिंह, मनदीप सिंह बहादुर, सरज सिंह हैं.


शहीद जवान नायक सूबेदार जसविंदर सिंह, हरभजन सिंह के बेटे हैं. वह गांव मनन तलवंडी के रहने वाले हैं. जम्मू-कश्मीर में आतंकवादियों के साथ मुठभेड़ में वे शहीद हो गए. जसविंदर के घर में दो भाई हैं और उनके पिता की मौत हो चुकी है. वह एक कप्तान के रूप में सेना से सेवानिवृत्त हुए थे. बड़े भाई राजिंदर सिंह शादीशुदा हैं. उनकी पत्नी सुखप्रीत कौर के दो बच्चे थे. सूत्रों के मुताबिक शहीद का पार्थिव शरीर मनन तलवंडी भेजा जाएगा, जहां पर पूरे सम्मान के उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

शहीद हुए जवानों में से एक नांम मनदीप सिंह है,वह पंजाब के गुरदासपुर के गांव चट्ठा के रहने वाले थे.ये सिर्फ 30 साल के थे,शहीद मनदीप सिंह अपने पीछे अपनी बुजुर्ग माता मनजीत कौर, पत्नी मनदीप कौर और दो बेटों को छोड़ गए. शहीद मनदीप सिंह की माता मनजीत कौर ने कहा कि मेरा पुत्र दुनिया से चला गया है, लेकिन मुझे बहुत मान है अपने 6 अक्टूबर को मनदीप सिंह का जन्मदिन था.पर किसी को क्या पता था ये उनका आखिरी जमन दिन होगा, शहीद मनदीप सिंह का एक बेटा मंताज सिंह 4 साल और दूसरा पुत्र गुरकीरत सिंह सिर्फ 39 दिन का है.चचेरे भाई गुरमुख सिंह और गांव के रहने वाले गुरविन्दर सिंह ने कहा कि मनदीप सिंह एक बहुत अच्छे फुटबॉल और बास्केट बॉल के खिलाड़ी थे. कुछ दिन पहले ही मनदीप सिंह का फोन आया था और वह खुश थे. उस दौरान मनदीप सिंह ने वीडियो कॉल के पर बात की थी और मनदीप एक पहाड़ी पर चढ़े हुए थे. उन्होंने कहा कि मनदीप सिंह का भाई जगरूप सिंह फौज में है और एक भाई दोहा-कतर में है. मनदीप सिंह जब भी गांव आते थे या फिर फोन करते थे तो कहते थे कि गांव में शहीद के नाम पर कोई गेट नहीं है.

इन 5 शहीदों में 1 जवान से गज्जन सिंह आतंकवादियों को ढेर करने के लिए वह भी इस एनकाउंटर टीम में शामिल थे जवान गज्जन सिंह रूपनगर जिले के पचपदरा गांव se थे, यह काफी दुखद है केवल 4 महीने पहले इनकी शादी हुई थी उनके परिवार में पत्नी हरप्रीत कौर हैं.


सरज सिंह भी मोर्चा संभालते हुए शहीद हो गए यह उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले के रहने वाले थे, हाल ही में पूछने के शोरूम कोटला के में आतंकवादियों के छिपे होने की सूचना मिली थी जिसके बाद इन जवानों ने शराब की तलाशी अभियान चलाया इसी बीच जवानों पर छुपकर गोलाबारी करते हुए इन आतंकवादियों ने कायरता का सबूत दिया जिस शरण शरण सिंह जी शहीद हो गए.

दोस्तों इन 5 शहीदों में केरल के वैशाख एच कोलम भी शहीद हुए हैं एनकाउंटर के समय सैन्य प्रवक्ता ने कहा कि आतंकवादियों ने तलाशी दलों पर भारी गोलाबारी की जिससे जीसीयू और चार अन्य गंभीर रूप से घायल हो गए और बाद में यह इनमें से कोई भी बच ना सका और सभी शहीद हो गए. सेना के बयान में कहा गया गंभीर रूप से घायल g.s. और 4 जवानों को निकटतम चिकित्सा सुविधा ले जाया गया लेकिन मैं शहीद हो गए

 

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *