Breaking News
Home / खबर / बिग बी ने कम उम्र में क्यों ब्याह दी बेटी श्वेता, वजह जानकर मुंह रह जाएगा खुला

बिग बी ने कम उम्र में क्यों ब्याह दी बेटी श्वेता, वजह जानकर मुंह रह जाएगा खुला

बॉलीवुड एक्टर अमिताभ बच्चनऔर उनकी बेटी श्वेता बच्चन नंदा की बॉन्डिंग किसी से छिपी नहीं है। दोनों के सोशल मीडिया हैंडल पर आपको ऐसी कई तस्वीरें देखने को मिल जाएंगी जिसमें बाप-बेटी के बीच का प्यार साफ़ झलकता हुआ नजर आ रहा है। लेकिन क्या आप जानते हैं कि अमिताभ बच्चन की लाडली जब महज 21 साल की थीं तो उन्होंने उनकी शादी बिजनेसमैन निखिल नंदा से कर दी थी।


ये तो हम सभी जानते हैं कि बॉलीवुड गलियारे में यूं जल्दी शादी करना सही नहीं माना जाता, वह भी ऐसे टाइम जब श्वेता काफी कम उम्र की थीं। हालांकि, श्वेता की जल्दी शादी करने पर कई तरफ की अफवाहों ने भी जन्म लिया था। कुछ रिपोर्ट्स की मानें तो बिग बी ने श्वेता बच्चन की शादी इसलिए जल्दी कर दी थी क्योंकि वह शादी से पहले ही प्रेग्नेंट थीं। जबकि कइयों का कहना है कि उनकी शादी इसलिए जल्दी हुई थी क्योंकि उनका पहले से ही निखिल नंदा के साथ अफेयर चल रहा था।


हालांकि, यह बातें कितनी सच और झूठ हैं यह तो बिग बी और श्वेता बच्चन ही जान सकते हैं। लेकिन आज भी भारतीय समाज में ऐसा प्रचलन हैं जहां घर में शादी के लायक बड़े बेटे को रोककर छोटी बेटी के हाथ पीले कर दिए जाते हैं। खैर, बदलते वक़्त के हिसाब से बात करें तो आज के समय में बेटियों को शादी के लिए मनाना पड़ता है। लेकिन पहले ऐसा नहीं था।


पहले तो लड़की के 12वीं पास कर लेने के बाद से ही पिता को उसकी शादी की चिंता सताने लगती थी, कभी-कभार तो कोई अच्छा रिश्ता हाथ से न निकल जाए इसलिए मां-बाप बीच में ही उसकी पढ़ाई रोककर उसके हाथ पीले कर देते थे।


हालांकि, आज के समय में थोड़ी चीजें जरूर बदली हैं लेकिन बेटी को उसके घर जल्द से जल्द भेजने वाली परंपरा का विकास जस का तस ही है। लेकिन कभी आपने इस बात पर ध्यान दिया है कि क्यों आज भी इस संदर्भ में मां-बाप की मानसिकता ज्यों की त्यों है।इन बातों से समझिए इसका कारण….

* हर मां-बाप का एक ही सपना होता है कि वह अपनी बेटी की शादी अपने से ऊंचे घर में करें। ऐसे में कभी-कभार अच्छा रिश्ता भी इस सोच को जन्म देता है।

* बेटी को सकुशल उसके घर भेजने की जिम्मेदारी से बड़ी मां-बाप के लिए कोई दूसरी जिम्मेदारी नहीं है। ऐसे में बड़े बेटे से पहले बेटी को विदा करने के पीछे का असल तात्पर्य यही है कि भाभी के आने से पहले बेटी अपने घर सेटल हो जाए।

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *