अवर्गीकृत (Uncategorized)

सरकार के खिलाफ अन्ना करेंगे आमरण अनशन मनाने के लिए केंद्रीय मंत्री जा रहे हैं रालेगण सिद्धि…

आज हम आपको जनि मानी हस्ती अन्ना हज़ारे जो की समाज सेवी है उनको कौन नहीं जानता . समाजसेवी अन्ना हजारे किसान आंदोलन के बीच केंद्र सरकार के खिलाफ 30 जनवरी को आमरण अनशन करने जा रहे हैं .

अन्ना हजारे का कहना है कि केंद्र सरकार से 2018 से विनती कर रहे हैं की स्वामीनाथन आयोग की सिफारिश लागू की जाए, लेकिन केंद्र सरकार ने इस मांगों पर कोई गौर नहीं फरमाया नहीं दिया इन्हीं वजहों से 30 जनवरी से आमरण अनशन करने जा रहे हैंअन्ना हज़ारे . सरकार के खिलाफ रालेगण सिद्धि के यादव बाबा मंदिर में होगा आमरण अनशन केंद्रीय सरकार उन्हें मनाने की पुरजोर कोशिश कर रही हैं.

29 जनवरी को रालेगण सिद्धि पहुंचेंगे केंद्रीय कृषि राज्य मंत्री कैलाश चौधरी अन्ना हजारे को मनाने आमरण अनशन रोकने के लिए महाराष्ट्र विधानसभा के पूर्व अध्यक्ष हरीभाऊ बागडे पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस सहित बीजेपी नेता राधा कृष्ण विखे पाटील अहमदनगर के सांसद सुजय विखे पाटील और राज्य के विरोधी दल के नेता अन्ना को मनाने रालेगण सिद्धि पहुंच चुके हैं फिर भी कोई बातचीत का हल नहीं निकल सका अन्ना स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशें एमएसपी की मांग पर अड़े है .

दिल्ली में गिरिराज महाजन और देवेंद्र फडणवीस कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर से बात कर एक ड्राफ्ट तैयार कर अन्ना हजारे को सौंप दिया उसको देखने के बाद उसमें जो भी खामियां है अन्ना हजारे उसे कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर को देंगे सरकार अगर मान गई तो अन्ना हजारे अपना अनशन स्थगित कर वह पीछे हैट सकते हैं.

किसानों का आंदोलन भी है जारी…

पिछले 2 महीने से किसान आंदोलन तीन कृषि बिलों का विरोध कर रहे हैं 26 जनवरी दिल्ली के लाल किले के आसपास हुई हिंसा के बाद अन्ना ने आमरण अनशन का ऐलान कर दिया .ऐसे में केंद्र सरकार की मुश्किलें बढ़ सकती है.

अन्ना हज़ारे की अपील …

उन्होंने अपने कार्यकर्ताओं और समर्थकों से पुरजोर अपील की है आंदोलन में कदापि हिंसा नहीं करनी है .26 जनवरी को हुई हिंसा का दुख जताते हुए 26 जनवरी को किसान आंदोलन में हुई हिंसा का हमें बेहद दुख है, मैं हमेशा अहिंसात्मक व शांतिपूर्ण आंदोलन चाहता हूं पिछले करीब 40 वर्षो से मैंने आंदोलन किया है लोकपाल आंदोलन में लाखों लोग शामिल हुए किसी भी आंदोलन की शक्ति होती है शांति अहिंसा किसी ने एक पत्थर तक नहीं मारा गांधी जी ने हमें यही सिखाया है.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top