खबर

बर्थडे से 1 दिन पहले इकलौते बेटे की मौत,माता-पिता कारोबार की जिम्मेदारी सौंपकर देना चाहते थे सर प्राइस…….

भाग्य का कुछ नहीं पता के भाग्गय कब कौन सा दिन दिखा दे. खुशियों के माहौल में कब मातम छा जाए कुछ नहीं पता. अभी ऐसा ही एक मामला सामने आया दिल दहला देने वाला जो आज हम आपको बताएंगे. 31 जुलाई भरतपुर में 1 अगस्त को अरिहंत जैन का जन्मदिन था. राजस्थान की लेक सिटी उदयपुर में जन्मदिन पार्टी रखी गई थी फिर मध्य प्रदेश के उज्जैन में महाकाल के दर्शन करने और जन्मदिन के खास मौके पर ही उसे कारोबार की जिम्मेदारी सौंपकर सरप्राइस भी देना चाहता था परिवार. लेकिन भगवान को कुछ और ही मंजूर था भाग्य में कुछ और ही लिखा था.जन्मदिन से 1 दिन पहले एकलौता बेटा इस दुनिया को छोड़ कर चला गया.

राजस्थान के भरतपुर जिले की कामा तहसील निवासी अरिहंत जैन की शुक्रवार को देर रात टोंक सड़क हादसे में मृत्यु हो गई.अरिहंत के साथ ही उसके तीन दोस्त भी थे उनकी भी जान चली गई हादसे में शनिवार को चारों दोस्तों के शव कामा पहुंचे तो पूरे इलाके में चीख-पुकार मच गई. बाजार बंद रहे खबरों के अनुसार भरतपुर कामा के 5 व्यापारी दोस्त कार में सवार होकर घूमने के लिए निकले थे.इन्हें उदयपुर से उज्जैन जाना था,

रास्ते में टोंक जिले के देवली के पास शुक्रवार देर रात कार एक ट्रक से टकरा गई चारों दोस्त अरिहंत जैन, दिवाकर शर्मा,हेमंत अग्रवाल और कृष्णा सैनी की मौत हो गई जबकि पांचवा दोस्त घायल हो गया.उसकी हालत गंभीर बताई जा रही है.बता दें कि अरिहंत जैन कामा के कुमकुम जैन सुधा का इकलौता बेटा था इसके एक बहन महक है.एकलौते बेटे व कामा के चार दोस्तों की मौत से हर तरफ शोक की लहर दौड़ गई.व्यापारियों ने सुबह से ही अपने प्रतिष्ठान नहीं खोले.शव यात्रा में बहुत बड़ी संख्या में लोग शामिल हुए.आपकी जानकारी के लिए बता दें रविवार को अरिहंत जैन का जन्मदिन था वह B,Aकी पढ़ाई कर रहा था.कुमकुम जैन मां सुधा  उसे जन्मदिन के तोहफे के रूप में कारोबार की जिम्मेदारी सौंपने वाले थे और उसका जन्मदिन मनाने की तैयारियों में लगे थे. इसी बीच अरिहंत की सड़क हादसे में मौत हो गई.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top