बॉलीवुड

सालों बाद अब अपने पुराने घर पहुंचे धर्मेंद्र ,वीडियो शेयर कर बताई बचपन की यादें

दोस्तों बॉलीवुड इंडस्ट्री के जाने माने अभिनेता धर्मेंद्र को चाहने वाले बहुत हैं और वह हमेशा ही सोशल मीडिया पर एक्टिव रहते हैं धर्मेंद्र को काफी लोग फॉलो करते हैं, धर्मेंद्र अभी भी फिल्में कर रहे हैं जिससे उनके फैंस काफी खुश हैं, धर्मेंद्र अपना ज्यादा से ज्यादा समय अपने फार्म हाउस पर पेड़ पौधे और पशु पक्षियों के साथ बिताना पसंद करते हैं और अक्सर इसकी वीडियो भी शेयर करते हैं फिलहाल वह फिल्म की शूटिंग के लिए बिजी हैं.

धर्मेंद्र ने अपने जीवन में लगभग 400 फिल्मो में धर्मेंद्र ने काम किया है, और अपना पूरा जीवन सिर्फ शूटिंग को ही दिया है ऐसे में जब आज धर्मेंद्र समय निकलकर अपने पैतृक गांव घर पहुंचे तो वो भावुक हो गए और उन्होंने एक वीडियो भी शेयर की है बॉलीवुड लीजेंड धर्मेंद्र ने आज विनय पाठक द्वारा होस्ट किए गए एक टीवी शो हर घर कुछ कहता है से एक पुरानी क्लिप साझा की है। अभिनेता शो में एक अतिथि थे और कार्यक्रम के हिस्से के रूप में लुधियाना के साहनेवाल गांव में अपने पैतृक घर गए थे।।

यें लम्हा धर्मेन्द्र के लिए काफ़ी भावुक. करने वाला था.मकान की तस्वीर के साथ वे लिखते हैं कि मेरे बाबू जी का घर, इस दर से आते जाते, उसके दर पर माथा टेकते. दुआएं मांगते गुजरता था मैं. आभारी हूं. उसने सुन ली. इस दर ने बड़े प्यार से आर्शीवाद देकर विदा किया था. ये घर मेरे बाबुजी का घर. बचपन गुजरा था यहां. बहुत याद आता है दोस्तों.भावुक अदांज में धर्मेंद्र ने बताया कि इस पुराने घर की उन्हें आज भी याद आती है. सफलता के इस मुकाम पर पहुंचाने में इस घर का बड़ा योगदान है. धर्मेंद्र अपने माता और पिता से बहुत प्यार करते थे. उनका कहना था कि आज जो कुछ भी वे हैं उसमे माता पिता के आर्शीवाद को बहुत बड़ा योगदान है,

धर्मेंद्र, विनय पाठक को अपने माता-पिता और बचपन के बारे में बता रहे है। वह विनय को अपने बचपन और परिवार की तस्वीरें दिखाते हुए उनके बारे में बताते हैं।इसमें धर्मेंद्र को विनय और शो के दर्शकों के साथ बचपन की कहानी साझा करते हुए दिखाया गया है। वह बताते हैं कि उन्होंने और उनके भाई ने एक बार लड़ाई में एक कुर्सी तोड़ दी थी और उन्हें डर था कि पता तो उनके पिता उन्हें मार देंगे। दोनों भाइयों ने उसे बांध दिया और बड़े करीने से अपने ड्राइंग रूम में रख दिया। उनकी मौसी, जो दिखने में थोड़ी भारी थीं, एक पारिवारिक समारोह के दौरान उनसे मिलने गईं और कुर्सी पर बैठ गईं। जब उनके पिता को पता चला कि कुर्सी टूट गई है, तो उन्होंने इसका आरोप चाची पर लगाया।

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top