बॉलीवुड

उर्फी जावेद ने रिश्तेदारों से हुए गंदे व्यहवार पर पहली बार तोड़ी चुप्पी ,बोली ‘वो मेरे कपडे फाड़ देते थे आज सेल्फी के लिए तड़पते हैं

उर्फी जावेद  सोशल मीडिया पर काफी ज्यादा एक्टिव रहती हैं और इसी कारण काफी पॉपुलर भी है.अक्सर ही ट्रोल भी होना पड़ता है  उनके ड्रेस को लेकर. अपनी बोल्डनेस के कारण सोशल मीडिया पर सुर्खियों में रहती हैं. उर्फी जावेद ने अपनी पापुलैरिटी को पूरा श्रय सोशल मीडिया पैपराजी को देती हैं.

 

इंडिया एक्सप्रेस  के साथ बातचीत में उर्फी जावेद ने कहा अगर उनका बस चलता तो वह हर पैपराज़ी  को एक घर,गाड़ी गिफ्ट करती. उर्फी जावेद का कहना है मैं पूरा क्रेडिट इन लोगों को देती हूं. जब भी मेरी शादी हो गी यह सभी लोग चीफ गेस्ट होंगे. इंडस्ट्री मे यह बज  बना हुआ है कि ऊर्फी जावेद पैप राज़ी को पैसा देती हैं तब जाकर वह सोशल मीडिया पर इनकी तस्वीरें शेयर करते हैं.

 

 

तमाम अफवाहों पर रिएक्शन करते हुए उर्फी जावेद ने कहा यह लोग आपको हमेशा सवाल करेंगे मैं मर भी जाऊं तब भी वह मुझ पर उंगली उठाएंगे. मैं इन बातों की परवाह अब नहीं करती यह वही लोग हैं जो मुझे कहते थे कि मेरे पास फ्लाइट की टिकट तक खरीदने के पैसे नहीं हैं.

 

उर्फी जावेद जहां भी जाती हैं फोटोग्राफर उन्हें फॉलो कर रहे होते हैं. फैशन में अपना सबसे अच्छा अंदाज दिखाने के लिए फोटोग्राफर को  कुछ फोटो देना क्या वह कभी इन चीजों का प्रेशर महसूस नहीं करती हैं. इस पर भी उर्फी जावेद ने कहा, “सच कहूं तो मुझे तैयार होना बहुत पसंद है. मैं हमेशा से ही एक फैशन नेबल एक्टर बनना चाहती थी. हमेशा अच्छे से ड्रेसअप होती  रही हू. बात खुश होकर फोटो देने की तो मै हमेशा सच्चाई के साथ फोटो देना पसंद करती हूं. अगर मैं कैमरे के सामने रो रही हूं या फिर गुस्सा हूं तो वह भी मैं उसे सच्चाई के साथ देती हूं मैं कोई प्रेशर नहीं लेती.

कपड़ों और परसनेलिटी के लिए उर्फी जावेद कई बार ट्रोल होती है.इसका उन पर क्या असर पड़ता है? इस प्रशन के जवाब मै उर्फी ने कहा,” वह खुद को 1 महीने में 2 दिन देती है जहां वह इन चीजों पर रोती हैं. ऊर्फी जावेद ने अपने रिश्तेदारों के बर्ताव में भी बदलाव देखा है”.उर्फी जावेद ने एक किस्सा याद करते हुए बताया, मेरे पिता के साथ कुछ रिश्तेदार घर आए मेरे कपड़ों को देखने लगे मैं हमेशा से ही ड्रेसअप रहना पसंद करती हूं. अच्छे से ड्रेसअप रहती हूं.रिश्तेदारों को मेरे कपड़े पसंद नहीं आया उन्होंने गुस्से में मेरे कपड़ों पर कैची जला दी. कैची से मेरे न जाने कितने कपड़े काट दिए. उस दिन मैंने तय किया मैं अपने सारे कपड़े फिर से तैयार करूंगी और आज वही रिश्तेदार मेरे साथ सेल्फी लेना चाहते हैं.उर्फी जावेद करिश्मा कपूर और उर्मिला मातोंडकर फैशन वर्ल्ड में इंस्पिरेशन रहे. 90 के दशक में उर्फी जावेद के पास इंटरनेशनल फैशन को देखने को कोई रास्ता ना था. घर पर टीवी भी नही थी. ना ही मैगज़ीन आती थी.इंटरनेट तक नहीं हुआ करता था. तब ऊर्फी जावेद ने बताया हम बेशक आज भी महंगे कपड़े खरीदना अफोर्ड नहीं कर सकते. लेकिन खुद के कपड़े बना जरूर सकते हैं. ऐसे में उर्फी जावेद ने एक्सपेरिमेंट करना बेहतर विकल्प चुना.

To Top