News

चीन ने तोड़ा डोकलाम समझौता, अब भूटान में जो किया वो बढ़ा दिया भारत की चिंता!

पूरी दुनिया कॉरॉना जैसे महामारी से जूझ रही है.अपने नागरिकों जी जिन्दगी बचाने के प्रयास में लगी हुई है.लेकिन दुनिया में कुछ देश ऐसे भी है जो अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आ रहे है और बार बार वो काम कर रहे है जिस से देश दुनिया में तनाव हो.आज कोरोना को पूरी दुनिया में होने का अगर कोई देश जिम्मेदार है तो वो चीन है.चीन जहा एक ओर व्यापार की बाते करता है वही दूसरी ओर अपने नापाक इरादे से शांति भांग करने की कोशिश करता है.भारत और चीन का विवादो में गिरे डोकलाम की लेकर 2017 में काफी तनातनी हुई थी.लेकिन भारतीय सैनिकों के शौर्य और पराक्रम के आगे चीन कि एक नए चली ओर उसे पीछे हटना पड़ा था.चीन की इसके बाद से बोखलाहट बड़ी हुई है.

आपको बता दे डोकलम पहाड़ी क्षेत्र है जो भूटान के पास है.चीन अपनी नीतियों से बाज नहीं आ रहा था और उस एरिया पर कब्जा करना चाहता था.भारत ने अपने कूटनीतिक मित्र भूटान का साथ देते हुए चीन को पीछे धकेल दिया.भारत के लिए डोकालाम एरिया काफी महत्वपूर्ण है क्युकी भारत को पूर्वी राज्यो से जोड़ने वाली चिक नेक से जानी जाने वाली सड़क के करीब है.अगर चीन वहां अधिकार कर लेता है तो भारत के लिए खतरा बढ़ जाएग.भारत और चीन में 2017 के डोकलाम विवाद के बाद दोनों देशों में एक समझौता किया गया था.उसके अनुसार चीन को पुन अपनी सीमा के बाहर जाना होगा.चीन ने उस समय तो राजी हो गया था.किन्तु हाल की दिनो में चीन वापस अपनी नापाक इरादों से उस क्षेत्र की और बढ़ रहा है.सूत्रों के अनुसार सैटलाइट तसवीर से साफ दिख रहा है चीन ने वहा बस्ती बसा ली है.ओर वहा पर रोड का निर्माण कर रहा है.

भारत के लिए चिंता की बात है क्युकी अगर चीन उस पर कब्जा कर लेता है तो भारत के पूर्वी राज्यों से कनेक्ट करने वाली कोरिडोर के नजदीक आ जाएगा.सुरक्षा के नजरिए से देखें तो यह क्षेत्र सेंसेटिव जोन में आता है देखना भारतीय सरकार इस पर क्या एक्शन लेती है.डोकलाम क्षेत्र समझौते की बात करे तो भारत और चीन में समझौते के तहत भारत को डोकलाम नाला और चीन को अपा चू को पार करने की अनुमति नहीं होगी.लेकिन सैटलाइट तस्वीरों में साफ तौर पर नजर आ रहा है कि चीन अपने नापाक इरादे से उस एरिया को पार करते हुए एक बस्ती का निर्माण किया है वहीं रोड़ मार्ग का निर्माण कर रहा है

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top