Breaking News
Home / खबर / धोनी भी पाल रहे हैं कड़कनाथ मुर्गे, 1000 रुपये KG बिकता है मांस, आप भी कर सकते हैं कमाई

धोनी भी पाल रहे हैं कड़कनाथ मुर्गे, 1000 रुपये KG बिकता है मांस, आप भी कर सकते हैं कमाई

कड़कनाथ मुर्गा की एक विशेष प्रजाति है जिसका रंग पूरी तरह से काला होता है और सबसे बड़ी बात है कि इसका मांस भी काला और खून भी काला होता है जो कि इसकी विशेष खासियत है इस प्रकार के मुर्गो को भारत के छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश में अधिक पाला जाता है और राज्यों में इसे GI टैग दिया गया है यानी विशेष दर्जा दिया गया है. कड़कनाथ मुर्गे का मांस खाना सेहत के लिए विशेष फायदेमंद होता है विशेष तौर पर डायबिटीज रोगियों के लिए कड़कनाथ मुर्गा पालन के लिए आपको सरकार की तरफ से विभिन्न प्रकार के सरकारी योजना का लाभ दिया जाएगा छत्तीसगढ़ में सरकार आपको 53000 की सरकारी सहायता देगी इस प्रकार के बिजनेस को शुरू करने के लिए.

इस योजना के तहत सरकार आपको 30 मुर्गो के पालन के लिए शेड और साथ में 6 महीने का दाना भी आपको प्रदान करेगी इसके अलावा जो भी टीकाकरण का खर्च होगा सरकार खुद ही उठाएगी .केंद्र सरकार ने भी भारत के विभिन्न राज्यों में नेशनल लाइव स्टॉक मिशन और के तहत विभिन्न प्रकार के योजना के द्वारा लोगों को कड़कनाथ मुर्गा पालन करने के लिए आर्थिक सहायता प्रदान कर रही है .कड़कनाथ मुर्गा पालन से कमाई कितनी होगी कड़कनाथ मुर्गी के चूजे का रेट बाजार में70 से लेकर100 के बीच में है,

इसके अलावा अगर आप कड़कनाथ मुर्गी के अंडे खरीदने के लिए बाजार जाएंगे तो आपको इसके लिए 20 से30 खर्च करने पड़ेंगे . सबसे बड़ी बात है कि कड़कनाथ मुर्गा का मांस बाजार में 700 से लेकर 1000 रुपए प्रति किलो के हिसाब से बेचा जाता है इस प्रकार हम कह सकते हैं कि रघुनाथ मुर्गा पालन से आप महीने में लाखों रुपए की कमाई आसानी से कर सकते हैं.

कड़कनाथ मुर्गा दुनिया भर में अपनी खास पहचान बना चुका है.यह मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ की शान है.आदिवासी इलाके में यह कालीमासी के नाम से मशहूर है.इस मुर्गे की खासियत है कि यह पूरी तरह से काला होता है और इसका मांस सेहत के लिए बेहद फायदेमंद माना जाता है.अपने औषधीय गुणों के चलते कड़कनाथ मुर्गे की खासी मांग रहती है और इसी वजह से कड़कनाथ मुर्गा पालन कमाई का बेहतर जरिया है.

 

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *