Breaking News
Home / खबर / किसान पिता की बेटी तपस्या परिहार जिसने कोचिंग के बगैर की UPSC की तैयारी, आज है IAS

किसान पिता की बेटी तपस्या परिहार जिसने कोचिंग के बगैर की UPSC की तैयारी, आज है IAS

दोस्तों हम आपके लिए आए दिन कोई न कोई ऐसी मोटिवेशन की स्टोरी लेकर आते हैं जिससे आपको कभी ऐसा ना लगे कि जीवन में कुछ भी करना नामुमकिन है. आज समाज में कई ऐसे उदाहरण मौजूद हैं जिन्हें देखकर हम अपने जीवन को आसान बना सकते हैं. और इनसे हमें जीवन में कुछ कर गुजरने प्रेरणा भी मिलती है, आज हम आपको ऐसी ही एक सफलता की कहानी सुनाने जा रहे हैं, यह कहानी मध्य प्रदेश के छोटे से जिले नरसिंहपुर की तपस्या परिहार की है, जिन्होंने कई संघर्षों और परेशानियों का सामना करते हुए अपनी मंजिल को हासिल किया.तपस्या परिहार ने सभी मुश्किलों का सामना करते हुए वर्ष 2017 में यूपीएससी मे दूसरी बार किस्मत अज़मते हुए एग्जाम दिया जिसमें उन्हें कामयाबी हासिल हुई,


तपस्या को इस एग्जाम में 23वी रैंक प्राप्त हुयी. पर तपस्या की राह पार करना आसान नहीं था चलिए जानते हैं कि उन्होंने कैसे उन्होंने अपनी असफलताओं को पीछे छोड़ कर यह सफलता हासिल की.तपस्या एक छोटे से गांव में रहती थी, तपस्या की फैमिली बहुत बड़ी है वह जॉइंट फैमिली में रहती थी, जैसा कि समाज में सोच होती है कि लड़की को पढ़ाऔ मत जल्दी शादी कर लो ज्यादा लड़की को घर से बाहर मत निकालो ऐसी सोच गांव में अक्सर देखने को मिलती है,पर इस मामले में बहुत अच्छी थी गांव में रहते हुए भी उनका परिवार खुले विचारों का है और उनके परिवार ने तपस्या को यें एग्जाम को देने के लिए प्रोत्साहित किया, तपस्या को खुद पर इतना विश्वास नहीं था जितना उनके परिवार को था

तपस्या के परिवार वालों ने उन्हें बहुत हिम्मत बनाए और इस जाम के लिए तैयार किया जब घर वालों का इतना प्रोत्साहन मिला तो तपस्या को भी लगा कि वह यह एग्जाम पास कर सकेंगे क्योंकि तपस्या बचपन से ही पढ़ाई में बहुत अच्छी रही हैं,तपस्या के पिताजी का नाम विश्वास परिहार है और वे एक किसान हैं। इनकी माता ज्योति परिहार सरपंच हैं। आपको बता दें कि तपस्या छोटी उम्र से ही पढ़ाई में बहुत होनहार थी।

उन्होंने सेंट्रल स्कूल से पढ़ाई की और 10वीं तथा 12वीं दोनों कक्षाओं में अपने स्कूल की टॉपर रही.उन्होंने नेशनल लॉ सोसाइटीज़ लॉ कॉलेज, पुणे से लॉ में ग्रेजुएशन की पढ़ाई पूरी की और फिर UPSC की परीक्षा की तैयारी के लिए दिल्ली रवाना हो गयीं, बाद में वहीं रह कर पढ़ाई की.


दोस्तों आपको जानकर आश्चर्य होगा इस परीक्षा को पास करने में जो सबसे बड़ी मोटिवेशन बनी वह है तपस्या की दादी जी देव कुंवर परिहार. तपस्या की दादी हमेशा ही तपस्या को मोटिवेट करती नहीं और उनका हौसला अफजाई करते हुए कहती कि तुम जरूर इस एग्जाम को पास करोगी. दादी की मोटिवेशन की बातें सुनकर वह अपना संकल्प और धरण कर लेती .

और पढ़ाई में अच्छी तरह से ध्यान लगाती यूपीएससी के एग्जाम के नियमों ने डेढ़ साल रहकर दिल्ली में ही पढ़ाई की. पस्या परिहार (IAS)एक इंटरव्यू में अपनी कामयाबी का मंत्र बताते हुए कहती हैं यूपीएससी के एग्जाम में सफल होने के लिए सेल्फ स्टडी करना बहुत आवश्यक होता है। कोचिंग क्लासेज में कई सारे उम्मीदवार होते हैं इसलिए वहाँ पर अध्यापक हर किसी उम्मीदवार पर ध्यान नहीं दे सकता है,और एकाग्र चित्त होकर पूरे फोकस के साथ परीक्षा की तैयारी अपने बलबूते पर करेंगे तभी आपको सफलता मिलेगी।

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *