Breaking News
Home / बॉलीवुड / अपने आखिरी दम तक निस्वार्थ 26/11 हमले के पीड़ित परिवार की मदद करते रहे थे फारुख शेख

अपने आखिरी दम तक निस्वार्थ 26/11 हमले के पीड़ित परिवार की मदद करते रहे थे फारुख शेख

हमारी बॉलीवुड मे एक से से बढ़कर एक कलाकार हैं जिन्होंने पैसे के दम पर तो कही अपने कैरियर को लेकर हमेशा से सुर्खियों मे रहे हैं लेकिन अगर नज़र डाले पुराने दशक के हीरोज़ पर तो बहुत से ऐसे अभिनेता गुज़रे हैं जिन्होंने नाम शोहरत के साथ एक अच्छे नागरिक की तरह अपने कर्तव्य को भी निभाया और अपने प्रशंस्को को भी निराश नही किया आज के इस लेख मे हम आपको एक ऐसे महान कलाकर के बारेे मे बताने जा रहे हैं जो मंझे हुए कलाकर तो थे ही साथ ही बहुत कोमल स्वभाव वाले व्यक्ति भी थे हम बात कर रहे हैं फारुख शेख की जिन्होंने बहुत सारी सफल फिल्मे भी दी.

अपने ज़माने हैंडसम मेन भी थे वैसे तो उन्होंने काफी सारी फिल्मों में काम किया था मगर सबसे ज़यादा लोकप्रियता उनको रेखा अभिनीत फिल्म उमराव जान से मिली थी अभिनेत्री रेखा के साथ एक और फिल्म बीवी हो तो ऐसी हिट फिल्म साबित हुई थी इसके अलावा अभिनेता फारुख शेख ने 1973 में फिल्म गरम हवा से अभिनय में अपना नाम बनाया था वैसे तो फारूक शेख ने काफी सारी फिल्मों में काम किया मगर जो फिल्में सबसे ज्यादा प्रसिद्ध हुई थी उनमे शतरंज के खिलाड़ी चश्मे बद्दूर और किसी से ना कहना काफी यादगार फिल्में रही और सबसे ज्यादा फारुख शेख अभिनीत गाना तुमको देखा तो यह ख्याल आया आज भी लोगों के जुबा पर रहता है.

फारुख शेख के बारे में और क्या कहा जाए जितने अच्छे अभिनेता रहे उससे भी ज्यादा भी एक अच्छे इंसान थे फिल्मों के अलावा फारुख शेख ने टेलीविजन में भी हाथ आजमाया और काफी सारे धारावाहिकों में भी काम किया ज़ी टीवी पर उनका एक टॉक शो भी आता था जिसमें एक से बढ़कर एक कलाकार आते और अपने पूरे जीवन के बारे में और अपने करियर के बारे में बात करते फारुख शेख के साथ हंसी मजाक करते जो काफी हिट भी रहा था.

मगर फारुख शेख के बारे में बहुत कम लोग जानते होंगे उन्होंने किस प्रकार लोगों की सहायता की आज के इस लेख में हम उनके द्वारा किए गए उदार काम को बताएंगे यह तो सभी जानते हैं 26 11 की घटना को कोई भी नहीं भूल सकता बेहद दुख भरा दिन रहा और आज भी लोग इस घटना को भूल नहीं पाए हैं मगर इस घटना के बारे में न्यूज़ पेपर में पढ़ कर फारुख शेख ने किसी की ऐसी सहायता की जो बहुत सराहनीय है 26 11 के बारे में न्यूज़ पेपर में घटना के बारे में आ ही रहा था तभी एक दिन फारुख शेख ने एक न्यूज़ पेपर में श्रुति कामले के साथ हुए हादसे को पढ़ा उस पूरे लेख में लिखा था,


श्रुति ने अपने पति राजन को इस हादसे में खो दिया था जो की ताज होटल में मेहमानों की सुरक्षा को लेते हुए शिकार हो गए थे फिर पति के जाने के बाद श्रुति अकेले दोनों बच्चों की जिम्मेदारी उठाने लगी राजन का सपना था कि उनके बच्चे मिलिट्री स्कूल में शिक्षा ले मगर इस घटना के बाद सब कुछ खत्म हो गया तब फारूक शेख ने इस बारे में सुनकर श्रुति की सहायता की मगर उसके लिए उन्होंने एक शर्त उसके सामने रखी कि इस पूरे ही काम में कहीं भी उनका नाम ना आए और फिर हर साल वे चुपचाप बच्चों की फीस जमा करते हैं मगर आज कहीं श्रुति को यह दर्द रहता है कि उस महान कलाकार का शुक्रिया भी अदा नहीं कर सकी ।

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *