Breaking News
Home / बॉलीवुड / दिलीप कुमार को खोने के बाद पहली बार सायरा बानो ने बयां किया दिल का हाल बोली हमेशा साथ साथ चलेंगे

दिलीप कुमार को खोने के बाद पहली बार सायरा बानो ने बयां किया दिल का हाल बोली हमेशा साथ साथ चलेंगे

हमारी बॉलीवुड इंडस्ट्री में बहुत सारी ऐसी अमर प्रेम कहानियां गुजरी है जो एक मिसाल बन गई ऐसी जोड़ियां जिनकी लोग मिशाली देते हैं जिन्होंने एक दूसरे का जिंदगी भर साथ निभाया हर मुश्किल घड़ी हर खुशी के पल में एक दूसरे के साथ खड़े रहे फिल्मों में साथ-साथ काम किया और एक अमर प्रेम कहानी बना डाली आज के इस लेख में हम ऐसे ही एक खूबसूरत रिश्ते के बारे में बात करेंगे जिन की जोड़ी पूरे विश्व में प्रसिद्ध है हम बात कर रहे हैं,

सुपरस्टार लेजेंड दिलीप कुमार और सायरा बानो की इन दोनों की प्यारी जोड़ी को लोगों ने बहुत प्यार दिया है मगर दुर्भाग्यवश बॉलीवुड के दिग्गज सुपरस्टार दिलीप कुमार 7 जुलाई 2021 को इस दुनिया से अलविदा ले ली आज वह हमारे बीच नहीं है मगर उनकी यादें हमारी दिल में आज भी है दिलीप को खोने के बाद उनकी बीवी अपने जमाने की सुपरस्टार और बेहद सुंदर अभिनेत्री सायरा बानो दिलीप कुमार के जाने के बाद से लाइमलाइट से दूर रहने लगी,

मगर अब दिलीप कुमार के जाने के 3 महीने बाद पहली बार अपने पति के लिए कुछ बोली और उनके बात करने की एक बहुत बड़ी वजह भी है उनकी आने वाली 56 वी शादी की सालगिरह जो कि इस 11 अक्टूबर को होने वाली है इसी मौके पर उन्होंने दर्शकों का अपने फैंस का शुक्रिया भी अदा किया है अपनी 56 वी वेडिंग एनिवर्सरी पर सायरा बानो ने सोशल मीडिया पर एक लेटर शेयर किया है वैसे तो सोशल नेटवर्किंग की मानें तो सायरा ने इस लेटर के जरिए दिलीप साहब के बारे में कुछ कहा है सोशल मीडिया द्वारा मिली जानकारी के अनुसार अपने हाथ से लिखे गए एक लेटर को सायरा बानो ने सोशल मीडिया पर शेयर किया है,


इस लेटर में लिखा है 11 अक्टूबर को मेरी और मेरे प्यारे कोहिनूर दिलीप साहब की 56वी वेडिंग एनिवर्सरी होती मगर इस मौके पर वह मेरे साथ नहीं है मैं अपने फैंस का दर्शकों का शुक्रिया करना चाहती हूं और उनकी दुआओं के लिए भी और शुक्रगुजार हूं कि वे लोग हमें इतना प्यार देते हैं,इस लेटर में काफी सारी बातें दिल को छू लेने वाली थी.

आगे पड़ते हुए बताते हैं दिलीप कुमार के साथ मेरी शादी अटूट बंधन के साथ की शुरुआत थी और अब चाहे जो भी हो जाए हम एक दूसरे का हाथ हाथों में लिए अपने मन में अपने विचारों के साथ चलती रहे और आगे भी चलते रहेंगे दिलीप साहब सिर्फ मेरे लिए गाइडिंग लाइट थे बल्कि कई जनरेशन के लिए अपनी उपस्थिति अपनी पर्सनैलिटी से राह दिखाने का काम कर रहे थे दिलीप साहब हमेशा के लिए थे वे हमेशा हमारी दुआओं में रहेंगे आमीन.

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *