Breaking News
Home / कुछ हटकर / खेत से गोभी तोड़ने की शानदार जॉब,कंपनी दे रही सालाना 63 लाख रुपए सैलरी

खेत से गोभी तोड़ने की शानदार जॉब,कंपनी दे रही सालाना 63 लाख रुपए सैलरी

ब्रिटेन की एक फर्म कर्मचारियों की भारी कमी से जूझ रही है.इस कमी को दूर करने के लिए बड़े पैमाने पर भर्तियां जारी की गई हैं. फर्म अपने कर्मचारियों को सालाना 62 हजार पाउंड यानी 63 लाख रुपए ऑफर कर रही है.भारी वेतन के चलते ये नौकरियां लोगों को लुभा रही है.दरअसल यह फर्म देश की ज्यादातर सुपरमार्केट में ताजा सब्जियां सप्लाई करती है.कर्मचारियों की कमी के चलते काम पर असर पड़ रहा है.

इस हिसाब से वे महीने का 4800 पाउंड और साल का 62,400 पाउंड (करीब 63 लाख रुपए) वेतन कमा सकते हैं.फर्म ने एक बयान में कहा कि कंपनी कोविड-19 और Brexit के कारण कर्मचारियों की भारी कमी से जूझ रही है.दोनों ने प्रवासी मजदूरों पर नए प्रतिबंध लगा दिया है.कंपनी ने दो अलग-अलग विज्ञापन जारी किए हैं.एक में कहा गया है, ‘कंपनी कैबेज की कटाई के लिए फील्ड ऑपरेटिव की तलाश कर रही है.

वहीं दूसरे विज्ञापन में ‘ब्रोकली की कटाई’ के लिए फील्ड ऑपरेटिव के लिए आवेदन मांगे गए हैं.कंपनी ने कहा कि यह एक फुल टर्म जॉब है.कंपनी ने कहा है कि कर्मचारियों का वेतन इस बात पर निर्भर करेगा कि वह कितनी सब्जियां चुनते हैं.रिपोर्ट में कहा गया है कि फल और सब्जी उद्योग में इतना वेतन असामान्य है.यह इंडस्ट्री में कर्मचारियों की भारी कमी को दिखाता है.जानिए भिन्न भिन्न प्रकार की प्रजातिये जो की बहुत काम आती है,और इसे किसान भाई इस्तेमाल कर सकते है और मुनाफा बढ़ा सकते है.


1. कोपेनहेगेन मार्किट : वर्ष 1909 से इस गोभी की खेती हो रही है. यह गोभी की सबसे आम किस्मों में से एक है. इस किस्म का राउंडहेड फल बड़ा है और 2.5 -3 किलोग्राम वजन का होता है. पौधे रोपाई के 75-80 दिनों में फसल के लिए तैयार हो जाते हैं.

2. प्राइड ऑफ इंडिया : यह मध्यम-बड़े आकार के फलों के साथ गोभी की एक उत्तम प्रजाति है. एक गोभी का वजन लगभग 1.5-2 किलो ग्राम होता है. औसत उपज 20-29 टन प्रति हेक्टेयर है. यह किस्म रोपाई के 75-85 दिनों में कटाई के लिए तैयार हो जाती है.

3. गोल्डन एकर : गोभी की सबसे पुरानी किस्मों में से एक गोल्डन एकर औसत आकार के बल्ब के साथ आता है. इसका औसत कटाई का समय रोपाई के दिन से 60-65 दिन होता है, जिसमें प्रत्येक बल्ब का वजन 1-1.5 किलोग्राम होता है.

4. पूसा सिंथेटिक : यह किस्म सफेद कवर और मध्यम आकार की होती है. किसान प्रति हेक्टेयर 35-46 टनन की औसत उपज प्राप्त कर लेते हैं. लगाने के बाद लगभग 130 दिन का समय परिपक्वता में लगता है.

5. कुइजर: इसके प्रत्येक फल का वजन लगभग 2.5-3 किलो ग्राम तक होता है. रोपाई की तारीख से 75-85 दिनों में यह किस्म हार्वेस्ट के लिए तैयार हो जाती है.

6. समर क्वीन: इस किस्म की गोभी में फ्लैट और कॉम्पैक्ट सिर के साथ हरी पत्तियां होती हैं. एक सिर का औसत वजन 1-1.5 किलो ग्राम है. यह गर्म और आर्द्र जलवायु वाले स्थानों में बढ़ने के लिए उपयुक्त है.

7. पूसा ड्रमहेड: इसके फल बड़े होते हैं. प्रत्येक का वजन लगभग 3-5 किलो ग्राम होता है. बड़े आकार के कारण सर्दियों में परिपक्वता होती है. इसके उत्पादन के लिए एक लंबी सर्दी की आवश्यकता होती है.

8. . सितम्बर अर्ली : प्रत्येक का वजन लगभग 3-5 किलो ग्राम होता है. इस किस्म को तैयार होने में 105 से 115 दिनों का समय लग जाता है.

9. पूसा अगेती: यह किस्म एफ-1 हाइब्रिड है. सिर में ग्रे-हरे पत्ते होते हैं और आकार में मध्यम होता है. यह प्रत्यारोपण की तारीख से 70-80 दिनों में परिपक्वता तक पहुंचता है. औसत वजन 600 ग्राम से 1.5 किलोग्राम तक होता है.

10. पूसा मुक्ता: पूसा का प्रमुख कॉम्पैक्ट है और शीर्ष पर पत्तियों को ढीला कर दिया गया है. प्रत्येक का वजन 1.5-2 किलो ग्राम तक होता है.किसान अपनी जमीन की जांच कराकर इसमें से उपयुक्त किस्म की फसल लगाएं और अच्छी कमाई करें.

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *