Breaking News
Home / बॉलीवुड / भुज,जब 300 महिलाओं की मदद से भारतीय सेना ने नाकाम किए थे पाक के मंसूबे,ये है असली कहानी….

भुज,जब 300 महिलाओं की मदद से भारतीय सेना ने नाकाम किए थे पाक के मंसूबे,ये है असली कहानी….

बॉलीवुड फिल्मी दुनिया में भारत की सच्ची देशभक्ति देश प्रेम की कहानियों पर आधारित फिल्में बनाई जा चुकी हैं. पहले भी बनाई गई हैं और आज भी बनाई जाती है. चाहे फिल्में हो चाहे सीरियल इसको देखना दर्शक पसंद करते हैं और देशभक्ति की भावना और भी ज्यादा दुगनी हो जाती है. इन फिल्मों को देखने के बाद दर्शक और भी ज्यादा देशभक्ति की भावना से भर जाते हैं.अजय देवगन की फ़िल्म भुज भी एक सच्ची घटना पर आधारित फिल्म है. जिसमें भारत पाकिस्तान के बीच में 1971में हुए युद्ध की कहानी को दिखाया गया है.

जब महिलाओं की मदद से पाकिस्तान को मिली थी हार…
फिल्म दिखाया कि किस तरह गांव की महिलाओं ने रनवे बनाने में भारतीय सेना की सहायता की थी. उनकी सहायता से भारत पाकिस्तान पर जीत हासिल करने में सफल रहा था.इस फिल्म के ट्रेलर ने काफी धमाल मचाया दर्शकों मे. अब देखना यह दिलचस्प होगा कि यह फिल्म कितनी सफलता हासिल कर पाती है. अब हम आपको इससे संबंधित कहानी के बारे में बताने जा रहे हैं.

8 दिसंबर 1971 को पाकिस्तान के साब्रे जेंटस ने 14 नापालम बम भारत के बीच स्थित एयर फोर्स बेस पर गिराए थे इस धमाके से भारतीय सेना का रंवे तबाह हो गया था जिसके चलते सारे हवाई ऑपरेशंस में अटकले आ गई. पाकिस्तान की ओर से किया गया दूसरा हमला इतना खतरनाक था कि भारतीय सेना को बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स से मदद लेनी पड़ी थी.


1971 में जो पाकिस्तान के हमले से भुज के एयर स्ट्रिप बर्बाद हो गए थे. तब विजय कर्णिक इसी भुज एयरपोर्ट के इंचार्ज थे लेकिन भारतीय वायुसेना के पास इतने श्रमिक नहीं थे जो एयरस्ट्रिप को  फौरन ही ठीक कर पाए.इसके बाद कैंप के नजदीक स्थित माधोपुर गांव की 300 महिलाओं ने फिर से रनवे बनाने में सहायता की.महिलाओं ने बिना किसी चीज की परवाह किए हुए लगातार मेहनत की और 72 घंटे के अंदर उन्होंने नया रनवे बना दिया था.

ऐसे में विजय कार्णिक ने महिलाओं की मदद से इस रंवे को फिरसे तैयार कर दिया था. लेकिन सुरेंद्ररबन माधवपाया ने महिलाओं को इस काम के लिए जमा किया था और विजय  से मिलवाया था सुरेंद्रबन के रोल में सोनाक्षी सिन्हा नजर आएंगी. वहीं विजय कर्णीक के रोल में अजय देवगन नजर आएंगे यह लड़ाई भारत में सिर्फ अपने सैनिक भी नहीं गांव की इन महिलाओं के सहयोग से भी जीत मिली थी. फिल्म में नोरा फतेही, संजय दत्त और शरद केलकर भी अहम भूमिका निभा रहे हैं.फ़िल्म की चर्चाएं तो काफी समय से थी और बड़े पर्दे पर रिलीज करने की तैयारी होती है. लेकिन बड़े पर्दे पर रिलीज़ नहीं की गई इस महामारी के कारण फ़िल्म को ओटीटी प्लेटफॉर्म्स, डीज़नी हॉटस्टार पर ही रिलीज किया गया है. फ़िल्म का ट्रेलर देखने के बाद तो दर्शक काफी उत्साहित हो गए थे. अब फिल्म के रिलीज के बाद इनको कितनी सफलता मिलती है यह देखने वाली बात है.

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *