Breaking News
Home / खबर / छोटे कद की वजह से हर कोई बनाता था मज़ाक ,अब आरती ने IAS बनकर सबकी करदी बोलती बंद

छोटे कद की वजह से हर कोई बनाता था मज़ाक ,अब आरती ने IAS बनकर सबकी करदी बोलती बंद

इस संसार में बहुत से ऐसे व्यक्ति होते हैं जो अपने रंग रूप कद काठी को लेकर बहुत ही ज्यादा परेशान और चिंतित रहते हैं.उन्हीं में से कुछ सुंदर और अपनी कद काठी पर घमंड भी खाते हैं. वह सदा सोचते हैं कि जिंदगी में कुछ हासिल करने के लिए अच्छा दिखना बहुत जरूरी होता है. अच्छी हाईट गोरा रंग बहुत जरूरी है. पर यह बात बिल्कुल गलत है हर मनुष्य में कुछ ना कुछ खूबी छुपी होती है. जिसको देखने वाले पारखी नजर की जरूरत होती है.हम आज आपसे ऐसी ही एक महिला के बारे में चर्चा करेंगे जिन्होंने इन सभी बातों को गलत साबित करते हुए आज काफी अच्छा मुकाम हासिल किया है. हम आपसे बात करने जा रहे हैं. एक ऐसी लड़की आरती डोगरा के विषय में जिनका कद बहुत छोटा था. लेकिन हौसले काफी बुलंद थे जिससे उन्होंने IAS (आईएएस) अधिकारी पद पाकर अपने छोटे कद से जुड़ी सभी कुंठाओ को मात दे दी.

आपको बता दें उत्तराखंड स्थित देहरादून शहर में आरती डोगरा का जन्म हुआ था. आरती के पिता जी का नाम राजेंद्र डोगरा है जो भारतीय सेना में कर्नल के पद पर कार्यरत हैं.माता का नाम श्रीमती कुमकुम डोगरा वह विद्यालय में प्रधानाध्यापिका है.इनका जन्म जब हुआ था उसी वक्त उनके माता-पिता को डॉक्टर ने कहा था कि आरती को शारीरिक रूप से कमजोरी है माता पिता ने यह निर्णय किया कि अब दूसरी संतान को जन्म नहीं देंगे  और आरती का ही ठीक प्रकार से ध्यान रखकर उसे हर सुख-सुविधा और अच्छी शिक्षा देंगे.

पहले ही प्रयास में बन गई IAS
आरती की शुरुआती शिक्षा उत्तराखंड में देहरादून के ही एक नामी विद्यालय वेल्हम गर्ल्स स्कूल से हुई. फिर उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी लेडी श्री राम कॉलेज ऑफ कॉमर्स में एडमिशन लेकर अर्थशास्त्र से ग्रेजुएशन पूरी की. इसके पश्चात उन्होंने UPSC (यूपीएससी) की परीक्षा की तैयारी शुरू कर दी फिर वर्ष 2006 में पहली बार में उन्होंने IAS (आईएएस )की परीक्षा पहली ही बार में पास करके अपने सारे परिवार वालों का सर गर्व से ऊंचा कर दिया.

 


स्वच्छता के लिए चलाया बंको विकारों अभियान

आरती की पोस्टिंग बीकानेर में हुई तब वहां की स्थिति सुधारने के लिए आरती ने बंको विकारों अभियान चलाया इसके अंतर्गत जिन्होंने वहां के निवासियों से स्वस्थ रखने का अनुरोध किया. खुली जगहों पर शोष जाने को भी कहा. इस अभियान के तहत ग्रामों में शौचालय का निर्माण करवाया इसमें करीब 195 ग्राम पंचायतों को कवर किया गया था. यह अभियान काफी सफल रहा जिसका अनुसरण और ज़िलो द्वारा भी किया गया.देश के प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने भी इस अभियान को बहुत ज्यादा सराहा.आपको बता दें आरती डोगरा की हाइट काफी कम थी इसी कारण जहां भी जाते थे उन्हें तरह-तरह के नकारात्मक बातें सुनने को मिलती थी. उन्होंने इन सब पर ध्यान न देकर अपने लक्ष्य को ही अपना मकसद बना लिया. उसी के लिए मेहनत में लगी रहती थी उन्होंने ठान लिया था अब उन्हें अपने जीवन में कुछ बनकर दिखाना है. ऐसी बुरी मानसिकता वाले लोगों को सबक सिखाना है लोग जान पाए कि हर मनुष्य अपनी काबिलियत के दम पर ऊंचे से ऊंचा मुकाम हासिल कर सकता है. चाहे उसकी शारीरिक संरचना कद काठी में किसी भी प्रकार की कमी हो लेकिन वह किसी से कम नहीं हो सकता. कम हाइट वाले लाखों लोग संसार में हैं अपनी हाइट को लेकर परेशान रहते हैं.हीन भावना का भी शिकार हो जाते हैं. सबको ही आरती डोगरा से सीख लेनी चाहिए आत्मविश्वास के साथ हमेशा तत्पर बढ़ते ही जाना चाहिए. और कभी भी हार नहीं माननी चाहिए. किसी मनुष्य को कम या फिर अधिक नहीं समझना चाहिए.अगर किसी मनुष्य में कोई शारीरिक कमी है किन्हीं कारणों की वजह से तो हर एक व्यक्ति में कुछ ना कुछ कोई खूबी भी छुपी होती है. बस उसको खूबी को देखने और परखने वाले की आवश्यकता होती है.

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *