Breaking News
Home / कुछ हटकर / क्या आपके घर में पुरानी टीवी, रेडियो है ? रेड मर्कूरी होने के नाम पर हो रही ठगी

क्या आपके घर में पुरानी टीवी, रेडियो है ? रेड मर्कूरी होने के नाम पर हो रही ठगी

इन दिनों कबाड़ियों के पास रोजाना 100 से ज्यादा लोग ऐसे आ रहे हैं, जो पुराने शटर वाले टीवी या रेडियो के बारे में पूछ रहे हैं। हैरानी की बात है कि इसके लिए लोग मुंह मांगी कीमत देेने के लिए तैयार है। लेकिन, टीवी या रेडियो खरीदने से पहले एक शर्त रखी जा रही है, जो है लाल ट्यूब की। अब कुछ लोगों को ना तो इस ट्यूब का नाम पता और ना ही इसके बारे कि ये क्या हैं, लेकिन भाईसाहब! ट्यूब तो चाहिए ही, भले ही 50 हजार देने पड़ जाएं। क्या आप भी कुछ ऐसे ही शटर वाले टीवी या रेडियो की तलाश में हैं? अगर हां तो पहले ये खबर पढ़ लीजिए।

इन दिनों सोशल मीडिया पर दावा किया जा रहा है कि तीन दशक पहले बंद हो चुके टीवी-रेडियो (शटर वाले) में रेड मर्करी ट्यूब है, जिसकी मार्केट में लाखों रुपये कीमत है।कई जगह तो इसकी कीमत एक करोड़ रुपये बताई जा रही है। लेकिन, इसकी हकीकत कुछ और ही है। तेजी से फैल रहे मैसेज के बाद पुलिस भी सतर्क हो गई है।

सोशल मीडिया पर रेड मर्करी को लेकर कहा जा रहा है कि 30 से अधिक दशक के पहले के पुराने मोनोक्रोम टेलीविज़न में कंटेनर जैसे छोटे कांच की बोतल में यह तरल पदार्थ होगा। इसको लेकर कई तरह के दावें किए जा रहे हैं। कुछ के अनुसार, रेड मर्करी का उपयोग बम बनाने के लिए किया जा रहा है। वहीं, कुछ दावा कर रहे हैं कि COVID-19 को ठीक करने के लिए रेड मर्करी का इस्तेमाल किया जा सकता है। लेकिन आपको बता दें कि अभी तक ऐसी कोई भी वैज्ञानिक पुष्टि नहीं है।

रेड मर्करी को लेकर कई तरह के दावें किए गए हैं। यह एक तरह का तरल पदार्थ है। इसको लेकर कथित रूप से परमाणु हथियारों के निर्माण में उपयोग की जाने वाली अनिश्चित रचना का एक पदार्थ बताया गया है, हालांकि इसकी पुष्टि नहीं है। टीवी कारोबारी हरमीत सिंह का कहना है कि अगर ऐसा होता तो पुराने टीवी कबाड़ में नहीं बिकते और न ही इनको बनाने वाली कंपनियां बंद होतीं। ज्यादातर ये अफवाहें किसी गिरोह की करतूत हैं जो शायद प्रचार के माध्यम से पैसा कमाना चाहते हैं।

बेंगलुरु के एक सॉफ्टवेयर इंजीनियर को रेड मर्करी के नाम पर 22 लाख की चपत लगी है। ​गिरोह के लोगों ने रेड मर्करी ट्यूब देने ने का वादा किया था। आठ सदस्यीय गिरोह को मालवल्ली पुलिस ने गिरफ्तार किया है और रुपये जब्त किए हैं। वहीं, हैदराबाद एसीपी एसीपी (साइबर अपराध) केवीएम प्रसाद ने कहा कि इस तरह की घटनाओं की अब तक कोई शिकायत नहीं है, लेकिन लोगों को सतर्क रहना चाहिए और ऐसे घोटालों के शिकार होने से बचना चाहिए। अगर ऐसा कोई मामला सामने आता है तो तुरंत कार्रवाई की जाएगी।

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *