Breaking News
Home / खबर / जयपुर से 75 km दूर दबा है 20 अरब का सोना,खनिज की बढ़ती कीमतों ने बढ़ाई आस, छुपा है बहुत बड़ा राज़

जयपुर से 75 km दूर दबा है 20 अरब का सोना,खनिज की बढ़ती कीमतों ने बढ़ाई आस, छुपा है बहुत बड़ा राज़

जयपुर के दौसा जिले के ढाणी बावड़ी क्षेत्र में दवा तांबा और सोना एक बार फिर से खनिज विभाग के रडार में है.सोने की बढ़ती कीमतों ने खनन विभाग को इस भूले बिसरे खजाने की याद दिला दी है.यह क्षेत्र में हुए खनन परीक्षणों के बाद यहां 5 मिलियन टर्न तांबा व सोना पाया गया था.जिसका मार्केट वैल्यू अरब रुपए में आंका जा रहा है.खनिज विभाग यहां नए सिरे से खनन की तैयारी कर रहा है.

ढाणी बांसुरी प्रोजेक्ट पर जीएसआई और एमईसीएल ने खनन परीक्षण कर यहां सोना व तांबे की मौजूदगी की सूचना दी है.एमएससीएल की ओर से अगस्त 2008 के करीब किए गए एक परीक्षण के अनुसार यहां की भूमिगत चट्टाने मंगल वार्ड कंपलेक्स का हिस्सा है.जिसमें ढाणी-बांसदी,आंधी- वापी का क्षेत्र शामिल है.यहां कुल 5.13मिलियन टन के इस खजाने में 1.17 प्रतिशत तांबा मौजूद है और 1.27 ग्राम प्रति टन सोना मौजूद है.

इस क्षेत्र में धातु खनिज होने की संभावना का पता चला है.जैसे ही पता चला था तो जीएसआई ने करीब दो दशक पहले यहां ग्रीन फील्ड प्रोजेक्ट के रूप में खोज शुरू की थी.शुरुआती संकेतों के बाद एमएससीएल ने ब्राउनफील्ड प्रोजेक्ट के रूप में इसे परीक्षण की तौर पर प्रारंभ किया.और 2008 की रिपोर्ट में यहां सोना व तांबा होने की सूचना दी गई.उस वक्त सोने की कीमत बहुत कम होने और यहां के स्वर्ण भंडार के अपेक्षाकृत कम मात्रा में होने के कारण इसे ज्यादा बाइबल नहीं माना गया था.लेकिन फिर भी एक निजी कंपनी ने खनन करने के लिए आवेदन दिया था.निजी कंपनी ने यहां से 10 साल के खनन में 31000 टन तम्बा और 107795 औसत से सोना निकाला जाने की संभावना बताई थी.

आप सरकार खनन विभाग से मिलकर नई नीतियों के तहत नए सिरे से यहां खनन की संभावनाएं तलाश कर रही हैं.अभी अंतरराष्ट्रीय बाजारों में सोने की प्रति टन कीमत करीब 4 अरब 19 करोड 11 लाख.80000 है. इस हिसाब से यहां से निकलने वाली सोने की कीमत लगभग 20000 से भी ज्यादा होने का अनुमान लगाया जा रहा है.हालांकि विशेषज्ञों के मुताबिक यहां सुना कम होने से मेट एलर्जी लागत ज्यादा होने की आशंका जताई जा रही है.लेकिन साथ में तांबा की उपलब्धि भी होने से निवेशकों के लिए फायदे का सौदा साबित हो सकता है.

ढाणी बांसदी के क्षेत्र में सोने की खोज जीएसआई और एमईसीएल लगे थे.वहां उन्होंने बोरवेल तकनीक से भुजा के नमूने लिए थे और उनकी परीक्षण भी किए थे.उसमें से बहुत सारी जमीन किसानों की निजी खातेदारी के साथ ही गोचर भूमि भी थी.परीक्षण के बाद विभाग ऑन बोरवेल्स को बंद कर गया अब वहां गड्ढे और फसल खड़ी है.ढाणी बांसदी मैं खनिज संपदा के खोज व खनन कार्य को गति देने योजनाएं प्रयास जारी है.भूटिया में स्वर्ण भंडार का खोज कार्य जारी है.दोसा में ढाणी बांसुरी में भी स्वर्ण भंडार के खनन की संभावना बताई जा रही है.

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *