बॉलीवुड (Bollywood)

हैप्पी बर्थडे जितेंद्र फर्स्ट डे फर्स्ट शो देखने वाला लड़का कैसे बन गया सदाबहार जितेंद्र.दिलचस्प है कहानी…..

आज जितेंद्र अपना 79 वा जन्मदिन मना रहे हैं. हिंदी फिल्मों के सदाबहार सितारे जितेंद्र का जन्म 7 अप्रैल 1942 को पंजाब के अमृतसर में एक जौहरी परिवार में हुआ था. बहुत कम लोग जानते हैं कि जितेंद्र को पहले रवि के नाम से जाना जाता था. जितेंद्र को उनके डांस के लिए स्पेशल तौर पर जाना जाता है. रवि कपूर या जितेंद्र कपूर का परिवार एक व्यवसाय किया करता था.उनका बिजनेस आभूषण बनाने का था. वह एक मध्यमवर्गीय परिवार से ताल्लुक रखते थे.

मुंबई के गोरेगांव में हमेशा लड़कों का एक समूह फिल्मों का पहला शो देखने जाया करता था.फिल्म देखने के बाद वह लोगों को बताया करते थे. फिल्म कैसी है. निर्देशक वी शांताराम फिल्म देखने आए थे. उन्होंने लड़कों के समूह में से लड़के को फिल्म के बारे में लोगों से बात करते हुए देख लिया.

वी शांताराम लड़के से बहुत प्रभावित हुए और उन्होंने फैसला किया कि वह उन्हें अपनी अगली फिल्म में काम करने के लिए बुलाएंगे.
वी शांताराम ने उस लड़के को फोन किया और अपनी फिल्म गीत गाया पत्थरों ने में काम करने का ऑफर दे दिया.

और वह लड़का और कोई नहीं बल्कि रवि कपूर था.इस हिट फिल्म के बाद फिल्म इंडस्ट्री में जितेंद्र के नाम से जाना गया. गहनों के व्यापारी के परिवार में 7 अप्रैल 1942 को जन्मे जितेंद्र की रूचि बचपन से ही फिल्मों की और थी. और वह अभिनेता बनने का मौका ढूंढ रहे थे.

हमेशा फिल्में देखने के लिए घर से भाग जाते थे. जितेंद्र ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत 1959 में आई फिल्म नवरंग से की. जिसमें उन्हें एक छोटी सी भूमिका निभाने का मौका मिला था.लगभग 5 साल तक जितेंद्र ने फिल्म इंडस्ट्री में एक अभिनेता के रूप में काम पाने के लिए संघर्ष भी किया. वर्ष 1964 में उन्हें वी शांताराम की फिल्म गीत गाया पत्थरों ने में काम करने का मौका मिला था.इस फिल्म के बाद जितेंद्र अपनी पहचान बनाने में कामयाब रहे. और सफलता प्राप्त की.

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top