Breaking News
Home / खबर / KBC में करोड़ों रुपए जितने के बाद बर्बाद हो गया था ये शख्स ,अब पत्नी ने भी छोड़ा साथ

KBC में करोड़ों रुपए जितने के बाद बर्बाद हो गया था ये शख्स ,अब पत्नी ने भी छोड़ा साथ

दोस्तों कहते हैं हर किसी के जीवन में एक बार अच्छा और बुरा समय जरूर आता है, किस्मत हर किसी को एक ना एक मौका जरूर देती है ऐसा ही केबीसी विनर सुशील कुमार के साथ भी हुआ जी हां केबीसी 5 विनर शिव कुमार ने जब 10000000 किया जीता था तो वह सभी के बीच हीरो बन गए थे लेकिन क्यों नहीं जानते थे कि यह पैसा आना उनके जीवन के लिए बड़ी मुसीबत बन जाएगा, पर हर चीज का सही इस्तेमाल करना जीवन भी बहुत जरूरी होता है पैसा हो या रिश्ते अगर सही दिशा में. देखने की जाए तो उन सभी खुश होता है और सुशील कुमार के साथ ऐसा कुछ नहीं हुआ आइए जानते हैं सुशील कुमार के ज़बानी उनकी कहानी…..
सुशील कुमार ने हाल ही में एक पोस्ट करते हुए आपबीती बताएं…

उन्होंने पोस्ट की शुरुआत में लिखा- ‘केबीसी जीतने के बाद का मेरे जीवन का सबसे बुरा समय. उन्होंने लिखा- 2015-2016 मेरे जीवन का सबसे चुनौती पूर्ण समय रहा. लोकल सेलिब्रिटी होने के नाते बिहार में 15 दिन तो कहीं ना कहीं कार्यक्रमों में उन्हें बुला लिया जाता था,उसके साथ उस समय मीडिया को लेकर मैं बहुत ज्यादा सीरियस रहा करता था और मीडिया भी कुछ कुछ दिन पर पूछ देती थी कि आप क्या कर रहे हैं. इसको लेकर मैं बिना अनुभव के कभी ये बिज़नेस कभी वो करता था ताकि मैं मीडिया में बता सकूं कि मैं बेकार नही हूं.

जिसका परिणाम ये होता था कि वो बिज़नेस कुछ दिन बाद डूब जाता था, इतना ही नहीं कई ऐसे लोग मेरे पीछे लग गए थे जो कि दान पुण्य के नाम पर खूब पैसे लूटते थे मुझे गुप्त दान का शौक चढ़ा था, लगभग हर महीने पचास हज़ार दान मे चला जाता था. धीरे-धीरे पत्नी के और मेरे झगड़े भी बढ़ने लगे वह कहती थी कि आपको सही गलत इंसान की पहचान नहीं है और मैं उनसे जगह पड़ता था कि तुम मुझे समझ नहीं रही हो यह लड़ाई झगड़ा है इतना आगे तक पहुंच गया कि बात तलाक तक आ गई थी.


सुशील कुमार का जीवन कई उतार-चढ़ाव से गुजर रहा था ऐसे में उन्होंने अपने एक मित्र जो दिल्ली में रहते थे उनको गाड़ियां खरीद कर दी और इस बहाने उनका हर महीने दिल्ली जाना हो जाता था इससे यह एक बात अच्छी हुई कि वहां उन्हें कुछ मित्र मिले जो उनसे कई तलाशी की शिक्षा की बातें करते थे जिसके बाद सुशील कुमार को एहसास हुआ कि वह सिर्फ में कुएं के मेंढक बनकर रह गए हैं और और उन्हें बहुत कुछ है जो कि मालूम नहीं है, उन लोगों के साथ बैठने का फायदा ही हुआ कि मीडिया के बारे में उन सुशील कुमार की दिलचस्पी कम होती गई पर दूसरी तरफ जो एक लत उन्हें लग रही थी वही शराब और सिगरेट की अब हर महीने इन दोस्तों के साथ बैठना होता और मैं अलग अलग समूह के साथ बैठकर यह सब करने लगा,

आखिर क्या थी सच्चाई दो गाय और दूध बेचने की..

सुशील ने एक किस्सा भी शेयर किया. उन्होंने लिखा- एक बार अंग्रेजी अखबार के पत्रकार महोदय का फोन आया. कुछ देर तक मैंने ठीक-ठाक बात की. बाद में उनका वही घिसा पिटा सवाल जिससे मुझे चिढ़ हो गई, और मैंने उन्हें कह दिया मेरे सब पैसे खत्म हो गए हैं दो गाय पाल रखी हैं उन्हीं का दूध बेचकर गुजारा करते हैं, इसके बाद उसका क्या असर हुआ यह सब आप लोग जानते हैं, सुशील कुमार ने बताया जो चालू टाइप के लोग थे उनका आना बंद हो गया और लोगों ने मुझे कार्यक्रमों में बुलाना भी बंद कर दिया इससे एक फायदा यह हुआ कि मुझे खुद के बारे में सोचने की मोहलत मिली.और यहीं से सुशील कुमार के जीवन संवारने का सफर शुरू हुआ,


सुशील कुमार ने इस बीच कई उतार-चढ़ाव देखे और निर्देशक बनने के लिए उन्होंने मुंबई तक का सफर किया लेकिन वहां जाकर उन्हें समझ में आया कि वह खुद से भागे हुए एक इंसान हैं, इसके बाद उन्होंने खुद अपने गांव और अपनी जगह पर लौटे और वहीं से अपने जीवन को संवारने की कोशिश की अंतिम मे सुशील कुमार बताते है मैं अब पर्यावरण से संबंधित बहुत सारे काम करता हूं, जिसके कारण मुझे एक अजीब तरह की शांति का एहसास होता है. अब मेरी शराब की आदत भी छूट गयी हैँ,2016 के बाद मैंने अंतिम बार शराब को हाथ लगाया था, सिगरेट भी धीरे-धीरे खुद ही छूट गई अब जीवन में एक नया उत्साह महसूस होता है और पर्यावरण से प्रेम हमेशा ही मेरे अंदर बना रहे ।

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *