Breaking News
Home / खबर / करोना काल में आर्थिक तंगी से जूझ रहा था परिवार एक झटके में बना साढे सात करोड़ का मालिक…

करोना काल में आर्थिक तंगी से जूझ रहा था परिवार एक झटके में बना साढे सात करोड़ का मालिक…

हम सबने कभी ना कभी ये तो जरूर सुना होगा कि ईश्वर जब भी देता है तो वह छप्पर फाड़कर देता है। ऐसा कई बार देखा भी गया है की अचानक ही कोई रातों रात धनवान बन गया। ऐसा ही एक मामला सामने आया है जो कि कोच्चि का मामला है।

सूत्रों के अनुसार बताया जा रहा है की यह घटना तब हुई जब 24 साल की अंनतु विजयन रातो रात करोड़पति बन गए अंनतु विजयन कोच्चि के एक मंदिर में क्लर्क की नौकरी करते हैं। उनका परिवार आर्थिक तंगी से जूझ रहा था। फिर भी उन्होंने अपने त्यौहार ओणम के समय ओणम बंपर लॉटरी का ₹300 का टिकट खरीदा था। जिसमें उनकी 12 करोड़ की लॉटरी लग गई टैक्स काटने के बाद उन्हें साढे सात करोड़ रुपए मिलेंगे।

आर्थिक तंगी से जूझ रहे इस परिवार को जैसे भगवान की कृपा ही प्राप्त हो गई। उनके हर सपने को सच होने का अवसर भी प्रदान हो गया। अनंतु एक क्लर्क है और उनके पिता पेंटर का काम करते हैं। उन्होंने कल्पना में भी यह नही सोचा था कि वे इस तरह रातों रात करोड़पति बन जाएंगे।

उनकी बहन एक फार्म में अकाउंटेंट थी लेकिन करोना काल में उसकी भी नौकरी चली गई। वही पिता को भी कोई काम नहीं मिल रहा था। क्योंकि लॉकडाउन और कोरोना वायरस चल रहा था। उनका परिवार आर्थिक तंगी से जूझ रहा था, सभी को यह चिंता सताए जा रही थी कि अब घर का भार कैसे कम होगा। सब अपने अपने स्तर पर काम खोजने के प्रयास में जुटे हुए थे पर किसी को कोई काम नहीं मिल रहा था जैसे तैसे अनंतु विजयन काम तलाशने और करने की कोशिश कर रहा था वही उसके पिता भी अपने स्तर पर काम खोजने की कोशिश कर रहे थे। उन्हें भी कोई काम नहीं मिल रहा था। जिस कारण से उनके घर में आर्थिक तंगी की स्थिति पैदा हो गई। वह सब निराश व हताश हो गए थे।
लेकिन रविवार की रात को केरल सरकार ने ओणम बंपर लॉटरी का जब परिणाम घोषित किया तो मानो उनकी किस्मत ही खुल गई। उन्हें शुरुआत में तो विश्वास ही नहीं हुआ कि उनके 12 करोड रुपए का इनाम जीता है। लेकिन जब उन्हें विश्वास हुआ तो उनकी खुशी का कोई ठिकाना नही रहा।

उन्होंने न्यूज़ रिपोर्टर से बात करते हुए बताया कि हम हमारा परिवार आर्थिक तंगी से जूझ रहा था । हम अपने स्तर पर प्रयास करते करते थक चुके थे । पर हमें कोई काम नहीं मिल रहा था। जिस कारण से परिवार में अन्न तक की कमी आ गई थी ।

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *