खबर (News)

लंदन के गोरे को आया हिंदुस्तानी लड़की पर दिल ,हिंदू रीति-रिवाज से रचाई झारखंड के वैद्यनाथ धाम शादी

जब किसी से प्यार हो जाये तो कोई भी सरहद जात-पात मायने नहीं रखती है.जिनका प्यार सच्चा हो उन्हे भगवान भी मिलाते है और अपना आशीर्वाद देते है इसी कड़ी में जब बिहार के भागलपुर की इंजीनियर लड़की 7 साल पहले जब जॉब करने लंदन गई.वहां उसे जेन नाम के लड़के से प्यार हुआ और दोनों ने शादी करने का फैसला किया पर भारत आकर शादी नहीं करना चाहते थे.तब घर वालों ने कहा कि बाबा वैद्यनाथ के धाम में तुम्हारी शादी कराएगे तब जाकर दोनों आने के लिए खुशी-खुशी मान गए.

भारत की संस्कृति और सभ्यता बेमिसाल है.इसमें बंधे रिश्ते लंबे समय तक चलते है.इसी को साबित करते हुए लंदन के सेम और भारत की जेना नत्स ने झारखंड के बाबा वैद्यनाथ धाम मंदिर में शादी के बंधन में बंधे.बाबा के धाम इस अनोखी शादी को देखने के लिए खुद भगवान के शंकर के साथ हजारों की संख्या में लोग मौजूद रहे.लोग ऐसी शादी के साक्षी बने जहां लड़का लंदन का तो वहीं लड़की भारत की और दोनो ने हिन्दू रिति-रिवाज से शादी की सभी रस्मों को निभाया व सात फेरे लिए.

जेना 7 साल पहले जॉब के लिए लंदन चली गई थी जहां वह एक टेलीकॉम कंपनी में काम करती थी वहीं उसकी दोस्ती सेम से हुई.दोस्ती धीरे-धीरे प्यार में बदली जिसके बाद दोनो ने शादी करने का फैसला लिया.पहले तो वह अलग अलग धर्म जाति से फिर सरहद दूरियों के कारण यहां आकर शादी नहीं करना चाहते थे.पर जब घरवालों ने देवघर वैद्यनाथ में उनकी शादी कराने का बोला तो वो मान गए.इसी बीच विश्वभर में कोरोना महामारी फैल गई जिससे पासपोर्ट बनना बंद हो गए.पर जैसे ही सारी सुविधाएं चालू हूई दोनों ने भारत आकर शादी की.

लड़के के हिंदू धर्म अपनाने और रीति-रिवाज से शादी कराने वाले तीर्थ पुरोहित उत्तर नारोने ने कहा कि अपने जीवन काल में पहली बार इस तरह की शादी देखने का मौका मिला.हम लोग काफी खुश हैं कि सनातन धर्म को एक विदेशी लड़के ने अपनाया यह हमारे लिए गर्व की बात है.

जेना से शादी भारत में आकर करने पर सेम के माता-पिता भाई-बहन सहित 8 लोग लंदन से आए और देवघर में बाबा वैद्यनाथ के मंदिर आए और शादी में शामिल हुए.सेम ने न सिर्फ हिंदु रीति से शादी की बल्कि संस्कृत के मंत्रों को भी बोला.जेना वत्स के पिता डॉ. एच के झा ने बताया कि सबसे बड़ी बात है कि लड़की लंदन से नहीं आना चाहती थी लेकिन बाबा वैद्यनाथ का नाम लिया तो तैयार हो गई और दोनों ने यहां आकर शादी रचाई.उन्होने कहा कि इस शादी से हम खुश हैं क्योंकि जहां लड़की की खुशी हैं वहीं हमारी भी खुशी है

Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.

To Top