Breaking News
Home / खबर / MP के पन्ना में किसान को मिला 6.47 कैरेट का हीरा, 2 साल में छठवीं बार चमकी किसान की किस्मत….

MP के पन्ना में किसान को मिला 6.47 कैरेट का हीरा, 2 साल में छठवीं बार चमकी किसान की किस्मत….

किस्मत का लिखा कोई नहीं बदल सकता और जो किस्मत में लिखा होता है वह मिलकर ही रहता है ऐसा ही. कुछ नहीं पता  संसार में कब इंसान की भाग्य उसको किस मोड़ पर ले जाए.यह कभी किसी को नहीं पता होता अगर भाग्य मे  कुछ अच्छा होता है तो वह मिलकर ही रहता है.आज हम आपसे मध्य प्रदेश के एक किसान के बारे मे बात करने जारहे है जिसकी क़िस्मत बदलते देर नहीं लगी.

ये घटना मध्य प्रदेश के पन्ना जिले में एक किसान को सरकार से पट्टे पर ली गई जमीन की खुदाई में बहुमूल्य गुणवत्ता वाला 6.47 कैरेट का हीरा मिला है। इस किसान को पिछले दो वर्षों में खुदाई में छठवीं बार हीरा मिला है। जिले के प्रभारी हीरा अधिकारी नूतन जैन ने शनिवार को बताया कि जरुआपुर गांव की एक खदान में शुक्रवार को प्रकाश मजूमदार को यह हीरा मिला।

खबरों के अनुसार हीरा अधिकारी नूतन जैन ने कहा कि 6.47 कैरेट के इस हीरे को आगामी नीलामी में बिक्री के लिए रखा जाएगा और कीमत सरकार के नियमो के अनुसार तय की जाएगी।


मजूमदार ने कहा कि नीलामी से प्राप्त राशि को वह खनन में लगे अपने चार हिस्सेदारो के साथ साझा करेंगे। उन्होंने शुक्रवार को पत्रकारों से कहा, ‘हम पांच साझेदार हैं। हमें 6.47 कैरेट का हीरा मिला है। जिसे हमने सरकारी हीरा कार्यालय में जमा करा दिया है।’मजूमदार ने कहा कि उन्हें पिछले साल 7.44 कैरेट का हीरा मिला था। इसके अलावा उन्हें पिछले दो वर्षों में 2 से 2.5 कैरेट के चार और कीमती हीरे भी खनन में मिले थे।


30 लाख तक हो सकती है हीरे की कीमत….

हीरे की कीमत की बात करें तो अधिकारियों ने कहा कि कच्चे हीरे की नीलामी की जाएगी और इससे होने वाली आय को सरकारी रॉयल्टी और करों की कटौती के बाद किसान को दिया जाएगा। निजी अनुमान के अनुसार नीलामी में 6.47 कैरेट के हीरे की कीमत करीब 30 लाख रुपये हो सकती है।

12 लाख कैरेट के हीरे का भंडार होने का अनुमान….
मध्य प्रदेश के बुंदेलखंड इलाके में स्थित पन्ना जिले में लगभग 12 लाख कैरेट के हीरे का भंडार होने का अनुमान है। प्रदेश सरकार पन्ना हीरा आरक्षित इलाकों में स्थानीय किसानों और मजदूरों को हीरों के खनन के लिए जमीन के छोटे-छोटे टुकड़े पट्टे पर देती है। खनन में प्राप्त हीरों को किसान या श्रमिक, जिला हीरा अधिकारी के पास जमा कराते हैं।

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *