Breaking News
Home / खबर / फांसी से तुरंत पहले भारतीय मूल का शख्स निकला कोरोना पॉजिटिव, फिर जज ने उठाया इतना बड़ा कदम

फांसी से तुरंत पहले भारतीय मूल का शख्स निकला कोरोना पॉजिटिव, फिर जज ने उठाया इतना बड़ा कदम

आपको बता दें सिंगापुर के शीर्ष अदालत ने मादक पदार्थ की तस्करी के अपराध में दोषी ठहराए गए भारतीय मूल के 33 वर्षीय व्यक्ति के कोविड-19 से संक्रमित होने के बाद उसकी मौत की सजा को फैसला देते हुए मंगलवार को रोक लगा दी है.समझा जाता है कि दोषी मानसिक रूप से अस्वस्थ है. नागेंद्र उनके धर्म आलिंगन को मादक पदार्थ की तस्करी के अपराध में बुधवार को फांसी पर चढ़ाया जाना था. लेकिन सिंगापुर के उच्च न्यायालय ने उसे फांसी पर लटकाने की निर्धारित तिथि को तब तक के लिए निलंबित कर दिया जब तक उसकी अपील पर ऑनलाइन सुनवाई पूरी नहीं हो जाती है.


न्यूज़ चैनल एशिया ने बताया धर्मालिंगम के मृत्युदंड के विरुद्ध आखरी अपील पर सुनवाई के लिए अभी लिए धर्मालिंगम को न्यायालय लाया गया उसे 11 साल पहले यह सजा सुनाई गई थी. कुछ ही देर में वापस ले जाया गया यह न्यायाधीश ने अदालत में कहा कि धर्मालिंगन कोविड-19 पॉजिटिव पाया गया है.

न्यायमूर्ति एंडोफॉर्म न्यायमूर्ति ज्योति प्रकाश और न्यायमूर्ति रमेश ने कहा यह तो अप्रत्याशित है. न्यायाधीश ने कहा कि अदालत का मत है कि वर्तमान परिस्थितियों में मृत्युदंड पर अमल करने की दिशा में बढ़ना ही उपयुक्त रहेगा. न्यायमूर्ति ने कहा यदि आवेदक कोविड-19 पॉजिटिव हो गया है तो हमारी राय है कि उसे फांसी पर नहीं चढ़ाया जा सकता. उन्होंने मामले की सुनवाई टाल दि लेकिन अगली तारीख अभी तय नहीं की गई. कहा कि जब तक सुनवाई चलेगी आवेदक को फांसी नहीं दी जाएगी. चैनल ने कहा कि धर्मालिंगम  कोविड-19 संक्रमित  तो पाया गया उसका विवरण नहीं दिया गया है. धर्मालिंगन को 2009 में 42.75 ग्राम हेरोइन सिंगापुर लाने के आरोप में 2010 में मौत की सजा सुनाई गई थी. वह 2011 में उच्च न्यायालय में 2019 में अपील की 2019 में राष्ट्रपति से राहत पाने में नाकाम रहा था धर्मालिंगम.

जानकारी के लिए बता दें धर्मालिंगम को फांसी पर चढ़ाने के दिन समय नजदीक आने पर यह मामला अंतरराष्ट्रीय सुर्खियों में आया. मलेशिया के प्रधानमंत्री इस्माइल सबरी को अपने- सिंगापुर समक्ष ली सीन लूंग को पत्र लिखा मानव अधिकार संगठनों वर्जिन ग्रुप के संस्थापक रिचार्ड ब्रांसन ने इस मामले में राहत दिलाने के लिए प्रयास किया.माफी देने की मांग संबंधी याचिका पर 70000 से अधिक लोगों ने हस्ताक्षर किए हैं. इस आवेदन में कहा गया कि उसने वह दबाव में किया उसका आईक्यू भी 69 है.

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *