खबर

चीन से ला रहा था 32 करोड़ रुपए का 61.5 किलो सोना,डीआरआई ने सूज बुज से दिल्ली एयरपोर्ट पर पकड़ा

एअरपोर्ट पर सोने की तस्करी के कई मामले सामने आने के बाद अब खासकर दुबई और थाईलैंड से आने वाले यात्रियों और उनके सामानों की जांच में सतकर्ता बढ़ा दी गई है.कस्टम विभाग के पूर्वी क्षेत्र के चीफ कमिश्नर एच.के.चतुर्वेदी कहते हैं,ज्यादातर मामलों में पकड़े गए सोने का कोई दावेदार सामने नहीं आता है,लेकिन ऐसे मामलों की जांच की जा रही है.इस पहलू की भी जांच की जा रही है कि कहीं एयरपोर्ट पर तैनात कोई कर्मचारी तो तस्करों से नहीं मिला है.

विभाग ने कोलकाता के व्यावसायिक इलाके बड़ाबाजार में छापेमारी के दौरान भी पांच किलो अवैध सोना बरामद कर इस सिलसिले में पांच लोगों को गिरफ्तार किया है.पिछले कुछ महीनों के दौरान केवल एयरपोर्ट पर ही लगभग 44 किलो सोना जब्त किया जा चुका है.इसके अलावा कोलकाता और आसपास के इलाकों में विभिन्न विभागों की छापेमारी के दौरान भी भारी मात्रा में अवैध सोना जब्त किया गया है.सोने के आयात पर कड़े प्रतिबंध लागू होने के बावजूद शादी ब्याह के मौसम में इसकी मांग बढ़ी है.कस्टम विभाग के अधिकारियों के मुताबिक,इस मांग को पूरा करने के लिए विदेशों से विभिन्न तरीकों से सोने की तस्करी हो रही है. कई मामले तो पकड़ में आ जाते हैं, लेकिन कुछ मामलों में तस्कर अपने मंसूबों में कामयाब हो जाते हैं.

सूत्रों के मुताबिक, नेपाल और बांग्लादेश से लगी सीमा के जरिए भी इस कीमती धातु की तस्करी के मामलों में वृद्धि हुई है.भारत-नेपाल सीमा चौकी पर सामानों की गहन जांच नहीं की जाती.तस्कर इसका फायदा उठाते हैं. एक अनुमान के मुताबिक,हर महीने कम से कम सौ किलो सोना तस्करी के जरिए कोलकाता व आसपास के इलाकों में पहुंच रहा है.एक किलो सोना चोरी-छिपे लाने वाले तस्कर आयात शुल्क के तौर पर कम से कम तीन लाख रुपए बचा लेते हैं.इस मोटी रकम के लालच ने ही सोने की तस्करी के प्रति आकर्षण बढ़ा दिया है.

इसी तरह इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट पर डायरेक्टोरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस के ऑफिसरों ने 16.5 किलो सोना बरामद किया है.सोने की ये तस्करी टी आकार के वॉल्व में छिपाकर की जा रही थी.ऑफिसरों को संदेह होने पर जब इसकी जांच की गई तो इसमें सोना पाया गया.बरामद किए गए सोने की कीमत अंतर्राष्ट्रीय बाजार में 32.5 करोड़ रुपये आकी गई है.अधिकारियों के मुताबिक, पकड़ा गया सोना चीन के ग्वांगझू शहर से आयात करके ला जा रहा था. जिसे हिंदुस्तान में जापान एयरलाइंस के एक विमान में लाया गया.डीआरआइ को सूत्रों के हवाले से समाचार मिली थी की सोने की एक बड़ी खेप हिंदुस्तान लाई जा रही है.जिसके बाद डीआरआइ के ऑफिसरों ने मुस्तैदी के साथ कार्गो क्षेत्र की ओर अपना ध्यान केंद्रीत किया.जहां ऑफिसरों के चीन से आयात किए गए वॉल्व की खेप पर कुछ शक हुआ.

डीआरआई ऑफिसरों ने संदेह होने पर बैग में रखे वॉल्व को बाहर निकालकर उसके अंदर लगे पुर्जों को अलग करना प्रारम्भ किया.उन्होंने इसके सबसे अंदर वाले पुर्जे में सोना रखा पाया.जिसके बाद ऑफिसरों ने सभी वॉल्व को खोलकर इसकी जांच की.ऑफिसरों को इस जांच को पूरा करने में करीब 30 घंटे से अधिक सा समय लगा.कई घंटों की मुश्कत के बाद ऑफिसरों को इस वॉल्वों से कुल 61.5 किलो सोना ढूंढ निकाल पाने में सफल रहे.जिसकी अंतर्राष्ट्रीय बाजार में कीमत 32.5 करोड़ रुपये बताई जा रही है.कुछ दिन पहले ही आईजीआई एयरपोर्ट पर फ्रांस के चार नागरिकों को सोने की तस्करी करने के आरोप में रंगे हाथ पकड़ा गया था.फ्रांस के नागरिकों की इस प्रकार की संलिप्तता के सामने आने के बाद से डीआरआई को सर्तक कर दिया गया.पहले तस्कर अधिकतर दुबई से दिल्ली के रास्ते सोने की तस्करी किया करते थे.लेकिन बीते कुछ समय से तस्करों ने अपना रूट बदल लिया है.

To Top