खबर

IAS अफसर पूजा सिंघल के ठिकानों से मिले नोटों के भण्डार ,ED के छापे मारी में मिले 25 करोड़ रुपए

मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े एक मामले में ईडी ने बड़ी कार्रवाई करते हुए एक आईएएस अफसर करीब 20 ठिकानों पर छापेमारी की और भारी मात्रा कैश बरामद किया.झारखंड बैच की 2000 की IAS अफसर पूजा सिंघल के नई दिल्ली, जयपुर, मुंबई, गुरुग्राम,रांची और मुजफ्फरपुर समेत कई जगहों पर छापेमारी की गई.ना सिर्फ पूजा सिंघल बल्कि उनके पति भी 1999 बैच के IAS अफसर हैं.

एक खबर के मुताबिक,”ईडी की तरफ से की गई यह छापेमारी जूनियर अभयंता राम विनोद और प्रसाद सिन्हा के बयान के बाद की गई.इन्होंने अफसरों के आईएएस अफसर के कई काली करतूतों की भी पोल खोली, जिसके बाद यह बड़ी कार्रवाई हुई और भारी मात्रा में कैश बरामद हुआ.एक जानकारी के मुताबिक बताया जा रहा है कि आईएएस पूजा सिंघल के ठिकानों से बरामद की गई कुल रकम करीब 25 करोड़ रुपये है. नोटों की गिनती के लिए मशीनें लगाने पड़ी थीं.

बता दें कि पूजा सिंघल झारखंड बैच की 2000 की आईएएस अफसर हैं. उनके पति भी 1999 बैच के आईएएस अफसर हैं. एक खबर के मुताबिक पूजा के पास अभी अद्योग सेक्रेटरी और खान सेक्रेटरी की जिम्मेदारी है.इतना ही नहीं वो झारंखंड खनिज विकास निगम की भी चैयरपर्सन हैं.एक खबर के मुताबिक पूजा सिंघल पर इससे पहले भी कई संगीन आरोप लग चुके हैं.उनके ऊपर वित्तीय अनियमितता के भी आरोप लग चुके हैं.इसके अलावा साल 2007 और 2008 में कुछ गड़बड़ी करने के आरोप लग चुके हैं.

पूजा सिंघल अभी झारखंड की खनन और भूविज्ञान विभाग की सचिव हैं। वो झारखंड राज्य खनिज विकास निगम लिमिटेड की एमडी भी हैं। प्रवर्तन निदेशालय ने उनसे जुड़े बिहार और झारखंड के अलावा दिल्ली-एनसीआर, हरियाणा,कोलकाता और राजस्थान तक के ठिकानों पर छापेमारी की है.सूचना के अनुसार रांची में इस मामले में कारोबारी अमित अग्रवाल के ठिकानों पर भी छापे डाले गए हैं.रांची में जिन ठिकानों पर ईडी के अफसर कार्रवाई के लिए पहुंचे हैं

उनमें सिंघल के सरकारी आवास के अलावा पंचवटी रेसीडेंसी, चांदनी चौक के हरिओम टावर, पल्स अस्पताल बरियातू, लालपुर नई बिल्डिंग जैसे ठिकानें भी शामिल हैं.पल्स अस्पताल उनके पति चलाते हैं.पूजा सिंघल पर कार्रवाई इसलिए अहम है,क्योंकि वह मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की भरोसेमंद अफसर मानी जाती हैं.सोरेन खुद खनन मंत्री हैं और अपने नाम से खदान के आवंटन की वजह से उनकी विधायकी पर भी तलवार लटक रही है.जानकारी के मुताबिस सिंघर पर मनरेगा घोटाले के भी गंभीर आरोप हैं.

जानकारी के मुताबिक झारखंड की खनन सचिव पर सीएम सोरेन, उनके भाई और नजदीकियों को औने-पौने दाम में खदान का ठेका देने का आरोप है.ईडी ने खूंटी में मनरेगा में 18 करोड़ से अधिक के घपले का भी केस दर्ज किया था. राज्य के चतरा और पलामू जिलों की जांच में भी वह लगी हुई है.

उनपर जंगल की 83 एकड़ जमीन भी कोयला खदान के लिए निजी कंपनी को सौंपने का आरोप है.बताया जाता है कि उन्होंने आईएएस राहुल पुरवार से तलाक लेने के बाद डॉक्टर अभिषेक से शादी की थी.इनके सीए के यहां से भी छापेमारी में बड़ी मात्रा में रकम बरामद होने की सूचना है.सिंघल के खिलाफ झारखंड हाई कोर्ट के सीनियर वकील राजीव कुमार ने ईडी से शिकायत की है.

To Top