खबर

श्रीलंका में मचा संकट तो यूपी के लड़के ने टूरिस्ट गर्लफ्रेंड से करली शादी ,हिन्दू रीतिरिवाज़ से की शादी

हम आपसे चर्चा करेंगे एक ऐसे प्रेमी युगल के बारे मे जो श्रीलंका संकट में अपनी गर्लफ्रेंड को बना दिया पत्नी टूरिस्ट विज़ा पर आई लड़की ने की यूपी के लड़के से की शादी. कहते हैं प्यार एक ऐसा रिश्ता है जो छुपाए नहीं छुपता ऐसा एहसास होता है और प्यार सात समंदर पार जितनी दूरी को भी कुछ मायने नहीं रखता सिर्फ प्यार ही दिखता है.

 

आपको बता दें उत्तर प्रदेश का एक लड़का साउथ अफ्रीका नौकरी करने गया था. वहां उसको एक श्रीलंका की लड़की से मोहब्बत हो गई. इसी दौरान अचानक श्रीलंका में आर्थिक संकट की समस्या उभर कर सामने आ गई. यह देखकर प्रेम की दुहाई देकर लड़की अपने बॉयफ्रेंड से मिलने उसके घर यूपी चली गई.

शादी भी कर ली परिजनों के साथ ही नाते रिश्तेदार इस विवाह के गवाह बन गए. खबरों के अनुसार उत्तर प्रदेश के कौशांबी जिले के बलराम की यह कहानी है. सिराथू तहसील के फरीद गंज कड़ा निवासी बलराम के पिता लल्लूराम की मौत 10 वर्ष पहले हो चुकी है. बलराम ने कंप्यूटर की शिक्षा प्राप्त की थी.

 

कंप्यूटर ट्रेनिंग के बाद ऑपरेटर का वीजा मिलने पर 4 वर्ष पहले सऊदी चला गया था. तभी  उसको साउथ अफ्रीका के लिए भेज दिया गया.वहां जाने के लिए बलराम की सैलरी भी बढ़ाई गई. साउथ अफ्रीका में नौकरी के दौरान उसकी मुलाकात श्रीलंका की मधु शाह  से हुई. मधुशा जयंती से वहां कंप्यूटर की पढ़ाई करने के लिए आई थी.

मुलाकात के पश्चात मधुशा और बलराम के बीच प्रेम का रिश्ता बन गया दोनों एक दूसरे को बहुत प्रेम करने लग गए.दोनों एक दूसरे के बहुत करीब आ गए उधर कोर्स पूरा होने के पश्चात मधुशा श्रीलंका वापस चली गई. लेकिन इसकी जानकारी बलराम को नही थी.जब बलराम ने कोचिंग सेंटर से जानकारी प्राप्त की. वहां कंपनी की सहायता से श्रीलंका पहुँचने के करीब छह माह बाद दोनों फिर से मिले.सब कुछ ठीक चल रहा था. इसके बाद बलराम दुबारा साउथ अफ्रीका चला गया.

श्रीलंका में अचानक आर्थिक संकट बढ़ गया वहां उपदेर्व शुरू होने लगे.मधुशा ने इसकी जानकारी साउथ अफ्रीका में  अपने प्रेमी बलराम को दी. तो वह दोबारा हवाई जहाज से श्रीलंका पहुंचा और वकायद की से दोनों ने कोर्ट मैरिज की. इसके बाद बलराम भारत आ गया है. उसने अपने घर वालों को संबंध की पूरी जानकारी दी. परिजनों की रजामंदी हुई पत्नी बन चुकी मधुशा 20 दिन के लिए टूरिस्ट विजा बनवाया अब मधुशा 8 मई को कौशांबी आई. पारंपरिक रीति-रिवाज से शादी की तैयारियां शुरू हुई.हिन्दू रस्म रिवाज के साथ दोनों ने बड़े समारोह में एक दूसरे के गले में जयमाला पहनाई.सिंदूर से मांग भरी. एक दूसरे के साथ सात फेरे लेकर जन्मों-जन्मों के लिए एक हुए.

To Top