खबर

विधवा बेटी की पुलिसकर्मी ने कराई धूमधाम से शादी 8 तोला चांदी और 11 हज़ार रूपये से भरा मायरा

हमारे संसार में दो वक्त की रोटी जुटाना काफी मुश्किल कार्य बन चुका है और यह कार्य तो और भी ज्यादा कठिन हो जाता है जब पूरी जिम्मेदारी सिर्फ महिला के ऊपर ही हो घर खर्च की.एक ऐसी महिला की चर्चा करेंगे जो विधवा है और पूरे परिवार की जिम्मेदारी खर्च करने की उसी पर निर्भर है.ऐसे में विधवा महिला का बेटी की शादी के खर्चे करना काफी कठिन हो गया.तब उसकी सहायता के लिए पुलिसकर्मियों ने पहल की और बेटी की शादी में पूरा सहयोग किया.

हम आपसे बात करने जा रहे हैं जैसे पुलिसकर्मीयो की जिन्होंने धूमधाम से विधवा बेटी का विवाह संपन्न कराया और विवाह में 8 तोला चांदी ₹11000 से मायरा भरा. अपनी बेटी को विदा किया.यह मामला राजस्थान के सिरोही जिले से सामने आया है.आईये इस पूरी घटना पर चर्चा करते हैं आपसे.

आपको बता दें राजस्थान के सिरोही जिले में पुलिस ने विधवा महिला की बेटी की धूमधाम से शादी संपन्न कराई और इतना ही नहीं पुलिस ने 8 तोला चांदी और ₹11000 नकद देकर मायरा भी भरा.साथ ही कपड़े और बर्तन भी पुलिस ने शादी में भेंट स्वरूप दिए.

खबरों के अनुसार महिला पुलिस थाने में लांगरे का काम करने वाली विधवा शांति देवी की बेटी की शादी 13 मई को हुई है. विधवा की बेटी का मायरा भरने के लिए कोई नहीं था. यह बात जब पुलिस स्टाफ को पता चली तब उन्होंने मायरा भरने का निर्णय लिया. विधवा महिला की बेटी की शादी में डीएसपी कार्यालय की ओर से पूरा सहयोग दिया गया.

इस मायरे के सभी जगह प्रशंसा हो रही है. पुलिस ने युवती की शादी में गाजे-बाजे के साथ फूल माला पहनाकर नए जीवन की शुभकामनाएं भी दी.युवती के घर पुलिस स्टाफ को देखकर उसके पड़ोसी भी हैरान रह गए. पुलिस ने मायरे के तौर पर 8 तोला भारी-भरकम चांदी के जेवर ₹11000 नगद भेंट कर दिए हैं. साथ ही कपड़े और बर्तन के लिए भी पूरी पुलिस विभाग ने सहयोग किया. पुलिस कर्मियों ने मिलकर ₹5000 भी दिए. साथ ही गाजे-बाजे के साथ फूल माला लेकर शांति देवी का मायरा भी भरा गया.जानकारी के लिए बता दे ये मामला सिरोही जिले में इस तरह की अनोखी पहल की बहुत ज्यादा प्रशंसा और चर्चा हो रही है.साथ ही परिवार को आर्थिक मदद के साथ विधवा महिला की बेटी शांति देवी का भी जीवन उज्जवल करने का प्रयास किया है. पुलिस के इस कार्य की सभी और सराहना की जा रही है. लोगों का कहना है इस प्रकार के पहल से लोगों के मन में पुलिस के प्रति सम्मान बढ़ेगा.महिला थाने के एसआई ने बताया विधवा महिला की बेटी शांति देवी की 13 मई को शादी हुई है. विधवा महिला के परिवार की आर्थिक स्थिति खराब होने के कारण वह परेशान थी.महिला ही परिवार का खर्चा पानी  गुजारा करती हैं. वह महिला थाने में लांगरी का काम कर कर अपने घर को चलाती हैं.अब इसी थाने के पुलिसकर्मियों ने आगे आकर महिला की बेटी का जीवन सुधारने में अहम योगदान निभाया है.

To Top