कुछ हटकर

सादगी की मिसाल- रतन टाटा नैनो में बैठ पहुंचे ताज होटल, लोग बोले- यह हैं हमारे आदर्श

सादगी की मिसाल 84 वर्षीय रतन टाटा का एक वीडियो सोशल मीडिया पर खूब देखा जा रहा है. इस वायरल वीडियो में रतन टाटा अपनी छोटी सी टाटा नैनो कार से उतरते नजर आ रहे हैं. दअरसल, वो बिना बॉडीगार्ड इस कार से ताज होटल पहुंचे थे.जब लोगों ने उन्हें ‘नैनो’ से उतरते देखा, तो वे शॉक्ड रह गए.क्योंकि एक तरफ जहां अधिकतर लोग महंगी और बड़ी गाड़ियों में सफर करने के सपने देखते हैं,वहीं रतन टाटा का छोटी सी गाड़ी से चलना किसी प्रेरणा से कम नहीं.

यह वीडियो इंस्टाग्राम पर Paparazzi अकाउंट से मंगलवार को शेयर किया गया था.उन्होंने कैप्शन में लिखा कि रतन टाटा ने अपनी सादगी से लोगों को हैरान कर दिया.वह बिना बॉडीगार्ड के अपनी छोटी सी ‘टाटा नैनो’ में ताज होटल पहुंचे थे.जहां होटल के स्टाफ ने उन्हें सुरक्षा दी.इस वीडियो को 1.5 लाख से अधिक व्यूज और 1 लाख 21 हजार से ज्यादा लाइक्स मिल चुके हैं.वायरल वीडियो में देखा जा सकता है कि रतन टाटा सफेद रंग की छोटी सी नैनो कार में होटल पहुंचते हैं.वैसे तो रतन टाटा जैसी पर्सनैलिटी फैंस और बॉडीगार्ड्स से घिरी नजर आती है.लेकिन टाटा ने बताया दिया कि वह क्यों लाखों दिलों की प्रेरणा हैं.जिस कार की अगली सीट पर रतन टाटा बैठे थे,उसे शांतनु नायडू चला रहे थे.उनके अलावा शायद ही कार में कोई था.

पिछले हफ्ते रतन टाटा ने एक भावुक कर देने वाला नोट लिखा था कि नैनो उनके लिए क्या मायने रखती है.टाटा नैनो के लॉन्च इवेंट की एक तस्वीर साझा करते हुए, उन्होंने लिखा कि मैं भारतीय परिवारों को स्कूटर पर सवारी करते हुए देखा तो मुझे लगा कि चार पहिए वाहनों पर चढ़ने का शौक आम लोगों को भी होता होगा.इसने मुझे प्रेरित किया और मैंने सबसे कम दाम की नैनो कार बनाने का निर्णय लिया.

रतन टाटा के ड्रीम प्रोजेक्ट पर काम करते हुए टाटा मोटर्स ने 10 जनवरी 2008 में लखटकिया कही जाने वाली सबसे कम दाम की कार नैनो को भारत में लॉन्च की थी.इस कार ने देश में लॉन्च होते ही बहुत तेजी से बिकने लगी थी लेकिन कुछ समय बाद लगातार गिरती मांग और कई अन्य समस्याओं के चलते कंपनी को 2018 में इस कार की बिक्री भारत में बंद करनी पड़ी थी.

To Top