कुछ हटकर

भिखारी जिसने खरीदी 90 हजार रुपए केश देकर पत्नी के लिए ये गाड़ी ,बताया दोनों हर रोज कमाते है इतने पैसे

सड़क पर जब भी भिखारियों को भीख मांगते हुए हम देखते हैं, तो कभी ना कभी मन में यह ख्याल जरूर जरूर आता है कि आखिर यह किस वजह से भीख मांग रहे हैं? खैर, जो भी हो हर किसी की जिंदगी में कोई ना कोई परेशानी जरूर होती है जिसके चलते व्यक्ति भीख मांगने पर मजबूर हो जाता है.एक भीख मांगने वाले शख्स के लिए अपनी रोज की गुजर-बसर करना कितना मुश्किल होता है इसका अंदाजा भी नहीं लगाया जा सकता.

ऐसे में आज हम आपको भीख मांग कर अपनी रोजी-रोटी कमाने वाले एक शख्स के बारे में बताने वाले हैं, जिसने अपनी पत्नी के लिए दिल को छू लेने वाला काम कर दिखाया है.कहते हैं कि प्यार जात-पात, ऊंच-नीच, अमीरी-गरीबी नहीं देखता है.भीख मांगकर गुजारा करने वाले एक शख्स ने अपनी पत्नी की तकलीफ को देखते हुए 90 हज़ार कैश देकर एक नई चमचमाती बाइक खरीदी.भीख मांगकर गुजारा करने वाले इस शख्स का नाम संतोष है जिसने पत्नी को मोपेड खरीदकर तोहफे में दी है अब यह दोनों मोपेड से ही लोगों से भीख मांगते है.दरअसल, संतोष साहू और उसकी पत्नी मुन्नी साहू छिंदवाड़ा जिले के अमरवाड़ा के रहने वाले हैं, संतोष पैरों से दिव्यांग है जिस वजह से वह ट्राइसाइकिल से घूम-घूमकर भीख मांगता हैं जिसमें पत्नी मुन्नीबाई भी उसकी मदद करती हैं.

संतोष साहू ने बताया कि वह खुद ट्राइसाइकिल पर बैठता था और उसकी पत्नी धक्का देती थी जिससे कई बार सड़क खराब होने पर वजह से पत्नी के लिए ट्राइसाइकिल को धक्का लगाना बेहद मुश्किल हो जाता था ऐसे में अपनी तकलीफ को भूलते हुए संतोष से पत्नी की यह परेशानी देखी नहीं गई.

इस बीच पत्नी ने संतोष को मोपेड खरीदने की सलाह दी.जिसके बाद संतोष 90 हजार रुपये कैश देकर मोपेड खरीद ली.वहीं संतोष ने बताया कि वह दोनों मिलकर रोजाना करीब 300 से 400 रुपये कमा लेते है और साथ ही दोनों को दो वक्त का खाना भी मिल जाता था, ऐसे में दोनों ने अपने बचाए हुए पैसे से मोपेड खरीद ली.

To Top