Breaking News
Home / बॉलीवुड / 14 साल की उम्र में पंडिताई करते थे पंकज त्रिपाठी, फिल्मों में आने से पहले ऐसी थी घर की हालत

14 साल की उम्र में पंडिताई करते थे पंकज त्रिपाठी, फिल्मों में आने से पहले ऐसी थी घर की हालत

बॉलीवुड इंडस्ट्री के सबसे टैलेंटेड एक्टरों की लिस्ट में शुमार पंकज त्रिपाठी की जितनी तारीफ की जाए वो कम है. अपने कमाल की एक्टिंग टैलेंट से लोगों के दिलों पर राज करने वाले पंकज त्रिपाठी के बारे में हर कोई जानना चाहता है. शायद ही आप जानते हों कि फिल्मों में आने से पहले वो क्या काम किया करते थे. आज हम आपको इस आर्टिकल में इसी बात की जानकारी देने जा रहे हैं कि फिल्मों से पहले उनका प्रोफेशन क्या था और उन्हें फिल्मों में आने की प्रेरणा कैसे और कब मिली.

पंकज त्रिपाठी फिल्मों में अपनी एक्टिंग को लेकर जितने ज्यादा पॉपुलर हैं, सोशल मीडिया पर भी उनकी फैन फॉलोइंग किसी लीड एक्टर से कम नहीं है. गौरतलब है कि पंकज त्रिपाठी को हाल ही में ‘इंडियन फेस्टिवल ऑफ मेलबर्न’ अवार्ड 2001 से सम्मानित किया गया है. उन्हें ये अवॉर्ड डायवर्सिटी इन सिनेमा की कैटगरी के लिए प्रदान किया गया है. तभी तो आज के समय में पंकज त्रिपाठी के पास फिल्मों की लंबी लाइन है. अपनी दमदार एक्टिंग और कमाल के कॉमिक टाइमिंग से उन्होंने लोगों को दीवाना बनाया हुआ है.

बिहार राज्य के रहने वाले पंकज त्रिपाठी बहुत ही साधारण परिवार से आते हैं. आपको जानकर हैरानी होगी कि फिल्मों में आने से पहले वो पंडिताई का काम किया करते थे और इससे मिलने वाली दक्षिणा से ही उन्होंने फिल्मी दुनिया का रुख किया था. यहां गौर करने वाली बात ये कि वो पहलवानों के घर में पंडिताई का काम करते थे. पंकज त्रिपाठी ने खुद इस बात का खुलासा किया था. हालांकि उन्होंने कहा कि वो बहुत की कम कर्मकांड में शामिल हुए थे.

पंकज त्रिपाठी ने बताया कि एक बार वो किसी बूढ़ी औरत के घर गए हुए थे. उस बुजुर्ग महिला के 6 दामाद थे. वो सभी के सभी सिनेमाघरों में काम किया करते थे. पंकज त्रिपाठी ने उनके घर पूजा करवाया था. उन दिनों पंकज त्रिपाठी की उम्र लगभग 15 साल थी. जब दक्षिणा देने की बारी आई तो वो सब जाने लगे,

तब पंकज त्रिपाठी ने उनसे दक्षिणा देने की बात कही. इसपर उन्होंने कहा, “आपको क्या चाहिए दक्षिणा में. आप तो नौजवान हैं.” उन्होंने अपने बारे में बताया कि, “हमलोग गोपालगंज के अलग-अलग सिनेमाघरों में काम करते हैं. वहां पर हम दरबान हैं. गोपालगंज के श्याम चित्र मंदिर, कृष्णा टॉकीज और जनता टॉकीज में हम दरबान हैं. आप कभी वहां फिल्म देखने आएंगे तो हम आपका टिकट फ्री करवा देंगे.

पंकज त्रिपाठी उसके बाद एक बार गोपालगंज फिल्म देखने गए तो वहां उन्हें फ्री में टिकट मिला. इसके बाद तो वो बराबर फिल्में देखने लगे. फिल्मों से उनका लगाव इतना ज्यादा बढ़ गया कि उन्होंने इस फील्ड में ही अपना करियर बनाने की ठान ली. आज वही पंकज त्रिपाठी हैं, जिनके पास फिल्मों की लंबी कतार लगी है. उन्होंने हर तरह की फिल्मों में काम किया और अपने कमाल के अभिनय से लोगों को दीवाना भी बनाया. आज हालात ऐसे हैं कि हर डायरेक्टर और प्रोड्यूसर पंकज त्रिपाठी को अपनी फिल्मों में लेना चाहता है.

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *