Breaking News
Home / खबर / कोविंद ने कहा- 5 लाख की सैलरी में 2.75 लाख का तो टैक्स ही देता हूं, लोग बोले- लेकिन राष्ट्रपति को तो टैक्स में छूट है.

कोविंद ने कहा- 5 लाख की सैलरी में 2.75 लाख का तो टैक्स ही देता हूं, लोग बोले- लेकिन राष्ट्रपति को तो टैक्स में छूट है.

देश के महामहिम पद पर आसीन माननीय राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की मासिक आय ने सभी को चौंका दिया था ।लेकिन उससे भी चौंकाने वाला बयान माननीय राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा तब दिया गया ।जब वे कानपुर दौरे पर थे। कानपुर उनका पैतृक गांव है। हाल ही में वे अपने गांव के दौरे पर निकले थे। उस दौरान एक कार्यक्रम में अपनी मासिक सैलरी का जिक्र किया ।उन्होंने कहा कि मुझे ₹5लाख रुपए प्रतिमाह तनख्वाह मिलती है ।


इसमें से पौने तीन लाख रुपए टैक्स के रूप में चला जाता है ।हमसे ज्यादा बचत तो एक टीचर की हो जाती है। देश के सर्वोच्च पद पर आसीन महामहिम के द्वारा दिए गए इस बयान को लोगों द्वारा बिल्कुल भी पसंद नहीं किया जा रहा है। जिसके चलते सोशल मीडिया पर लोगों द्वारा राष्ट्रपति द्वारा दिए गए बयान पर बहुत प्रतिक्रियाएं दी जा रही है। बता दे कि राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद हाल ही में उत्तर प्रदेश के दौरे पर निकले थे ।जिसमें वह पहले दिन अपने पैतृक गांव परौंख पहुंचे। वहां पहुंचकर उन्होंने अपने मातृभूमि की मिट्टी को माथे से लगा लिया और उसे नमस्कार किया ।

वे राष्ट्रपति पद पर आसीन होने के 4 वर्ष बाद अपने पैतृक गांव पहुंचे हैं ।वहां पहुंचकर उन्होंने पथरी देवी मंदिर में माता के दर्शन किए इस दौरान उनके साथ यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ एवं राज्यपाल आनंदीबेन पटेल भी थी। अपने पैतृक गांव में जब वे हेलीपैड के माध्यम से पहुंचे ।तो उन्हें देखने के लिए लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा ।जो उनके स्वागत करने के लिए मौजूद थे।राष्ट्रपति द्वारा उन सभी का अभिनंदन स्वीकार किया गया । यहां उनके साथ उनकी पत्नी भी शामिल थी।


इसी तीन दिवसीय कार्यक्रम के दौरान उन्होंने अपनी मासिक आय संबंधी बयान दिया था। लेकिन इस बयान पर लोगों की कई तरह की प्रतिक्रियाएं आने लगी है ।कई लोगों ने कहा कि क्या राष्ट्रपति पद पर बचत करने के लिए आए हैं? तो कई लोग कह रहे हैं कि राष्ट्रपति को सरकार द्वारा टैक्स में छूट दी जाती है ।इसी के साथ-साथ उन्हें कहीं तरह की सुविधाएं भी प्रदान की जाती हैं जो उनके द्वारा कट रहे टैक्स से कई गुना ज्यादा होती है ।


लोगों का कहना है कि इतनी बड़ी सर्वोच्च पद पर आसीन व्यक्ति को कितना वेतन मिलता है। वह कितनी बचत कर सकता है ।यह सब मायने नहीं रखता है। इस तरह की बातें करना बिल्कुल व्यर्थ है ।वैसे यह बात सोचने का विषय है कि जहां मासिक आय पांच लाख रुपए है और यदि सालाना उसमें से पोने तीन लाख का टैक्स कट भी जाता है तो कोई बड़ी बात नहीं होती है ।उच्च पद पर आसीन महामहिम राष्ट्रपति द्वारा इस तरह की बात करना उन्हें बिल्कुल भी शोभा नहीं देता है।

sorce

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *