Breaking News
Home / Uncategorized / लोग समझ रहे थे गाँव की गंवार,पर सच सामने आया तो वो निकली IAS ऑफीसर

लोग समझ रहे थे गाँव की गंवार,पर सच सामने आया तो वो निकली IAS ऑफीसर

आज हम आपसे बात करने जा रहे हैं आईएएस ऑफिसर जो कि इतनी पढ़ाई करने के बाद भी अपनी भारतीय संस्कृति और सभ्यता को ना भूल कर उन्होंने अपने परिवार का और अपना सिर गर्व से ऊंचा कर लिया है. इतनी पढ़ाई लिखाई करने के बाद अक्सर लोगों में 1 पावर का घमंड आ जाता है और वह सब कुछ भूल कर सिर्फ अपनी शोहरत के नशे में रहते हैं.

लेकिन हम राजस्थान आईएएस ऑफिसर मोनिका यादव उन्होंने साबित कर कर दिया है कि वह भारतीय सभ्यता और संस्कृति सम्मान और गौरव बढ़ाने के बाद अपने इस ऊँचे ओहदे पर आने के बाद भी अपनी सभ्यता संस्कृति का गौरव बढ़ा रही हैं.आइए हम चर्चा करते हैं मोनिका यादव जो कि एक आईएएस ऑफिसर बन चुकी हैं उनके यहां तक के सफर की कहानी.

आपको बता दें आईएएस मोनिका यादव उनकी यह तस्वीर इन दिनों सोशल मीडिया पर काफी तेजी से वायरल हो रही है और काफी चर्चा का विषय बनी हुई है.इस तस्वीर में हम देख सकते हैं कि मोनिका यादव एक साधारण स्त्री की तरह आम वेशभूषा धारण किए हुए हैं. माथे पर बिंदी और नवजात शिशु को अपनी गोद में मातृत्व की पूरी झलक दिखाई दे रही है.एक साधारण स्त्री की तरह वेशभूषा में तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है और चर्चा का विषय बनी हुई है.

तस्वीर पर बहुत तेजी से लाइक और कमेंट आ रहे हैं.उनको साधारण गांव की एक महिला ही समझ रहे हैं इस तस्वीर में ज्यादातर लोग लेकिन यह एक आईएएस ऑफिसर है “मोनिका यादव” आपको बता दें इस तस्वीर को देखने के बाद अधिकतर लोग उनको एक साधारण गांव की महिला ही समझ रहे हैं.लेकिन उन्होंने साबित कर दिया है कि ऊंचे पद पर और इतनी पढ़ाई लिखाई के बाद भी उन्होंने अपनी परंपराओं और भारतीय संस्कृति का पूरी तरह से पालन किया है. आईएएस ऑफिसर जो के राजस्थान के वर्ष 2014 के बैच के आईएएस ऑफिसर बनी है. मोनिका यादव जी का जन्म गांव में ही हुआ और उनकी परवरिश भी ग्रामीण परिवेश में ही हुई है. उनके पिता भी एक सीनियर और आईआरएफ है इनके पिता का नाम हरफुल सिंह है.

मोनिका यादव अपने पिता से ही प्रेरित होकर सिविल सर्विस में जाने का निर्णय लिया और इतने प्रयास किए कठिन परिश्रम के बाद उन्होंने परीक्षा में 403  रैंक हासिल की और सफलता पाई. आपको बता दें मोनिका तिर्वा क्षेत्र की DSP के पद पर नियुक्त हुई हैं. मोनिका यादव अपने ओहदे पर अपने क्षेत्र के लोगों की समस्याओं को सुनती हैं और समाधान करने के लिए जानी जाती हैं. मोनिका अपने अच्छे कार्यों के कारण ही प्रथम स्थान पर हैं अपने क्षेत्र के कार्यकर्ताओं में. आपकी जानकारी के लिए बता दें मोनिका की शादी भी एक IAS ऑफिसर “सुशील यादव” से हुई है.जो कि इस समय में राज समंद में SDM के पद पर कार्यरत है. यह तस्वीर उस समय की है जब मोनिका यादव ने अपनी बेटी को जन्म दिया था और उन्होंने यह साबित किया है इतनी पढ़ाई लिखाई के बाद ऊंचे पद पर आने के बाद भी उन्होंने अपनी भारतीय सभ्यता और परंपराओं का पालन किया और अपने परिवारिक परवरिश को ना बुलाकर उन्होंने यह साबित कर दिया है कि को एक आईएएस अधिकारी के पद पर होने के बाद भी बखूबी सभी परंपराओं का और अपनी ड्यूटी का पालन इस फोटो को शेयर करते हुए कैप्शन मे लिखा  “IAS Monika Yadav गाँव लिसाड़िया श्रीमाधोपुर की लाडली। सादगी भरा चित्र पहली बार किसी आईएएस का.जय हिंद जय भारत” लोग IAS मोनिका की बेटी के जन्म पर उन्हें बधाइयां दे रहे हैं. इस तरह आईएएस ऑफिसर मोनिका यादव अपने देश और अपने परिवार का मान बढ़ा रही है. देश का गर्व से सीना चौड़ा कर दिया है.

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *