Breaking News
Home / फ़िल्मी / 4 साल की उम्र में मां को खोने वाले इस सुपरस्टार ने घर चलाने के लिए की कंडक्टर की नौकरी, कुली का भी किया काम….

4 साल की उम्र में मां को खोने वाले इस सुपरस्टार ने घर चलाने के लिए की कंडक्टर की नौकरी, कुली का भी किया काम….

आज हम आपसे बात करने जा रहे हैं एक ऐसे स्टार के बारे में जो कि एक टॉलीवुड और बॉलीवुड दोनों ही फिल्म इंडस्ट्री में बहुत अधिक नाम कमा चुके हैं। उनके अभिनय की बात की जाए तो उन्होंने अपने अभिनय और अदाकारी के दम पर आज अपना दर्शकों के बीच लोहा मनवाया है जी हां हम बात कर रहे हैं सुपरस्टार रजनीकांत के बारे में। आपको बता दे रजनीकांत को दादा साहेब फाल्के अवार्ड से सम्मानित किया जाएगा। आपको बता दें केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने यह घोषणा की है कि सुपरस्टार रजनीकांत को सबसे बड़े अवॉर्ड दादासाहेब फालके अवॉर्ड मिलेगा।

मंत्री जी ने कहा कि 3 माई को रजनीकांत को 51 वा दादा साहेब फाल्के अवार्ड दिया जाएगा। आपको बता दे रजनीकांत का जन्मदिन 12 दिसंबर 1950 को बेंगलुरु के मराठी परिवार में हुआ था। रजनीकांत का असली नाम शिवाजी राव गायकवाड़ है।आपको बता दें रजनीकांत एक गरीब परिवार से थे और उन्होंने अपनी कड़ी मेहनत और अपने साथ अपने अदाकारी के दम पर बॉलीवुड और बॉलीवुड में बहुत सफलता हासिल की है। साउथ में रजनीकांत को थलाइवा, भगवान कहा जाता है।

वहीं अगर रजनीकांत के माता-पिता की बात की जाए तो जीजाबाई और रामोजी राव के चार बच्चो मे शिवाजी राव गायकवाड़ सबसे छोटे हैं। आपको बता दें सिर्फ 4 साल की आयु में रजनीकांत के सर से उनकी मां का साया उठ गया था।हम आपको बता दे रजनीकांत के परिवार की आर्थिक हालत तो बहुत कमजोर थी और इस कारण रजनीकांत ने अपने जीवन से संघर्ष करते हुए बहुत से काम किए उन्होंने किसी भी काम को करने में कोई शर्म महसूस नहीं की।रजनीकांत ने बस कंडक्टर से लेकर कोली तक का काम किया है और नहीं बस कंडक्टर के दौरान उनके टिकट काटने का जो अंदाज था वह आज तक लोगों को याद है वो अनोखा अंदाज़।एयर टिकट काटने का अनोखा अंदाज़ देखते हुए उनके दोष राजबहादुर ने उनको एक्टर बनने की सलाह दी थी। और उनके दोस्त राजबहादुर ने उनके एक्टर बनने में रजनीकांत की बहुत अधिक सहायता भी की थी।

आपको बता दें रजनीकांत के कोई दोस्त रजनीकांत की सहायता के लिए आ गया है जो कि उनके साथ बस कंडक्टर के काम में ही लगे थे उन्होंने रजनीकांत को काफी प्रोत्साहित किया और रजनीकांत ने एक्टिंग के साथ-साथ तमिल भी सीखी।इस सब के दौरान ही रजनीकांत की मुलाकात डायरेक्टर के बालचंद्र से हुई.और उन्होंने अपनी फिल्म अपूर्वा रागंगाल मैं काम करने का मौका दिया.
और अगर इस फिल्म के लीड रोल की बात करें तो कमल हसन और श्रीविद्या लीड रोल में नजर आए थे लेकिन इसमें इस फिल्म में रजनीकांत का छोटा सा नेगेटिव रोल था इस रोल के बाद शुरू में दो-तीन साल तक रजनीकांत को ऐसे ही रोल मिलते रहे। वहीं जब रजनीकांत ने अपने नेगेटिव रोल की इमेज को खत्म करने के लिए फिल्म भुवन और कैलिवकुरी में बतौर हीरो काम किया था मथुर मम और रजनीकांत की जोड़ी ऑडियंस को बहुत ज्यादा पसंद आई थी और उसके बाद उन्होंने तकरीबन 25 फिल्मों में काम किया।

इसके बाद रजनीकांत इतने ज्यादा फेमस हो गए कि दर्शक उनकी फिल्म देखने के लिए बहुत उत्सुक रहते थे,और जब सिनेमाघरों में जाते तो उनके फिल्म में आते ही सिक्के उछाल ने लगते थे.सिक्के उछालने से सिनेमाघरों में नुकसान होने लग गया. सिनेमा घर के पर्दे फट जाते थे इसके बाद से साउथ के सिनेमा घरों में सिक्के ले जाने पर पाबंदी लगा दी गई थी। रजनीकांत इतने बड़े सुपरस्टार होने के बाद भी एक बहुत सादा जीवन जीना पसंद करते हैं,और अपनी निजी जिंदगी में बहुत ही ज्यादा सादगी पसंद व्यक्ति हैं. जब भी रजनीकांत की कोई नई पिक्चर रिलीज होती है उसके बाद रजनीकांत हिमालय पर मैडिटेशन करने के लिए चले जाते हैं.

वहीं अगर रजनीकांत की दरियादिली की बात करें तो रजनीकांत की फिल्म जब भी सिनेमाघरों में आती है तो यूं ही लोगों की दर्शकों की भीड़ उनके फैंस की उमड़ आती है और उनकी पिक्चर सुपरहिट हो जाती है लेकिन अगर फिल्म नहीं चलती तो रजनीकांत ने अपना एक नियम बना रखा है कि वह फिल्म ना चलने पर उसका सारा पैसा वापस कर देते हैं। वहीं अगर रजनीकांत की फीस की बात करें तो वह सबसे ज्यादा फीस लेने वाले सुपरस्टार हैं मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक रजनीकांत ने फिल्म कबाली के लिए के लिए 40 से 60 करोड़ लिए थे वहीं वर्ष 2018 में रिलीज हुई फिल्म 2.0 के लिए भी रजनीकांत ने करीब 80 करोड फीस ली थी. रजनीकांत को वर्ष 2000 में भारत सरकार ने पद्म भूषण और पद्म विभूषण से सम्मानित किया था. रजनीकांत ने 1975 में फिल्म अपूर वरंगल से अपने करियर की शुरुआत की थी इसके बाद उन्होंने अंधा कानून इनसाफ कौन करेगा,कबाली,दरबार और शिवाजी द बॉस जैसी कईफिल्मों में अपनी एक्टिंग का लोहा मनवाया है।

source.https://m.dailyhunt.in/news/india/hindi/asianet+news+hindi-epaper-asnethin/4+sal+ki+umr+me+ma+ko+khone+vale+is+suparastar+ne+ghar+chalane+ki+kandaktar+ki+naukari+kuli+ka+bhi+kiya+kam-newsid-n267212256?s=a&uu=0x1997cf9393abe3a3&ss=pd

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *