Breaking News
Home / खास / 22 को आने वाले थे शहीद थे ऋषि,बहन की शादी 29 को एकलौते बेटे की खबर सुनते ही माँ हो बेसुध –

22 को आने वाले थे शहीद थे ऋषि,बहन की शादी 29 को एकलौते बेटे की खबर सुनते ही माँ हो बेसुध –

जम्मू कश्मीर के नौशेरा सेक्टर में शनिवार को लैंडमाइन विस्फोट में बेगूसराय के वार्ड 16 पिपरा जीडी कॉलेज रोड के रहने वाले लेफ्टिनेंट ऋषि कुमार शहीद हो गए इकलौते बेटे के शहीद होने की खबर सुनकर लेफ्टिनेंट ऋषि कुमार की मां का बुरा हाल हो गया है रोते-रोते! शनिवार की शाम छेह बजे सेना मुख्यालय के द्वारा घर के सदस्यों को लेफ्टिनेंट ऋषि के शहीद होने की सूचना फोन पर दी वहीं घटना की ख़बर सुनकर आसपास के लोग उनके जानने वाले उनके घर पहुंच कर ऋषि कुमार की मां और पिताजी और घर के अन्य सभी सदस्यों को समझा बुझा रहे थे!

1 नवंबर को लेफ्टिनेंट ऋषि कुमार का पार्थिव शरीर बेगूसराय लाए जाने की संभावना है परिजनों ने बताया की जम्मू कश्मीर के राजौरी जिले में नियंत्रण रेखा से सटे अग्रिम चौकी के पास शनिवार को विस्फोट हो गया! इसमें सेना के दो और भी जवान शहीद हो गए हैं! नौशेरा सेक्टर के कलाल इलाके में जिस जगह यह हादसा हुआ है सूत्रों के मुताबिक वहां पर सर्च अभियान चलाया जा रहा था! आपको आगे बताते चले की परिवार के लोगों से मिली जानकारी के अनुसार लेफ्टिनेंट ऋषि ने एनडीए में सफलता प्राप्त कर सेना में नौकरी पाई थी.

एनडीए की परीक्षा पास कर 3 साल की कड़ी ट्रेनिंग के बाद सेना में दाखिल हुई थे वर्तमान में ऋषि कुमार की उम्र महज 23 साल की थी इतनी कम उम्र में उन्होंने इस मुकाम को हासिल किया था! पिछले एक महीने पहले ही उनकी जम्मू कश्मीर में पोस्टिंग हुई थी परिवार के सदस्यों के अनुसार वह बचपन से ही मेधावी छात्र थे ऋषि कुमार के पिता राजीव रंजन बेगूसराय में लकड़ी का व्यवसाय करते हैं जबकि उनकी मां सविता देवी ग्रहणी है लेफ्टिनेंट ऋषि की दो बहने हैं जिसमें एक बहन ऋषि से बड़ी और एक दूसरी बहन ऋषि से छोटी है ऋषि की बड़ी बहन की 22 नवंबर को शादी होने वाली थी.


.जिसमें ऋषि उनकी शादी में घर आते! ऋषि के शहीद होने की खबर सुनते ही पूरे घर में कोहराम मचा हुआ है उनकी मां बहन और पिताजी का रो रो कर बुरा हाल है घर की पहली मंजिल पर विलाप करती मां लगातार एक ही रट लगाए हुई है इकलौता दीपक बुझ गए हो आप के आयग देतेय उनके घर पर मिलने वालों का तांता लगा हुआ है पिता राजीव रंजन सिंह इकलौते पत्रिका खोने के गम में बेसुध दिखे इसी दौरान ऋषि के शहीद होने की जानकारी जैसे ही मोहल्ले वालों को मिली सब स्तब्ध रह गए सभी लोग लेफ्टिनेंट ऋषि के घर भागे और पीड़ित परिजनों को सांत्वना दी!!

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *