Breaking News
Home / खबर / 12 साल में हो गई थी शोले की मौसी की शादी, पहली फिल्म के लिए मिले थे 500 रुपये

12 साल में हो गई थी शोले की मौसी की शादी, पहली फिल्म के लिए मिले थे 500 रुपये

साल 1975 में आई फिल्म ‘शोले’ में मौसी का किरदार निभाकर मशहूर हुईं अभिनेत्री लीला मिश्रा के बारे में,लीला मिश्रा अचानक ही फिल्मों में आ गई थी और उनका फिल्मी दुनिया में आने का किस्सा बेहद दिलचस्प है,फिल्म ‘शोले’ में हर किरदार अलग था और आज भी लोगों के जेहन में बसा हुआ है,लेकिन मौसी का किरदार भी लोगों को काफी पसंद आया था,मौसी और जय (अमिताभ बच्चन) का संवाद आज भी लोगों के दिलों में है,अपने जमाने की मशहूर अभिनेत्री लीला मिश्रा का जन्म उत्तर प्रदेश के एक गांव के जमींदार के घर में हुआ था,लीला को शिक्षा-दीक्षा नहीं मिल सकी थी, क्योंकि उनके घर में लड़कियों को पढ़ने की इजाजत नहीं थी,इसी वजह से लीला की शादी भी बेहद कम उम्र में हो गई,

लीला की उम्र सिर्फ 12 साल रही होगी जब उनकी शादी बनारस के रहने वाले राम प्रसाद मिश्रा के साथ कर दी गई थी,शादी के कुछ ही सालों के भीतर लीला मिश्रा मां बन चुकी थीं,अपनी जिंदगी के 17 वर्ष पूरे होने तक लीला मिश्रा दो बच्चों की मां बन गईं थीं,उनकी दो बेटियां थीं,वह जायस रायबरेली से आती थीं,वह और उनके पति जमींदार परिवारों से थे,

राम प्रसाद का स्वभाव बेहद खुले विचारों वाला था,वो किसी भी चीज को लेकर दबाव नहीं बनाते थे,लीला भी उन्होंने अपने फैसले लेने की पूरी आजादी दी हुई थी,लीला के पति राम प्रसाद अक्सर बॉम्बे आया-जाया करते थे और वहां कश्मीरी नाटकों में काम किया करते थे,बॉम्बे में ही राम प्रसाद के एक दोस्त रहते थे,जो कि दादा साहेब फाल्के की फिल्म कंपनी में काम करते थ,एक दिन वो राम प्रसाद के घर आए,उन्होंने लीला को देखा और उनकी खूबसूरती और भोली सी सूरत को देखकर उन्होंने अपने दोस्त राम प्रसाद को लीला को फिल्मों में काम करने को लेकर सलाह दी,

पहले तो राम प्रसाद ने इस बात के लिए साफ इनकार कर दिया लेकिन फिर मामा के समझाने के बाद वो मान गए,इसके बाद राम प्रसाद व लीला दोनों ही बॉम्बे के लिए रवाना हो गए थ,जहां पहुंचकर दोनों ने अपनी अदाकारी शुरू की और फिल्मों में काम मांगने के लिए जाने लगे,इन दोनों की पहली फिल्म साल 1936 में एक साथ आई थी,जिसका नाम ‘सती सुलोचना’ था,इसमें राम प्रसाद ने रावण का किरदार निभाया था,तो लीला ने मंदोदरी का रोल अदा किया था,इस फिल्म में काम करने के लिए लीला को 500 रुपये मिले थे,

 

लीला मिश्रा बेहद खूबसूरत अभिनेत्री थी लेकिन उन्होंने कभी कोई लीड रोल नहीं निभाया,ऐसा नहीं था कि उन्हें लीड रोल ऑफर नहीं हुए बल्कि उन्होंने करने से ही मना कर दिया था,इसके पीछे की वजह कही जाती है लीला मिश्रा को पराए मर्दों का छूना बिल्कुल भी पसंद नहीं था,यही वजह थी कि वो हमेशा ही मां, मौसी, नानी और चाची वाले किरदारों में ही नजर आती थीं,जब वह उसकी शूटिंग करने लगीं, तब उन्हें बाहरी आदमियों का स्पर्श बिल्कुल पसंद नहीं आया,इसके बाद से उन्होंने कभी भी लीड रोल करने की नहीं सोच,

लीला मिश्रा ने लगभग पांच दशक तक फिल्मों में काम किया और इस दौरान उन्होंने 60 से अधिक फिल्मों में काम किया था,जिसमें ‘अनमोल घड़ी’, ‘आवारा’, ‘प्यासा’, ‘लाजवंती’, ‘शोले’, ‘पहेली’, ‘चश्मे बद्दूर’ और ‘प्रेम रोग’ जैसी फिल्में शामिल हैं,’शोले’ के अलावा फिल्म ‘नानी मां’ में भी निभाए गए उनके किरदार ने खूब सुर्खियां बटोरीं थी,इसी फिल्म के लिए एक्ट्रेस लीला मिश्रा को पहली बार 73 साल की उम्र में ‘बेस्ट एक्ट्रेस’ के अवॉर्ड से नवाजा गया था,मशहूर और खूबसूरत अभिनेत्री लीला का निधन 17 जनवरी 1988 को दिल का दौरा पड़ने की वजह से हुआ था,

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *