Bollywood

सिंगर केके के निधन के बाद बेटे नकुल ने शेयर की भावुक कर देनी वाली पोस्ट ,लिखा ‘आपने हमेशा मेरी रक्षा की

सिंगर केके उर्फ कृष्णकुमार कुन्नथ भारतीय म्यूजिक इंडस्ट्री के एक फेमस सिंगर थे। उन्होंने हिंदी, तमिल, तेलुगु, कन्नड़ और बंगाली सहित कई भाषाओं में गाने गाए हैं। कुछ दिन पहले उनका दिल की गति रुकने से निधन हो गया था। उनके अचानक जाने से हर कोई हैरान था। उनका परिवार इस सदमे से अभी भी निकल नहीं पाया है। अब उनके छोटे बेटे नकुल कृष्ण ने अपने पिता की याद में कुछ पुरानी तस्वीरें शेयर की हैं और एक भावुक नोट भी लिखा है

केके का 31 मई 2022 को कोलकाता में एक शो के दौरान हार्ट अटैक से निधन हो गया था।

उनके परिवार की बात करें, तो उनके घर में पत्नी ज्योति, बड़ी बेटी तमारा और छोटे बेटे नकुल कृष्ण हैं। केके को खोने का दर्द तीनों अभी तक भूल नहीं पाए हैं। यही कारण है कि, उनके बेटे और बेटी सोशल मीडिया पर तस्वीरें शेयर करते हुए अपने पिता को याद करते रहते हैं।

21 जून 2022 को नकुल कृष्ण ने अपने इंस्टा हैंडल से अपने पिता केके की याद में तस्वीरों की एक सीरीज शेयर की है, जिसमें उनके पिता केके उनके साथ नजर आ रहे हैं। अपने पिता को याद करते हुए नकुल ने एक लंबा-चौड़ा नोट भी लिखा है। पहले बात करते हैं उनकी तस्वीरों की। सामने आई फोटोज में नकुल और केके के साथ बिताए कुछ प्यारे पल दिख रहे हैं, वहीं एक फैमिली फोटो भी है, जिससे ये पता चलता है कि, ये परिवार साथ में कितना खुश था

इन फोटोज को शेयर करते हुए नकुल ने लिखा, ”3 हफ्ते पहले जो हुआ, उससे बाहर आने में मुझे थोड़ा समय लगा। अब भी शारीरिक दर्द है, जैसे मेरा दम घुट रहा है, जैसे लोग मेरे सीने पर खड़े हैं। मैं अपने पिता के बारे में कुछ कहना चाहता था, लेकिन अंत में मैं सदमे में चला गया। मुझे आखिरकार असली दर्द समझ में आ गया। मुझे अब सिर्फ दर्द का अहसास हुआ है, जो आपने मुझे दिया है। मेरे पास अब तक का सबसे बड़ा अधिकार आपको रोज देखने का था।
आगे उन्होंने उस प्यार के बारे में लिखा है, जो केके के फैंस ने उनपर बरसाया था। उन्होंने लिखा, ”आपने लोगों के साथ जैसा व्यवहार किया, लोगों ने भी आपको वैसा ही प्यार दिया। खास तौर पर आप अपनी सिंगिग को लेकर कितने भावुक थे। लोग आपकी उदारता से प्यार करते थे। आपने एक पिता और एक दोस्त के रूप में इस रिश्ते को रखा था.

 

आगे उन्होंने लिखा, ”आपने मुझे हमेशा एक समान माना और साथ ही मेरी रक्षा भी की। मुझे बातचीत में एक अडल्ट की तरह व्यवहार करना सिखाया। मुझ पर भरोसा करना, मुझे खुद बनाने के लिए, मुझे सुनने के लिए और जो मैंने आपसे कहा उस पर अपनी राय बदलना। आप एक खुली सोच रखने वाले व्यक्ति थे, आपने मुझे इन सब के बारे में बताया। मुझे ये महसूस करने में काफी देर हो गई कि, हमारा रिश्ता सबसे अलग था।” अपने नोट के अंत में नकुल ने लिखा, ”वह असंभव रेखा, जहां लहरें साजिश करती हैं, जहां वे लौटती हैं, जिस जगह शायद आप और मैं फिर मिलेंगे.

To Top