खबर

जामुन की गुठली से इस तरह करे डायबिटीज कंट्रोल ,गुठलियों का इस तरह उपयोग करना होगा फायदेमंद

आयुर्वेद के हिसाब से जामुन की गुठली डायबीटीज के मरीजों के लिए बहुत अच्छी दवाई है.जामुन की गुठली को सुखाकर उनका पाउडर बनाया जाता है.इस पाउडर को खाली पेट लेने डायबीटीज या मधुमेह जैसी बीमारी में सबसे अच्छा फायदा मिलता है.शुगर कंट्रोल में रहती है और अपनी खाने पिने की परेशानी से निजात पा सकते है.जामुन की गुठलियों से पाउडर बनाना बेहद आसान है.जामुन खाने के बाद इसकी गुठलियों को धो लें.इन्हें हल्के कपड़े से ढककर धूप में सुखा लें.हल्के कपड़े से हमारा मतलब जॉर्जट या शिफॉन से है.लाइट कॉटन का फैब्रिक सबसे सही रहेगा.जब गुठलियां सूख जाएं तो इनको टुकड़ों में तोड़ लें.इसके लिए अदरक कूटने के मूसल का भी इस्तेमाल कर सकते हैं.जब ये गुठलियां छोटे टुकड़ों में टूट जाएं तो इन्हें मिक्सी में पीसकर पाउडर बना लें.इस पाउडर को सुबह खाली पेट पानी के साथ लें.

 

जामुन का रोजाना सेवन करने से पेट संबंधित समस्याएं दूर होती हैं.
– इसकी छाल का काढ़ा बनाकर पीने से पेट दर्द और अपच जैसी समस्याएं दूर होती हैं.
– शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने में भी जामुन मददगार है.
-जामुन का सेवन करने से शरीर में खून की कमी पूरी होती है.
-पथरी की समस्या होने पर जामुन की गुठली का पाउडर बनाकर दही में मिलाकर खाने से राहत मिलती है.

हालांकि आयुर्वेदिक औषधियां सेहत पर किसी तरह का साइडइफेक्ट नहीं करती हैं, लेकिन फिर भी औषधि को हमेशा किसी योग्य चिकित्सक की सलाह के बाद ही लेना चाहिए.हमने आपको यहां जामुन की गुठली के लाभ के बारे में बताया है.ताकि आप अन्य दवाओं के साइडइफेक्टस से बच सकें.लेकिन इस पाउडर को आपको कितनी मात्रा में लेना चाहिए, इसके लिए आयुर्वेदिक चिकित्सक से अवश्य परामर्श करें.

To Top