खास

बुलेट को अपनी बेटी की तरह रखते है ये बुजुर्ग दंपति ,कर चुके है इसी पर भारत का भ्रमण

आज बहुत लोग से चाहते हैं कि वो ट्रैवल करें दुनिया देखें, नई नई जगहों को एक्सपलोर करें लेकिन सब कुछ होते हुए भी बहुत से लोग हिम्मत नहीं कर पाते,डर नहीं निकाल पाते। वहीं गुजरात के 77 वर्षीय के मोहनलाल पोपट लाल जैसे भी शख्स हैं जो इन तमाम तरह की निराशाओं में से निकलते हुए कुछ ऐसा करते हैं कि उनकी उम्र के लोग तो उनसे प्रेरणा ले ही रहे वहीं नौजवान भी उनसे प्रेरणा ले सकते हैं।

 

दरअसल वडोदरा गुजरात मोहनलाल पोपटलाल करीबन 77 वर्षीय रिटायर व्यक्ति हैं और उन्हें बाइक चलाने का काफी शौक है। और उनके इस शौक में उनका साथ देती हैं उनकी पत्नी लीला। बाम्बे ह्यूमन्स फेसबुक पेज पर शेयर हुई इस स्टोरी में मोहनलाल ने बताया कि 2011 में उन्हें हार्ट अटैक आया और एक दुर्घटना में उनकी पत्नी की टांग टूट गई। इस दौरान डॉक्टरों ने उन्हें बाइक राइड न करने की सलाह दी, परंतु जैसे ही मोहनलाल थोड़ा फिट हुए उन्होंने फिर से अपनी बुलेट मोटरसाइकिल दौड़ाने की सोची।

मैं अपनी जिंदगी बुढ्डा बन कर नहीं बिताना चाहता-


मोहन लाल कहते हैं कि मैंने ये सोचा कि मुझे अपनी बाकी की जिंदगी एक बुढ्डे की तरह नहीं गुजारनी। उन्होंने कहा कि, ‘तब मैंने सोचा कि मैं तो सिर्फ 67 साल का हु। तो मैंने इस ओर सोचना शुरू किया और मैंने अपनी 1974 मॉडल बुलेट बाइक बाहर निकाली और आसपास के शहरों को घूमना शुरू कर दिया।लोग कहते हैं ‘जय और वीरू आ गए: मोहनलाल कहते हैं कि अब जब भी हमें लोग सड़क पर देखते हैं तो कहते हैं कि ‘जय और वीरू की जोड़ी आ गई’।

पत्नी लीला के लिए लगवा दी बुलेट पर साइडकार
बकौल मोहन लाल, ‘मैं अकेले बाइक पर घूमने के बाद खुशी महसूस करता था लेकिन मैं साथ ही अपनी पत्नी को भी मिस करता था, तब वो व्हीलचेयर पर थी, तो अब वह मेरी बाइक के पीछे नहीं बैठ सकती थी, जैसे वह पहले बैठ जाती थी। तो मैंने बुलेट के साथ साइडकार अटैच करवा दी, और उसमें कंफर्टेबल सीट भी एडजस्ट करवाई ताकि लीला आसानी से बैठ सके।

 

2016 से शुरू हुआ सफर 30 हजार किलोमीटर तक पहुंचा
मोहन लाल कहते हैं कि 2016 में उन्होंने छोटी ट्रिप्स पर जाना शुरू किया। तब उन्होंने प्लॉन किया कि अब उन्हें भारत देखना है। मोहन लाल ने कहा कि फिर हमने अपनी एफडी तुड़वाई और वडोदरा से महाराष्ट्र, केरल, गोआ, कर्नाटका और तामिलनाडू पूरा घूम डाला। कुल 75 दिनों के ट्रिप के बाद दोनों वापिस वडोदरा लौटे। मोहनलाल कहते हैं कि उनकी पत्नी लीला उनकी फाइनांस मैनेजर हैं और पूरा हिसाब से चलती हैं।2018 में नॉर्थ ईस्ट घूम डाला:- वहीं मोहनलाल और लीला ने अपने बुलेट पर 2018 में नॉर्थ ईस्ट को कवर किया और विभिन्न लोगों से मुलाकात और उनकी संस्कृति के बारे में जाने। अलग-अलग जगह घूम कर दोनों ने काफी दोस्त बनाए और जहां भी जाते लोग उनका स्वागत करते।

To Top