Breaking News
Home / खबर / मेरठ: भ्रष्टाचार के खिलाफ SSP प्रभाकर चौधरी का कड़ा एक्शन, 75 पुलिसकर्मियों को किया लाइन हाजिर

मेरठ: भ्रष्टाचार के खिलाफ SSP प्रभाकर चौधरी का कड़ा एक्शन, 75 पुलिसकर्मियों को किया लाइन हाजिर

प्रतिदिन हमें भ्रष्टाचार के आरोप पढ़ने और सुनने को मिलते हैं. बढ़ते हुए भ्रष्टाचार को रोकने के लिए आईपीएस अधिकारी प्रभाकर चौधरी ने मेरठ के पुलिस स्टेशन में एसएसपी का पद 15 जून को संभाला है. आईपीएस प्रभाकर चौधरी एसएसपी का पद संभालने से पहले ही अपना काम करना शुरू कर दिया. आपको बता दें प्रभाकर चौधरी ने मेरठ के पुलिस स्टेशन में एसएसपी का पद संभालने से पहले पूरे मेरठ शहर का भ्रमण किया. और गोपनीय तरीके से सभी भ्रष्टाचारियों का पता लगाया. जब से प्रभाकर चौधरी ने एसएसपी का पद संभाला है तब से वह सुर्खियों में बने हुए हैं. पद संभालते ही प्रभाकर चौधरी ने मेरठ के 75 पुलिसकर्मियों को काम पर लगा दिया है.

मेरठ के एसएसपी प्रभाकर चौधरी को भ्रष्टाचार के आरोपियों की खबर व्हाट्सएप और गोपनीय तरीके से प्राप्त हुई है. इससे पहले भी अनेक व्यक्तियों ने एसपी और सी ओ अधिकारियों को भ्रष्टाचार के आरोप की शिकायतें दर्ज करवाई थी. इन सभी सूचना के आधार पर प्रभाकर चौधरी ने काम करना शुरू कर दिया है. और इसी के साथ उन्होंने अपने पुलिस स्टेशन के सभी पुलिस कर्मियों को काम पर भी लगा दिया है. जबसे आईपीएस प्रभाकर चौधरी ने अपना कार्यभार संभाला है तब से उनके राज्य में भ्रष्टाचार की खबरें कम सुनाई दे रही है. इसके लिए उन्होंने एक हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया है.


जिसमें कोई भी व्यक्ति भ्रष्टाचार के आरोप में शिकायत दर्ज करवा सकता है. हेल्पलाइन के जरिए शिकायत करने वाले प्रत्येक व्यक्ति का नाम गोपनीय रखा जाएगा. आईपीएस प्रभाकर चौधरी ने यहां तक कहा है कि किसी भी पुलिस वाले को ₹1 भी रिश्वत देने की आवश्यकता नहीं है. अगर कोई पुलिस वाला रिश्वत लेते हुए पकड़ा गया तो उस पर सख्त कार्रवाई की जाएगी.
एक रिपोर्ट के अनुसार मेरठ के एसएसपी प्रभाकर चौधरी ने अपने पुलिस स्टेशन के 75 पुलिसकर्मियों को बुधवार 7 जुलाई 2021 को एक लाइन हाजिर होने को कहा है.


मेरठ में एसएसपी का पद संभालने के बाद प्रभाकर चौधरी ने एक टीम बनाई है जिसके तहत सालों से दर्ज केसों पर काम किया जाएगा. उन्होंने इस टीम को आदेश दिया है कि प्रत्येक केस की बारीकी से जांच हो. किसी के साथ प्रत्येक पुलिसकर्मी का ब्यौरा मांगा है. और यह भी पता लगाने की कोशिश की जा रही है कि किसी पुलिस कर्मचारी ने कभी रिश्वत ली है या उनके खिलाफ रिश्वत देने के लिए, कोई केस दर्ज हुआ है. प्रभाकर चौधरी की यह बातें कुछ लोगों को पसंद नहीं आई है. जब से प्रभाकर चौधरी ने टीम जारी की है तब से पुलिस स्टेशन के थानेदार से लेकर कॉन्स्टेबल हर कोई परेशान है. इस लिस्ट में 37 कॉन्स्टेबल, 32 हेड कॉन्स्टेबल, थाने की जीप चलाने वाले 4 व्यक्तियों और दो दरों को का नाम शामिल है.


भारत के उत्तर प्रदेश के अंबेडकर नगर में रहने वाले प्रभाकर चौधरी ने साल 2010 के बैच में आईपीएस अधिकारी की शिक्षा प्राप्त की. बैचलर ऑफ साइंस की डिग्री इलाहाबाद यूनिवर्सिटी से प्राप्त करने के बाद उन्होंने एलएलबी भी किए. मेरठ में एसएसपी का पद संभालने से पहले आईपीएस प्रभाकर चौधरी ने बुलंदशहर, कानपुर और बलिया में एसपी का पद संभाल चुके हैं. प्रभाकर चौधरी वाराणसी और मुरादाबाद में भी एसएसपी का कार्यभार संभाल चुके हैं. उनके इतने साल के कार्य और अनुभव को देखकर कहा जा सकता है कि मेरठ में उनके आने से भ्रष्टाचार के आरोप में कमी आ रही है.


प्रभाकर चौधरी ने एक इंटरव्यू के दौरान बताया था. मुझे केमिस्ट्री पढ़ने का बहुत ही शौक था. और मैं केमिस्ट्री का लेक्चर और बनना चाहता था. लेकिन मेरी किस्मत में कुछ और ही लिखा था. कानपुर में एसपी का कार्य भार संभालने से पहले भी मैंने स्टूडेंट की तरह रोडवेज बस में सफर किया. और पता लगाया कि मुझे किस क्षेत्र में विकास और सुधार की आवश्यकता है. मेरा हमेशा यह प्रयास रहता है कि हमारा भारत जल्दी भ्रष्टाचार से मुक्त हो जाए ।

sorce

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *