Breaking News
Home / बॉलीवुड / एयरपोर्ट चेकिंग से परेशान होकर सुधा चंद्रन ने पीएम मोदी से कहा ‘नकली पैर दिखाने पर हाेता है दुख’

एयरपोर्ट चेकिंग से परेशान होकर सुधा चंद्रन ने पीएम मोदी से कहा ‘नकली पैर दिखाने पर हाेता है दुख’

मशहूर अभिनेत्री टीवी पर्दे पर अपनी खास पहचान बना चुकी सुधा चंद्रन एक मशहूर भरतनाट्यम डांसर भी हैं.अभिनेत्री ने टीवी पर्दे पर अपने अभिनय से खास पहचान बनाई है. कई सीरियल्स किए जिन्हें अपने अभिनय से ख़ास छाप छोड़ी है कि दर्शक उन्हें याद करते हैं.ज्यादातर सुधा चंद्रन को नेगेटिव रोल में ही देखा गया है और उन्होंने उस नेगेटिव रोल को बखूबी निभाया.लेकिन अब आपको बता दें सुधा चंद्रन को काफी अपमानित होना पड़ा हवाई अड्डे में उन्हें बार-बार आर्टिफिशियल लिंब उतरवाकर चैकिंग करवाने से इस कदर परेशान किया गया कि उन्होंने हमारे प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी से किरत्रीम अंगों वालों  लोगों को एक विशेष कार्ड मुहैया कराने की अपील की है.एक्ट्रेस सुधा की शिकायत के बाद से सीआईएसएफ के एक अधिकारी ने अब उनसे माफी भी मांग ली है.


आपको बता दें 56 वर्षीय सुधा रविवार शाम को अपने सगराम पेज पर एक वीडियो शेयर करती हुई बताती हैं वह जब भी हवाई यात्रा करती हैं तो वहां पर उन्हें जांच के लिए जो भी प्रक्रियाएं की जाती है उस कारण से होने वाली मुश्किलों से बहुत आहत होती हैं. उन्होंने अपनी पोस्ट में लिखा, मैं हर बारबहुत  अत्यंत दुख मई इस जाँच से गुजर कर बहुत आहत होती हूं. उम्मीद है कि मेरा संदेश राज्य और केंद्र सरकार राज्य सरकारों तक पहुंचेगा और मैं इस मामले में तत्काल कदम उठाए जाने की अपेक्षा करती हूं.

हवाई अड्डे पर बनाए गए इस वीडियो में चंद्रन ने अपना परिचय देते हुए कहा कि मेरा नाम सुधा चंद्रन है. मैं पेशे से अभिनेत्री और डांसर हूं जिसने एक कृति अंग के साथ नृत्य किया है. और डांसर हूं  इतिहास रचा है अपने देश को गौरववंती किया है चंदन ने कहा कि उन्होंने हवाई अड्डा प्रशासन से कई बार अनुरोध किया है.वह उनके कृत्रीम पैर की ईटीडी (पता लगाने वाले उपकरण) से जांच करें लेकिन वह हर बार उन्हें इसे निकालने के लिए कहते हैं.

 

एक्ट्रेस ने वीडियो में कहा जब भी मैं पेशेवर यात्राओं पर जाती हूं तो हर बार मुझे हवाई अड्डे पर रोका जाता है मैं सुरक्षाकर्मियों से सीआईएसएफ अधिकारी से अनुरोध करती हूं.जी कृपया मेरे कृत्रीम अंग की ईटीवी जाँच करें तब भी वे चाहते हैं मैं अपना कृत्रीम निकालूं और उन्हें दिखाऊ. क्या यह मानवीय रूप से संभव है मोदी जी सुधा चंद्रन ने वीडियो में आगे कहा मोदी जी मेरा आपसे अनुरोध है कि वरिष्ठ नागरिकों की तरह हमें भी एक कार्ड दिया जाए.

इस वीडियो के बाद सीआईएसएफ के एक अधिकारी ने ट्वीट कर लिखा,सुधा चंद्रन को हुई असुविधा के लिए हमें अत्यंत खेद है. प्रोटोकॉल के अनुसार विशेष परिस्थितियों में हीसुरक्षा जांच के लिए प्रोस्थेटिक्स को हटाया जाता है. हम जाँच करेंगे कि संबंधित महिला कर्मियों ने सुश्री सुधा चंद्रन से प्रोस्टदटिक्स को हटाने का अनुरोध क्यों किया?आपको बता दें सुधा चंद्रन ने 1981 में 16 वर्ष की आयु में अपना एक पैर गंवा दिया था दुर्भाग्यवश हुए एक हादसे में घायल हो गई थी जिसके कारण चिकित्सकों को उनका पैर काटना पड़ा था बाद में एक कृत्रीम पैर  जयपुर फुट की मदद से उन्होंने चलना शुरू किया उसके बाद से वह एक पेशेवर डांसर के तौर पर प्रस्तुतियां देने के साथ फिल्म टीवी कार्यक्रमों में शानदार अभिनय कर रही हैं.

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *