Breaking News
Home / खबर / शादी से पहले दुल्हन की टूट गयी रिड की हड्डी फिर दूल्हे ने करदिया ऐसा काम के हर कोई हो गया हैरान

शादी से पहले दुल्हन की टूट गयी रिड की हड्डी फिर दूल्हे ने करदिया ऐसा काम के हर कोई हो गया हैरान

रिश्ते आसमानों पर बनते हैं इस धरती पर सिर्फ मिलना बाकी रह जाता है और जीवन साथी का साथ होना सबसे बड़े किस्मत की बात होती है. यह सात फेरों का बंधन सात जन्मों का बन जाता है.दो अजनबी एक दूसरे से मिलने के बाद ऐसे एक अनोखे और पवित्र रिश्ते में बन जाते हैं यह रिश्ता सबसे प्यारा और अनोखा रिश्ता बन जाता है.

अब एक ऐसा ही मामला सामने आया है जो कि इस रिश्ते की सारी पवित्रता और प्यार मान्यता पर खरा उतरता है.जैसा कि वर्ष 2006 में एक फिल्म भी बनी थी सूरज बड़जातिया की “विवाह “उस फिल्म में दिखाया गया था दुल्हन बनने वाली अमृता राव अपनी बहन को बचाने के चक्कर में शादी के दिन आग से जल जाती है और बुरी तरह जख्मी हो जाती है. तब शाहिद कपूर उससे शादी करते हैं.अब ऐसा ही एक रिश्ता असल जिंदगी में भी सामने आया है जो आज हम आप से चर्चा करने वाले हैं.

यह घटना यूपी के प्रयागराज की है जो देखने को मिला वह काफी सराहनीय और हैरत में डालने वाला भी है.यह मामला संगम नगरी प्रयागराज में देखने को सामने आया हाथों में मेहंदी लगी अस्पताल के बेड पर यह युक्ति नई नवेली दुल्हन आरती है और उसके पास बैठा जो युवक है उसका पति अवधेश है. जो अपनी पत्नी की देखभाल में लगा हुआ है. आपको बता दें प्रतापगढ़ के कुंडा इलाके में रहने वाली आरती की शादी की तैयारियां पूरी हो गई थी और 8 दिसंबर की शाम को बारात आने वाली थी लेकिन दोपहर में छत पर खेल रहे अपने 3 साल के भतीजे को बचाने के चक्कर में आरती छत से नीचे गिर गई हादसे में उसकी रीढ़ की हड्डी टूट गई. दोनों पैरों की ताकत चले गई.घर वालों ने उसे प्रयागराज के निजी अस्पताल में भर्ती कराया.

 


दूसरी तरफ दूल्हे अवधेश के घर वालों को इसकी सूचना दे दी गई. तो उसके घर से 2 लोग पता करने पहुंचे. मामले की सच्चाई घटना की जानकारी दूल्हे अवधेश को दी आरती के घरवालों ने अवधेश से आरती की छोटी बहन से शादी कर लेने की बात कही. लेकिन अवधेश ने ठान लिया था कि आरती ही उसकी जीवनसंगिनी बनेगी चाहे कुछ भी हो.वो जीवनभर उसका साथ निभाएगा. अवधेश अपनी धर्म पत्नी आरती का पूरा ख्याल रखता है पास खड़े रिश्तेदार और घरवाले इन दोनों के हौसले हिम्मत को सराहा ते हैं.

 


आरती के घर वाले डॉक्टर से बातचीत करके एक दिन के लिए उसे एंबुलेंस से वापस कुंडा ले गए.जहां अवधेश और बेड पर लेटी हुई आरती के साथ फेरे और रस्म अदायगी हुई. उसके बाद वापस आरती को प्रयागराज के इसी अस्पताल में भर्ती करा दिया गया. अवधेश और आरती अपने आप को बहुत खुशकिस्मत मानते हैं.जहां परेशानी में परछाई भी साथ छोड़ देती है ऐसे में एक दूसरे का साथ देकर लोगों के लिए मिसाल बने बैठे यह असल जिंदगी के हीरो बन गए.इन दोनों के इस निर्णय से हर कोई उनकी जमकर तारीफ कर रहा है.

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *