Breaking News
Home / कुछ हटकर / बंगाल की माझी,घर घर जाकर करती थी झाड़ू पोछा, अब बीजेपी के टिकट पर लड़ रही विधानसभा चुनाव….

बंगाल की माझी,घर घर जाकर करती थी झाड़ू पोछा, अब बीजेपी के टिकट पर लड़ रही विधानसभा चुनाव….

किस्मत में कब क्या लिखा है किसी को नहीं पता कौन जाने किसके भाग्य की उड़ान कब नई दिशा की तरफ भागय मोड़ लीए जाए। हम आपसे बात करने जा रहे हैं बंगाल की मांझी की जो की घरों में झाड़ू पोछा करती है। आपको बता दें इन दिनों चुनावी हलचल चल रही है.

कोलकाता: पश्चिम बंगाल की 993 विधानसभा सीटों पर चुनावी घमासान जारी है इस बार नंदीग्राम सीट चुनाव का केंद्र बनी हुई है क्योंकि खुद मुख्यमंत्री ममता बनर्जी यहां से मैदान में हैं आपको बता दें वही किसी जमाने में उनके करीबी रहे सुबह दो अधिकारी उन्हें बीजेपी की ओर से टक्कर दे रहे हैं इस सबके हटकर इन दिनों हाउस ग्राम विधानसभा सीट भी चर्चा का विषय बनी हुई है जहां बीजेपी ने एक डॉमेस्टिक हेल्पर यानी के मेड कलिता जी को टिकट दिया है जो रोजाना घरों में जाकर झाड़ू पोछा करती है।पश्चिम बंगाल चुनाव खड़गपुर में बोले पीएम मोदी 5 साल दीजिए 70 साल की बर्बादी को मिटा देंगे…

पति करते हैं प्लंबर का काम…

आपको बता दें कलिता माझी की कहानी बहुत ही सुंदर भरी है। नहीं अगर हम कलिता के निजी जीवन की बात करें तो बहुत ही गरीबी की वजह से वह पढ़ाई न कर सके और उन्हें यह उम्मीद थी कि शादी के बाद उनकी जिंदगी खुशहाल हो जाएगी लेकिन ऐसा भी ना हो पाया उनके पति पेशे से एक नंबर हैं और इतनी कमाई नहीं हो पाती है। जिससे उनका परिवार चल सके उनकी इतनी अच्छी स्थिति नहीं है जिससे वह अपने जीवन की जरूरतों को पूरा कर सकें. जिस कारण वर्ष उन्होंने घर-घर जाकर काम करना शुरू किया उन्होंने झाड़ू पहुंचे का काम करना शुरू किया इसी वजह से बीजेपी से भी वह जुड़ी रहीम आपको बता दें 2 दिन पहले ही कुछ स्थानीय लोग आए थे और बताया कि उन्होंने बीजेपी ने विधानसभा चुनाव के लिए टिकट दे दिया है। जब उन्होंने यह बात सुनी तो उनको विश्वास नहीं हुआ लेकिन बाद में यह खबर सुनकर उनको यकीन हुआ के यह बात तो सच है।

1 महीने की मांगी छुट्टी..

आपको बता दें इस बार पूर्वी बर्दवान जिले के आउट ग्राम सीट को उचित रखा गया है जिस वजह से पार्टी ने कलिता का नाम आगे किया ललिता के मुताबिक उनके लिए चुनाव लड़ना इतना आसान नहीं है वह पहले घरों में काम करती हैं फिर चुनाव प्रचार के लिए निकलती हैं नाम के ऐलान के बाद वह अपने मालिकों से मिली और उन्हें टिकट मिलने की बात बता कर 1 महीने की छुट्टी ले ली छुट्टी के बाद वह अपना पूराधियान चुनाव पर कर सकेंगे. आपको बता दें कलिता ने बताया कि उनके पिता की आर्थिक स्थिति इतनी अच्छी नहीं थी इस कारण वह केवल प्राइमरी तक ही पढ़ाई कर सकें। वही उनका यह सोचना है कि उनका पूरा लक्ष्य उस वक्त में चुनाव जीतने के बाद उनका मकसद गरीब बच्चों की शिक्षा की व्यवस्था करने में ही होगा।

पार्टी हाईकमान ने दी शुभकामनाएं…

आपको बता दें अगर कलिता डे के परिवार के बारे में बात करें तो उनके परिवार में उनके पति एक बेटा है जो कि आठवीं में पड़ रहा है. उनके पिता एक दिहाड़ी मजदूर थे जिनका निधन हो गया है.बाकी परिवार के सदस्य मंगल कोर्ट के कायम नगर में रहते हैं.दुनिया की सबसे बड़ी पार्टी होने का दावा करने वाली बीजेपी से टिकट मिलने के बाद परिवार के लोग बहुत ज्यादा खुश है.और वह भी प्रचार में जुट गए हैं. अगर हम कलीता के नाम का ऐलान होने के बाद पार्टी के महासचिव बी एल संतोष ने उनकी फोटो पोस्ट करते हुए ट्विटर पर लिखा कि यह कविता माझी है जो घरेलू सहायिका के रूप में काम करती है. इसको बीजेपी ने उसग्राम से टिकट दिया है.यह पंचायत चुनाव भी लड़ चुकी है बीजेपी हमेशा प्रतिभा और कड़ी मेहनत को पहचानती है।

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *