Breaking News
Home / कुछ हटकर / तिरुपति बालाजी मंदिर से चीन को हो रही थी बालों की स्मगलिंग, असम राइफल्स ने किया भंडाफोड़ जाने कीमत….

तिरुपति बालाजी मंदिर से चीन को हो रही थी बालों की स्मगलिंग, असम राइफल्स ने किया भंडाफोड़ जाने कीमत….

लोग अपनी आस्था के चलते बहुत से ऐसे विश्वास मन में बना लेते हैं कि अगर हम इस प्रकार कुछ करते हैं तो हमारी मुरादें पूरी हो जाएंगी इसी तरह का एक किस्सा सामने आया है.

आपको बता दें बेंगलुरु आंध्र प्रदेश में स्थित तिरुपति बालाजी मंदिर में लोग मन्नत मांग कर बाल चढ़ाते हैं ऐसी मान्यता है कि इस देव स्थान पर अपने बाल चढ़ाने से मन्नत पूरी होती है, वहीं कई लोग मन्नत पूरी होने के बाद यहां सिर के बाल चढ़ा देते हैं हर दिन हजारों की संख्या में दर्शन के लिए यहां आने वाले श्रद्धालु मंदिर दर्शन से पहले अपने बाल कटवाते हैं या मुंडवाते हैं.

वही अब इन बातों को लेकर चौंकाने वाली बात सामने आई है.इन वालों को आप अपनी मन्नत पूरी होने पर अर्पित कर कर आते हैं.उन बालों की स्मगलिंग चीन को की जा रही है। आपको बता दें असम राइफल्स ने ह्यूमन हेयर स्मगलिंग का भंडाफोड़ किया है मन मार के रास्ते भारत से चीन तक इन बालों की तस्करी की जा रही थी.

असम राइफल्स ने किया भंडाफोड़…

असम राइफल्स ने यह इंसानों के बाल की बड़ी खेप मिजोरम में पकड़ी है, जो तस्करी करके बॉर्डर क्रॉस कर मयन मार भेजे जा रहे थे. वरिष्ठ अधिकारी के अनुसार पहली बार ऐसे दो ट्रक पकड़े गए जिनमें बोरियों में ह्यूमन हेयर भरे हुए थे. अधिकारियों के अनुसार चुकी मैं मैं मयंमार बॉर्डर खुला है और इस रास्ते कई चीजों की तस्करी होती है. जो इस ट्रक को ले जा रहे थे जब असम राइफल ने उन्हें गिरफ्तार किया तो उन्होंने को बोला कि वह बाल आंध्र प्रदेश के तिरुपति से मिजोरम पहुंचे और यहां से म्यानमार भेजा जा रहा था. और मयन मार से यह बाल थाईलैंड भेजे जाते हैं.

इन बालों से विग बनाकर चीन करता है मोटी कमाई…

मिजोरम में अधिकारियों ने बताया इन मानव वालों को प्रोसेसिंग के बाद विक बनाया जाता है यह बाल चीन के पास से ही नहीं बल्कि या अन्य धार्मिक स्थानों से स्मगलिंग किए जाते हैं चीन के बाद में इनविगो को दुनिया के विभिन्न हिस्सों में निर्यात करता है चीन के पास 70% वैश्विक बिग बाजार है. जिसके लिए वह भारत से ज्यादातर मानव बाल प्राप्त कर रहा है. चीन द्वारा बनाए गए विद सेंट्रल एशिया और यूरोप में सप्लाई होते हैं.

आपको बता दें अधिकारियों ने बताया मिजोरम का 80 फ़ीसदी बॉर्डर बांग्लादेश और मिजोरम से लगता है। इसमें 510 किलोमीटर एरिया म्यानमार से लगता है मिजोरम ने मयंनमार के साथ अपनी सीमा का 510 किलोमीटर है सा साझा किया है। सीमा खुली है और कठिन इलाके के साथ अक्सर मादक पदार्थों हत्यारों और सोने की तस्करी होती है.अब असम राइफल्स ने सीमा पर मानव बालों की तस्करी का भंडाफोड़ किया है लगभग दो करोड़ थी इन बालों की कीमत।

आपको बता दें यह ऑपरेशन असम राइफल्स और सीमा शुल्क विभाग चंपई जिला की एक टीम द्वारा विशिष्ट सूचना के आधार पर किया गया था।मयमार बॉर्डर से 7 किलोमीटर पहले पकड़ा गया ट्रक जिसमें 50 किलो बाल 120 बैग में भरे थे बरामद मानव वालों की अनुमानित कीमत 1,80,00,000 रुपए है। आपको बता दें असम राइफल्स ने वर्षों से मिजोरम में तस्करी के खतरे से लड़ने के लिए जोर लगाया है। भारत म्यांमार सीमा के साथ-साथ तस्करी की सांठगांठ को रोकने के लिए व्यापक रूप से एंटी जब्ती अभियान सफल रहा है. वही आपको बता दें चाइना विग रैकेट नया खतरा है. जिसे असम राइफल्स ने इस क्षेत्र में तोड़ दिया है।

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *