News

सिर्फ 26 दिन में पहाड़ो में बना डाली रेल सुरंग विदेशी धरती पर नहीं बल्कि भारत में रचा गया यह कीर्तिमान

सिर्फ 26 दिन में पहाड़ों में बना डाली रेल सुरंग विदेशी धरती पर नहीं बल्कि भारत में रचा गया है यह कीर्तिमान. सरकार ने इस रेलवे लाइन को बिछाने में कई करोड़ रुपए लगा दिए और चार धाम की यात्रा अब रेल द्वारा संभव हो सकेगी.

आपको बता दें उत्तराखंड में त्रषीकेश से लेकर कर्णप्रयाग तक रेलवे मार्ग के काम की रफ्तार तेज हो गई है. 16 हज़ार 216 करोड़ों रुपए के इस रेल प्रोजेक्ट में शिवपुरी से ब्यासी तक के बीच 1 किलोमीटर की सुरंग को सिर्फ 26 दिन में ही बना कर नया कीर्तिमान रच दिया गया है.प्रशंसनीय कार्य के लिए मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रेल विकास निगम के साथ इस प्रोजेक्ट पर काम कर रहे देश के प्रतिष्ठित कंपनी L&T की तारीफ की है.

 

सीएम पुष्कर सिंह धामी ने कहा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मार्गदर्शन में RVNL पैकेज 2 के तहत ऋषिकेश कर्णप्रयाग रेलवे लाइन का कार्य L&T की टीम के लिए कठिन भौगोलिक परिस्थितियों के बावजूद केवल 26  दिनों में शिवपुरी से ब्यासी के मध्य 1,012 मीटर NATM (न्यू आस्ट्रेलियन टनलिंग मेथड )टनलिंग  को पूरा करकर एक नया कृतिमान स्थापित किया है. इस सराहनीय उपलब्धि के लिए टीम के सभी सदस्यों को मेरी ओर से हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं.

आपको बता दें उत्तराखंड में रेल प्रोजेक्ट 2 में 12 नए रेलवे स्टेशन और 17 नए सुरंगे बनाए जानी हैं.इनमें से 8 मीटर व्यास वाले 11 सुरंगों की लंबाई 6 किलोमीटर से ज्यादा है. इस सुरंगों में 6 मीटर व्यास के निकासी भी शामिल है.इस प्रोजेक्ट में अब तक 35 किलोमीटर से ज्यादा सुरंगे बनाए जा चुकी हैं.आपको बता दें 125 किलोमीटर लंबे प्रोजेक्ट के तहत देवप्रयाग टिहरी गढ़वाल और करणप्रयाग आपस में जोड़े जाएंगे. इसी कारण 100 किलोमीटर रेल लाइन सुरंगों के भीतर ही होगी. उधर केंद्र की सरकार ने विकास की गति को बढ़ाते हुए यमुनोत्री,गंगोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ धाम यानी कि चार धाम यात्रा को भी रेलवे लाइन से जोड़ने पर काम शुरू कर दिया गया है. आने वाले दिनों में यात्री रेल मार्ग से भी देवभूमि  पहुंच सकेंगे.

To Top