Breaking News
Home / राजनीतिक / UP Elections 2022: इन पार्टियों के साथ गठबंधन कर सकते हैं ओवैसी, खुद किया खुलासा

UP Elections 2022: इन पार्टियों के साथ गठबंधन कर सकते हैं ओवैसी, खुद किया खुलासा

उत्तर प्रदेश में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक पार्टियों में उथल-पुथल शुरू हो गई है। जिसको लेकर नेताओं द्वारा अलग-अलग तरह के बयान भी दिए जा रहे हैं ।हाल ही में एआईएमआईएम के प्रमुख माने जाने वाले असदुद्दीन ओवैसी ने एक बयान जारी किया है। जिसमें वे गठबंधन से लेकर कोई बात कर रहे हैं। ओवैसी का कहना है कि वह अपनी पार्टी को मजबूत करने के लिए एक मजबूत प्रत्याशी का चयन करना चाहते हैं। इसके लिए वे किसी भी पार्टी अन्य चुनाव दलों के साथ से गठबंधन करने के लिए राजी हैं ।उनका प्रमुख उद्देश्य बीजेपी को हराना है। लेकिन इसके लिए वे चाहते हैं कि दूसरी पार्टियां या कोई भी दल उनसे आकर बातचीत करें।

 

जब ओवैसी से कांग्रेस की स्थिति के बारे में बात की गई तो तो उन्होंने कहा कि उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की स्थिति ज्यादा अच्छी नहीं है ।कांग्रेस सरकार का यूपी में किसी भी प्रकार के जनता के साथ पकड़ नहीं है। जो भी कांग्रेस में खड़ा होता है। वह लगभग हार के कगार पर पहुंच ही जाता है। कांग्रेस के साथ गठबंधन करना कहीं की समझदारी नहीं है। हार के कारण ही राहुल गांधी को भी वहां से जाना पड़ा था।

असदुद्दीन ओवैसी ने जिला परिषद चुनाव को लेकर भी अपने विचार व्यक्त किए। उन्होंने सवाल खड़े किए हैं कि आखिर क्यों समाजवादी पार्टी ने जिला परिषद चुनाव में हर जगह अपने उम्मीदवार खड़े क्यों नहीं किए हैं ? और एक जगह उन्होंने जहां पर अखिलेश यादव का एक रिश्तेदार खड़ा हुआ है वहां पर उसके विरुद्ध किसी को भी खड़ा नहीं किया गया है इस परिस्थिति को लेकर भी ओवैसी ने सवाल खड़े किए हैं ।असदुद्दीन ओवैसी ने अपने गठबंधन के साथी ओमप्रकाश राजभर के बयान पर भी अपने विचार व्यक्त किए हैं। वह कहते हैं कि उनके साथी द्वारा दिए गए बयान से वे बिल्कुल भी संतुष्ट नहीं है। और ना ही वे उनका समर्थन करते हैं।

ऐसा कि राजभर ने बयान दिया कि बीजेपी अध्यक्ष से मिलने के बाद उनकी यह पार्टी बीजेपी से गठबंधन कर सकती है ।लेकिन ओवैसी का कहना है कि वह किसी भी हाल में बीजेपी से गठबंधन नहीं करेंगे। क्योंकि बीजेपी और ओवैसी की पार्टी अलग-अलग किनारे है जो कभी भी एक नहीं हो सकते हैं। गठबंधन करने के लिए पार्टी को सपा एवं बसपा के साथ भी हाथ मिलाना होगा। यदि यह गठबंधन सरकार बन जाती है और इनकी जीत हो जाती है तो 5 साल में पांच मुख्यमंत्री नियुक्त हो जाएंगे। यानी कि प्रत्येक वर्ष के कार्यकाल में एक नया मुख्यमंत्री बनाया जाएगा।

 

SORCE

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *