Breaking News
Home / खबर / यूपी मे राम भरोसे क़ानून व्यवस्था, दबंगो ने तोड़े हाथ, न्याय के लिए दर दर भटक रहा जवान…

यूपी मे राम भरोसे क़ानून व्यवस्था, दबंगो ने तोड़े हाथ, न्याय के लिए दर दर भटक रहा जवान…

भारत के उत्तरप्रदेश मे गुंडागर्दी की एक ऐसी घिनौनी वारदात सामने आई है.इन अपरधियों ने क़ानून वयवस्था को शर्मसार कर दिया है. अपराधी अपने बुरे कारनामो को अंजाम देते है और फरार हो जाते है. ऐसी ही चौकाने वाली घटना यूपी के मुरादाबाद ज़िलें से आई है. जहाँ कुछ बदमाशो ने हमारे देश के फौजी को भी नही छोड़ा.और वारदात को अंजाम देकर भाग गए. चलिए बताते है आपको यह पूरी घटना. “यह मामला यूपी के मुरादाबाद के मूंढापांडे थाना क्षेत्र के भुजपुरा आशा गांव का है. यहां दबंगो के हौसले इस कदर बढ़ गए है की एक फौजी जो की छुट्टी पर घर आया हुआ था. दबंगो ने उसकी ज़मीन पर ज़बरदस्ती कब्ज़ा करने की कोशिश की. इसी कोशिश को रोकने मे फौजी पर हमला कर दिया गया.सीआरपीऍफ़ का जवान गिरिराज का परिवार बुजपुर के आशा गांव मे ही रहता है. गांव के पास ही गिरिराज की अपनी ज़मीन पड़ी है. जो खुद फौजी के नाम है. जानकारी के अनुसार गांव के कुछ बदमाश ज़मीन पर ज़बरदस्ती कब्ज़ा करने लगे. जब फौजी के परिवार वालों को इस घटना के बारे मे पता चला तो उन्होंने इसका विरोध किया, तो दबंग बदमाशों ने फौजी की माँ और भाई पर हमला कर दिया.

और धमकी देकर चले गए. फिर इस घटना की जानकारी माँ ने सीआरपीऍफ़ मे तैनात जवान गिरिराज को दी और श्रीघ ही आने को कहाँ. यह घटना सुनकर गिरिराज ने कमांडेट को अपनी समस्या के बारे मे बताकर छुट्टी की अपील की. फिर गिरिराज की छुट्टी को मंज़ूरी मिल गई. घर आने के बाद अगले दिन सुबह गिरिराज खेत पर जाकर धान की फसल को देता है, तो इतनी देर मे गांव के कुछ दबंग लोग वहा आकर लाठी डंडो के प्रहार के बल पर ज़मीन पर कब्ज़ा करने आते है तो फौजी से उनकी मुठभेड़ हो जाती है.अपने हथियारों से से वो फौजी को ज़ख़्मी कर देते है. फिर फौजी की आवाज़ सुनकर ग्रामीण मौके पर गिरिराज की जान बचाते है. मगर दबंग लोग जाते हुए भी मारने की धमकी देकर फरार हो जाते है फिर पीड़ित परिवार 112 पर फ़ोन कर पुलिस की सहायता मांगते है. पुलिस मौका ऐ वारदात पर पहुंचकर सबको डरा धमकाकर घर भेज देती है.

और फौजी की रिपोर्ट भी दर्ज नही करती.सीआरपीऍफ़ जवान गिरिराज बताता है की मुरादाबाद के एसएसपी प्रभाकर चौधरी के पास दबंगो के खिलाफ लिखित शिकायत पत्र दिया था मगर थाना अध्य्क्ष और एसएसपी प्रभाकर ने कोई एक्शन नही लिया और फौजी को डरा धमकाकर वापस शिकायत पत्र वापस लेने को बोल दिया. इस पूरे प्रकरण के बाद फौजी मानसिक रूप से बीमार है. अब वे न्याय के लिए राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री भारत सरकार, और गृहमंत्री, रक्षा मंत्री, और योगी सरकार के पोर्टल पर शिकायत दर्ज की है. और फौजी का कहना है अगर उसे न्याय नही मिला तो पूरे परिवार के साथ इस दुनिया से चला जायेगा इसका ज़िम्मेदार पुलिस प्रशासन होगा.

sorce

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *