Breaking News
Home / खबर / कौन है IPS मनीष अग्रवाल व IAS इंद्र सिंह राव जिनका लॉकडाउन जिनका जेल में बिता? आए बहार…..

कौन है IPS मनीष अग्रवाल व IAS इंद्र सिंह राव जिनका लॉकडाउन जिनका जेल में बिता? आए बहार…..

नियामो के अनुसार देश की रक्षा करना पहला कर्तव्य है.देश की रक्षा करने वाले ही जब भक्षक बनजाए तब विश्वास योग्य वयक्ति ही विशवास को तार तार करदेते है.अब ऐसा ही मामला राजस्थान से सामने आया है महामारी के चलते लॉकडाउन के समय में दो ऐसे ऑफिसर जिनको खुद ही सलाखों के पीछे अपना जीवन बिताना पड़ा.हम बात कर रहे हैं घूसखोर आईपीएस मनीष अग्रवाल दूसरे आईएएस इंद्र सिंह राव के बारे में दोनों ही घूसखोर हैं और इन को निलंबित भी कर दिया है.यह दोनों ही राजस्थान के रिश्वतखोर अफसरों की श्रेणी में आते हैं. आब दोनों ही जेल से बाहर आ गए हैं राजस्थान हाई कोर्ट के न्यायाधीश पंकज भंडारी की अदालत ने निलंबित आईपीएस मनीष अग्रवाल की जमानत मंजूर कर ली है. याचिकाकर्ता की ओर से अधिवक्ता विवेकराज सिंह बाजवा ने और शिकायतकर्ता की ओर से अधिवक्ता पदम सिंह गुर्जर ने पैरवी की है.


आईपीएस निलंबित इंद्र सिंह राव को भी राजस्थान हाईकोर्ट से राहत मिल गई है. राजस्थान हाई कोर्ट के न्यायाधीश पंकज भंडारी की अदालत ने ही इंद्र सिंह राव को भी दूसरी जमानत याचिका मंजूर की है.इस केस में याचिकाकर्ता की ओर से अधिवक्ता एसएस होरा ने पैरवी की है.आपकी जानकारी के लिए बता दें आईएएस इंद्र सिंह राव दिसंबर 2020 में राजस्थान के बारा  जिला मे कलेक्टर थे. जब इन्हें राजस्थान भ्रष्टाचार निरोधक ब्यूरो की टीम ने पेट्रोल पंप का अनापत्ति प्रमाण पत्र जारी करने के बदले अपने निजी सचिव महावीर नागर के द्वारा 40 हज़ार की रिश्वत लेते 11 दिसंबर 2020 को पकड़ा था. तब राव जेल में थे. आईपीएस मनीष अग्रवाल 6 माह बाद जेल से बहार आए हैं.यह राजस्थान के दौसा जिले के एसपी हुआ करते थे.दौसा जिले से भारत माला प्रोजेक्ट के तहत दिल्ली मुंबई हाईवे का निर्माण पर कंपनी से 38 लाख की रिश्वत के मामले में एसीबी ने मनीष अग्रवाल को इसी वर्ष फरवरी में पकड़ा था.

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *