Breaking News
Home / खबर / 9 महीने से लापता महिला कांस्टेबल वृंदावन में बेच रही थी फूल, कहा- अफसरों से थी परेशान

9 महीने से लापता महिला कांस्टेबल वृंदावन में बेच रही थी फूल, कहा- अफसरों से थी परेशान

छत्तीसगढ़ की एक महिला कॉन्स्टेबल उत्तर प्रदेश के वृंदावन में फूल बेचती मिली है. ये लेडी कॉन्स्टेबल रायपुर में तैनात थी. कुछ महीने पहले लापता हो गई थी. तब से रायपुर पुलिस उसकी तलाश में थी. अब उसका वृंदावन में पूजा का सामना बेचते हुए दिखना चर्चा में ह.हिंदी अखबार दैनिक भास्कर ने खबर दी है कि छत्तीसगढ़ पुलिस ने महिला कॉन्स्टेबल अंजना सहिस को वृंदावन में देखा. वो वहां फूल बेच रहीं थीं. अखबार के मुताबिक, छत्तीसगढ़ पुलिस ने अंजना सहिस को अपने साथ वापस लाने की कोशिश की, लेकिन उन्होंने लौटने से इनकार कर दिया. अंजना का आरोप है कि पुलिस विभाग में उन्हें परेशान किया जा रहा था. महिला कॉन्स्टेबल ने उन्हें ले जाने आई पुलिस से कहा कि वो वृंदावन में ही रहना चाहती हैं.

क्या है मामला?

दैनिक भास्कर के मुताबिक, पिछले साल अंजना सहिस रायगढ़ में पोस्टेड थीं. 9 महीने पहले उनका रायपुर पुलिस हेडक्वार्टर में तबादला किया गया था. यहां CID में पोस्टिंग के दौरान अंजना अचानक एक दिन लापता हो गईं. उनके परिवार या विभाग को इसके कारणों की कोई जानकारी नहीं थी. बाद में परिवार ने अंजना की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई, जिसके बाद पुलिस ने महिला कॉन्स्टेबल की तलाश शुरू की.

राजेंद्र नगर पुलिस स्टेशन के प्रभारी विशाल कुजुर ने दैनिक भास्कर को बताया कि अंजना को ढूंढना आसान नहीं था. उनका मोबाइल नंबर पुलिस के पास नहीं था. विशाल कुजुर ने बताया,…हम लगातार अंजना को ट्रेस करने की कोशिश में थे. हमारे पास उनका कोई फोन नंबर भी नहीं था. जांच के दौरान हमें उनके बैंक अकाउंट से कुछ जानकारी मिली. ट्रांजैक्शन से मालूम हुआ कि वे वृंदावन के कुछ ATM से किए गए थे. इसके बाद हमारी एक टीम वहां पहुंची. उसने कई लोगों को अंजना की तस्वीर दिखाई, जिसके बाद उनका ठिकाना पता चला.

खबर के मुताबिक, पुलिस वृंदावन के एक कृष्ण मंदिर पर पहुंची. वहां उसे अंजना पूजा का सामान बेचते नजर आईं. अफसरों ने लेडी कॉन्स्टेबल से कहा कि उन्हें वापस चलना चाहिए. लेकिन अंजना ने इससे इनकार कर दिया. पुलिस ने उनकी मां से भी बात कराई. लेकिन वो तब भी नहीं मानीं. खबर के मुताबिक, अंजना ने पुलिस से कहा,“ना मेरा परिवार है और ना रिश्तेदार. मैं अब यहीं रहना चाहती हूं.

अफसरों पर परेशान करने का आरोप

दैनिक भास्कर ने बताया है कि अंजना का घर रायपुर के महावीर नगर में है. उनकी मां और पुलिस मुख्यालय से जुड़े सूत्रों ने अखबार को बताया कि कथित रूप से कुछ अफसरों की हरकतों से तंग आकर अंजना नौकरी छोड़ना चाहती थीं. हालांकि पुलिस टीम के कई बार पूछने पर भी अंजना ने ये नहीं बताया कि उन्हें किस तरह की समस्या थी और कौन से अधिकारी थे जो उन्हें परेशान कर रहे थे.सूत्रों से अखबार को केवल यही पता चला है कि नौकरी के दौरान अंजना परेशान रहती थीं. उन्होंनें अपने साथी कर्मचारियों से कई बार कहा था कि वो अपने ड्यूटी रुटीन और कुछ अधिकारियों से तंग आ चुकी हैं और वृंदावन जाकर रहना चाहती हैं.

आजतक से जुड़े नरेश शर्मा ने हमें बताया कि कुछ साल रायगढ़ पुलिस में रहने के बाद अंजना को रायपुर भेज दिया गया था. वहां उनकी पहचान शिकायत करने वाली पुलिसकर्मी की बन गई थी. नरेश शर्मा के मुताबिक, अंजना ने अपने साथी पुलिस कर्मियों की अलग से शिकायतें की थीं, जो जांच में झूठी पाई गईं. उसके बाद उन्हें रायपुर पुलिस हेडक्वार्टर ट्रांसफर किया गया था.कुछ स्थानीय मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, पुलिस टीम को देखकर अंजना ने काफी हंगामा किया. वे बड़ी मुश्किल से नजदीकी थाने चलकर बयान देने को राजी हुईं. बताया गया है कि काफी बहस के बाद रायपुर पुलिस की टीम अंजना से सहमति पत्र लेकर वापस लौट गई.

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *