Breaking News
Home / खबर / कोर्ट में बीवी बोली- पति बहुत प्यार करता है, कभी नहीं लड़ता, हर गलती माफ कर देता है, तलाक चाहिए

कोर्ट में बीवी बोली- पति बहुत प्यार करता है, कभी नहीं लड़ता, हर गलती माफ कर देता है, तलाक चाहिए

हम अक्सर सुनते हैं कि पति-पत्नी में मामूली सी बात को लेकर कहासुनी हो गई या फिर झगड़ा हो गया. कई बार तो नौबत तलाक तक आ जाती है. भारत में तलाक मानो जैसे आम सी बात हो गई है. वैसे तो शादी के पवित्र बंधन को तोड़ने वाला ये काम नहीं करना चाहिए लेकिन अगर पति में किसी बात को लेकर सहमति नहीं बन पा रही है और घर में आए दिन झगड़े होते हैं तो वे इस विकल्प को तलाशते हैं.

भारत में तलाक दो तरीकों से लिया जाता है. पहला आपसी सहमति से और दूसरे तरीके में पति या पत्नी से में से सिर्फ एक ही तलाक लेना चाहता है, दूसरा नहीं. आपसी सहमति से तलाक लेना देश में बहुत आसान है. तलाक की बात आते ही गुजारा भत्ता और चाइल्ड कस्टडी की बात आती है. गुजारे भत्ते की लिमिट फिक्स नहीं होती है. इसको पति- पत्नी बैठकर तय कर सकते हैं. इस मामले में कोर्ट पति की आर्थिक हालत को देखकर गुजारे भत्ते का फैसला करती है. अगर कोर्ट को लगता है कि पति की आर्थिक स्थिती अच्छी है तो पत्नी को ज्यादा भत्ता मिलता है.

वहीं चाइल्ड कस्टडी तलाक में एक बहुत बड़ा पेंच साबित होता है. तलाक के बाद अगर पति पत्नी की सहमति है तो दोनों ही बच्चों की देखभाल कर सकते हैं. भारत में ये कानून है कि अगर बच्चे की उम्र सात साल से कम है तो बच्चा मां को सौंपा जाता है वहीं अगर बच्चे की उम्र सात साल से ज्यादा है तो उसे पिता को सौंपा जाता है. हालांकि इसमें ये भी प्रावधान है कि अगर पिता कोर्ट में ये साबित कर दे कि वे मां से ज्यादा अच्छी देखभाल कर सकता है तो कोर्ट सात साल से कम उम्र वाले बच्चों की कस्टडी भी मां को सौंप देती है.

उत्तर प्रदेश के संभल जिले में एक ऐसा मामला सामने आया है जिस पढ़कर आप असमंजस में पढ़ जाएंगे,एक पति जो अपनी पत्नी के लिए दुनिया का बेस्ट हसबैंड बनने की कोशिश कर रहा था उसकी इस कोशिश ने उसे कचहरी में ला खड़ा किया,पत्नी से इस शख्स ने कभी लड़ाई नहीं की, किसी बात को लेकर अनबन भी नहीं हुई। पत्नी की हां में हां मिलाते हुए इस शख्स ने शादी के बाद के 18 महीने इसी प्यार और जतन में बिता दिए, उसे क्या पता था कि प्रेम की उसकी इस बाढ़ लहरें उस पर ही कहर बनकर टूटेंगी, पत्नी कोर्ट में पहुंची और शिकायत दर्ज कराई कि उसका पति उससे कभी लड़ाई नहीं करता है इसलिए उसे तलाक चाहिए,

पत्नी का कहना है कि उसका पति खाना बनाने में भी मदद करता हैं,वह अगर कोई गलती कर दे तो वह उसे माफ भी कर देता है,पत्नी का कहना है कि वह ऐसा पति नहीं चाहती जो हर बात पर सहमत हो, शरिया कोर्ट में पहुंची इस महिला ने पति से तलाक की अर्जी तक लगा दी, हालांकि कोर्ट ने उसके तलाक के कारण सुनकर उसकी अर्जी खारिज कर दी। कोर्ट ने कहा कि उसके पास तलाक के लिए कोई और वाजिब कारण हो तो बताए, इस पर महिला ने कहा और कोई बात नहीं है,

 

वहीं महिला के पति का कहना है कि उसे नहीं लगता कि उसने कुछ गलत किया है,वह तो बस दुनिया का सबसे अच्छा पति बनना चाहता था, महिला के पति ने कोर्ट से अपील की कि महिला उसके खिलाफ मामले वापस ले ले। कोर्ट ने महिला की अर्जी वापस कर दी और दोनों को आपस में मामला सुलझाने को कहा.

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *