Breaking News
Home / खबर / समंदर में 2 बच्‍चों के साथ 4 दिन तक तैरती रही एक मां, खुद भूखी रही बच्चों को स्तनपान करवाकर रखा जिन्दा

समंदर में 2 बच्‍चों के साथ 4 दिन तक तैरती रही एक मां, खुद भूखी रही बच्चों को स्तनपान करवाकर रखा जिन्दा

दोस्तों आपने कई बार सुना होगा कि मां अपने बच्चों के लिए जान की बाज़ी तक लगा देती है, कई बातें कहानियों और किस उम्र में ही सुनने को मिलती हैं लेकिन मां को लेकर जिंदगी की सच्चाई में कई ऐसे किस्से और हादसे सुनने को मिलते हैं जहां मां ने अपने बच्चों के लिए खुद के जीवन के बारे में नहीं सोचा हो. मां वह शख्सियत है जो खुद को मिटा कर भी अपने बच्चों को जीवन देना चाहती है बड़ी से बड़ी कठिनाई में भी वह हार नहीं मानती क्योंकि जब बात 1 माह के सामने उसके बच्चों के जीवन की होती है तो वह अपने बच्चों को बचाने के लिए जमीन आसमान एक कर देती है.

आज हम आपको एक ऐसी ही जवान मां की कहानी सुनाने जा रहे हैं जिसने खुद की जान गवा कर अपने बच्चों को जीवनदान दिया.जानकारी के अनुसार अमेरिका में यह हादसा हुआ जहा अपने बच्चों को भूक से तडपता देख कर मां ने लगातार चार दिन तक उन्हें स्तनपान कराया.दुर्भाग्या ये था की माँ भी खुद भूखी थी, 3 सितंबर को “वेनेजुएला से ला टॉर्टुगा” जाने के लिए एक शिप रवाना हुयी जिसमें 9 लोग बैठे हुए थे। इन्हीं 9 लोगों में 40 वर्ष की “मैरिली चाकोन” नाम की महिला अपने पति, बच्चों नैनी के साथ सवार हुयी,

( 6साल का बेटा और 2 साल की बेटी ) और 25 साल की वेरोनिका [बच्चो की नैनी ] भी शिप में सवार थी। शायद ही सफर पर जाते समय इन लोगों ने सोचा हो कि यह अंतिम बार इस तरह से सफर कर रहे हैं, कैरिबियाई क्षेत्र में इनके साथ बड़ा हादसा हुआ और तेज लहरों से टकराकर उनकी शिप टूट गई। इस दौरान शिप का कुछ हिस्सा डूब गया, और कुछ हिस्सा एक फ्रीज समुद्र पर तैरता हुआ दिखा। मैरिली के पति समंदर में गिर चुके थे,अब ये माँ अपने बच्चो को खोना नहीं चाहती थी,उस ने तुरंत अपने दोनों बच्चों को शिप के उस टूटे हुए हिस्से पर बैठा दिया और वह खुद बच्चों की दाई के साथ पानी में तैरती रही,पर अभी जान बचाना आसान नहीं था,

मैरिली चाकोन अपने बच्चों को किसी भी कीमत पर खोना नहीं चाहती थी ऐसे में एक मा ने अपने बच्चों को बचाने के लिए खुद की जान दाव पर लगा दी,बीच समंदर बच्चे भूक और प्यास से तड़प रहे थे,मैरिली ने अपने बच्चों को जिंदा रखने के लिए स्तनपान कराने का रास्ता सोचा,पर पानी ना होने के कारण मेरिली को स्तानपान करने से डिहाइड्रेशन हो गया,और हएड्रेड रहने के लिए उसने अपना ही यूरिन पीना शुरू किया,साथ ही बच्चों को 4 दिन तक स्तनपान कराती रही, मेरिली अपने बच्चों को बचाने में तो कामयाब हो गई लेकिन खुद वो ज़िन्दगी से हार गयी.

जब रेस्क्यू टीम मैरिली के पास पहुंची तो वह उस टूटे हुए हिस्से पर अचेत अवस्था में पाई गई और उसके दोनों बच्चे उसे लिपटे हुए थे, हालांकि बच्चों और नैनी को बचा लिया गया लेकिन इनकी हालत बेहद खराब थी,रेस्क्यू टीम के मुताबिक, उनके वहां पहुंचने से पहले ही मा के शरीर मे पानी की कमी के कारण वो दुनिया को छोड़कर चली गयी । वहीं बच्चे और उनके साथ नैनी को भी डिहाइड्रेशन हो गया था,

और अधिक धूप के कारण उनका शरीर भी काफी जल चुका था। वैरोनिका अपनी जान बचाने के लिए शिप के ऊपर से गिरे फ्रिज के अंदर चली गई जिससे उसकी जान बच गई. बच्चे और नैनी अभी अस्पताल में हैं और उनका इलाज चल रहा है वही बच्चों के सर से मां का साया तो उठ गया और उनके पिता भी अभी लापता हैं रेस्क्यू टीम ने बताया कि वोट में 9 लोग थे जिसमें से 5 अभी तक लापता है.

About Anant Kumar

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *